मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> सीएम पद छोड़कर कांग्रेस में बाहुबली बने सिंधिया

सीएम पद छोड़कर कांग्रेस में बाहुबली बने सिंधिया

नई दिल्ली 27 दिसंबर 2018 । तीन राज्यों में कांग्रेस जीती लेकिन उसके नेताओं ने ही राजनीति की वजह से पार्टी की अंतर्कलह सामने ला दी। तीनों राज्यों में सीएम पद के दो दावेदार रहे। सचिन पायलट तो राजस्थान में मुख्यमंत्री बनने पर अड़ गए थे लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बेहद समझदारी दिखाई और पार्टी के फैसले के साथ जाकर उन्होंने कमलनाथ के लिए सीएम की कुर्सी छोड़ दी। इससे पार्टी खुश है और उनको बड़ा इनाम देने की तैयारी हो रही है। आइए जानें वो इनाम क्या हो सकता है।

राहुल गांधी और कमलनाथ के बीच दिल्ली में हुई चर्चा
मध्य प्रदेश में सरकार बनते ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अब ज्योतिरादित्य सिंधिया के त्याग का उनको इनाम देने की ठान ली है। उन्होंने हाल ही में कमलनाथ को दिल्ली बुलाकर मंत्रिमंडल पर तो चर्चा की ही थी, साथ ही सिंधिया के बारे में भी गंभीरता से चर्चा की।

सिंधिया को कांग्रेस में मिल सकता है ये बड़ा पद
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सिंधिया को कांग्रेस का राष्ट्रीय महासचिव जैसा प्रमुख पद दे सकते हैं। इसको लेकर बात हो चुकी है। कांग्रेस आलाकमान बस कर्नाटक के प्रभारी केसी वेणुगोपाल की वजह से अंतिम फैसला नहीं ले सका है। सिंधिया को इस पद के लिए बस वही टक्कर दे रहे हैं। हालांकि राहुल गांधी अपने दोस्त सिंधिया को ही ये बड़ा पद देने का मन बना चुके हैं।

15वीं विधानसभा का प्रथम सत्र 7 जनवरी से 11 जनवरी 2019 तक

मध्यप्रदेश की 15वीं विधानसभा का प्रथम सत्र सोमवार 7 जनवरी 2019 से 11 जनवरी 2019 तक आयोजित किया जाएगा। इस 5 दिवसीय सत्र में 5 बैठकों का आयोजन होगा।

अपर सचिव मध्यप्रदेश विधानसभा से प्राप्त जानकारी के अनुसार 7 जनवरी,2019 सोमवार को शपथ/प्रतिज्ञान, 8 जनवरी, मंगलवार को शपथ/प्रतिज्ञान, अध्यक्ष का निर्वाचन, राज्यपाल का अभिभाषण, राज्यपाल के अभिभाषण पर कृतज्ञता ज्ञापन प्रस्ताव, 9 जनवरी, बुधवार को निधन का उल्लेख, शासकीय कार्य, 10 जनवरी, गुरूवार को शासकीय कार्य, राज्यपाल के अभिभाषण पर कृतज्ञता ज्ञापन प्रस्ताव पर चर्चा, 11 जनवरी, शुक्रवार को शासकीय कार्य, राज्यपाल के अभिभाषण पर कृतज्ञता ज्ञापन प्रस्ताव पर चर्चा की जाएंगी।

वरिष्ठ् विधायक एन पी प्रजापति सहित 190 विधायकों ने अभी तक औपचारिकताएं पूर्ण की

विधान सभा सचिवालय में औपचारिकताएं पूर्ण करने वालों में आज प्रमुख वरिष्‍ठ विधायक नर्मदा प्रसाद प्रजापति,रामपाल सिंह के साथ विधायक रामेश्वकर शर्मा, ठाकुर सुरेन्द्रन सिंह नवल सिंह (शेरा भैया), ओ.पी. एस. भदौरिया, रामलाल मालवीय, मुकेश रावत, सुरेश धाकड़,गिरिराज दण्डोलतिया सहित आदि हैं। प्रजापति के साथ सचिवालय के प्रमुख सचिव ए.पी. सिंह सहित अधिकारियों ने सौजन्य चर्चा की तथा सदस्योंर को प्रमुख सचिव द्वारा स्वाशगत किया गया ।
प्रमुख सचिव श्री ए.पी. सिंह ने बताया कि संसदीय संघ-राष्ट्रकुल-विधायक क्लाब के 121 सदस्य् अभी तक पंजीयन हुये है। संसदीय संघ द्वारा संसदीय ज्ञान, प्रसार, जागरूकता तथा विभिन्न प्रकार की संगोष्ठिया तथा सेमीनार आयोजित किये जाते है तथा राज्यर स्तारीय-अंतर्राष्ट्रीय सत्र के अध्यन दौरे भी आयोजित होते है, विधायक क्लब का मुख्य कार्य स्वयं विधायकों द्वारा सांस्कृेतिक एवं मनोरंजन कार्यक्रम आयोजित किये जाते है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

मिंटो हॉल का नाम अब BJP के पूर्व अध्यक्ष कुशाभाऊ ठाकरे पर, सीएम शिवराज सिंह चौहान का ऐलान

भोपाल 27 नवंबर 2021 । मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ऐलान किया है …