मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> सिंधिया कांग्रेस अध्यक्ष बने तो MP के लिए गर्व की बात: कैलाश विजयवर्गीय

सिंधिया कांग्रेस अध्यक्ष बने तो MP के लिए गर्व की बात: कैलाश विजयवर्गीय

भोपाल 30 जुलाई 2019 । कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चल रही बातों के बीच भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने बड़ा बयान दिया है. विजयवर्गीय ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया का समर्थन करते हुए कहा कि सिंधिया यदि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने तो यह मध्य प्रदेश के लिए गौरव की बात होगी.

दरअसल, कैलाश विजयवर्गीय सोमवार (29 जुलाई) को मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में थे. वहां वे नवनियुक्त राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात करने आए थे. राज्यपाल से मुलाकात के बाद कैलाश विजयवर्गीय बीजेपी प्रदेश कार्यालय पहुंचे और वहां पत्रकारों से मुखातिब हुए.

इसी दौरान जब पत्रकारों ने उनसे कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए सिंधिया की उम्मीदवारी से जुड़ा सवाल पूछा तो कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘मेरी शुभकामनाएं सिंधिया जी को कि वे राष्ट्रीय अध्यक्ष बने. यह मध्य प्रदेश के लिए गौरव की बात होगी, अगर वे कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनते हैं तो.’

सरेआम करेंगे मिशन एमपी की घोषणा

जयपुर में मिशन एमपी वाले बयान पर भी कैलाश विजयवर्गीय ने भोपाल में सोमवार को दोबारा कहा कि बीजेपी मिशन एमपी की घोषणा सरेआम करेगी. पत्रकारों ने जब सवाल पूछा कि मिशन एमपी कब शुरू होगा तो विजयवर्गीय ने कहा कि बताएंगे आपको,आगे कहा कि सरेआम घोषणा करके बताएंगे कि मिशन एमपी चालू हो गया है.

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘मैंने हमेशा यही कहा है कि मैं मिशन बंगाल में ही हूं मैंने ऐसे नहीं कहा है कि मैं मध्य प्रदेश के मिशन में भी हूं और बंगाल का मिशन अभी 21 तक चलता रहेगा.’ विजयवर्गीय से जब सवाल पूछा गया कि जयपुर में उन्होंने मिशन एमपी कहा तो विजयवर्गीय ने सफाई देते हुए कहा, ‘ऐसा मैंने नहीं कहा. सारे देश में सदस्यता अभियान चल रहा है. सदस्यता का मिशन हमारा सभी दूर है. उसी संदर्भ में पूरे देश में हमारा प्रवास चल रहा है. कल जयपुर में भी था. लगातार राष्ट्रीय पदाधिकारियों के प्रवास चल रहे हैं इस संदर्भ में मैंने कहा था.’

बता दें कि कैलाश विजयवर्गीय से बीते रविवार को जब मध्य प्रदेश में सत्ताधारी कांग्रेस के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बयान में कहा कि कर्नाटक में कैबिनेट गठन के बाद एक नया मिशन शुरू किया जाएगा.

ईओडब्ल्यू की कार्रवाई से डरेंगे नहीं

इसके अलावा कैलाश विजयवर्गीय ने शिवराज सरकार में मंत्री नरोत्तम मिश्रा के दो पूर्व सहयोगियों पर ईओडब्ल्यू की कार्रवाई पर कहा, ‘हम सरकार की गीदड़ भभकी से डरने वाले नहीं हैं और सरकार यदि अपनी सत्ता का दुरुपयोग करेगी तो हमें जवाब देना आता है. सही समय आने पर हम उसका जवाब दे देंगे. हम इससे से डरने वाले नहीं है.’

आकाश विजयवर्गीय पर कार्रवाई नहीं होने के सवाल पर कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘कांग्रेस से राय लेकर हम कार्रवाई करेंगे. कांग्रेस से पूछेंगे कि भारतीय जनता पार्टी को कैसे कार्रवाई करनी चाहिए, कैसे नोटिस देना चाहिए. हमारे संगठन में भी कांग्रेस राय देगी जो कि अब तक अपना राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं बना पाए, अभी उनका राष्ट्रीय अध्यक्ष कौन होगा यह राहुल गांधी को भी नहीं मालूम है.’

कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी की ईडी द्वारा पूछताछ के बारे में कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘देखिए यह हमारे लिए संयोग है कि कमलनाथ जी मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बन गए हैं, लेकिन वो विशुद्ध व्यवसाई हैं. वो व्यवसाय कर रहे हैं. उनके परिवार के लोग व्यवसाय कर रहे हैं तो ईडी, इनकम टैक्स और सीबीआई से तो उनका आमना-सामना होता रहता है.’

मंगलवार के बाद मध्य प्रदेश में कभी भी रंग ला सकता है ‘ऑपरेशन लोटस’ !

कर्नाटक में सरकार गठन के बाद बीजेपी अब श्यामला हिल्स और बल्लभ भवन की प्राचीर पर एक बार फिर कमल छाप परचम लहराने के मूड में हैं। बीजेपी के ये तेवर बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बयानों से जाहिर हो रहे हैं। बीजेपी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय कर्नाटक में कैबिनेट के गठन के बाद ‘नया मिशन’ लॉन्च किया जाएगा। मध्य प्रदेश के राजनीतिक हालात को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने यह बात कही। कैलाश विजयवर्गीय ने यह बयान जयपुर में मीडियाकर्मियों के एक सवाल के जवाब में दिया।

मध्य प्रदेश को लेकर पूछने पर विजयवर्गीय ने कहा, ‘कर्नाटक में कैबिनेट के गठन के बाद नए मिशन की शुरुआत की जाएगी। हमारी यह इच्छा नहीं है कि मध्य प्रदेश की सरकार गिर जाए, लेकिन कांग्रेस के विधायकों को ही अनिश्चितता है।’ मध्य प्रदेश के दिग्गज नेता ने कहा कि सूबे के कांग्रेस विधायकों को अपनी ही सरकार पर भरोसा नहीं है और गुटबाजी की स्थिति है।

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि कांग्रेस विधायकों को अपनी सरकार पर यकीन नहीं है और वे मानते हैं कि पीएम नरेंद्र मोदी नेतृत्व अच्छा है। कर्नाटक में सरकार के गिरने को लेकर उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार अपने ही कर्मों के चलते गिरी है। कैलाश विजयवर्गीय जयपुर में बीजेपी कार्यालय आए थे और पार्टी के नेताओं से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने पार्टी ऑफिस में ही पीएम मोदी का ‘मन की बात’ कार्यक्रम भी सुना।

कैलाश विजयवर्गीय भले ही मध्य प्रदेश में नया मिशन शुरू करने की बात कर रहे हैं, लेकिन हाल ही में एक विधेयक को लेकर पार्टी के दो विधायकों ने कांग्रेस का समर्थन कर दिया था। बीजेपी के दो विधायकों ने मध्यप्रदेश ‘दंड विधि संशोधन विधेयक’ पर कमलनाथ सरकार को पक्ष में मतदान किया था। जिससे मध्यप्रदेश में बीजेपी को मुंह की खानी पड़ी। लेकिन अगर कैलाश विजयवर्गीय कुछ कहते हैं तो उसके भी कुछ मायने होते हैं। ऐसा मध्यप्रदेश के राजनीतिक समीक्षकों का कहना है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

31 जुलाई तक सभी बोर्ड मूल्यांकन नीति के आधार पर जारी करें परिणाम, सुप्रीम कोर्ट ने दिए आदेश

नई दिल्ली 24 जून 2021 । देश के सभी राज्य बोर्डों के लिए समान मूल्यांकन …