मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> दिल्ली-मुंबई रूट पर ही दौड़ेगी दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस

दिल्ली-मुंबई रूट पर ही दौड़ेगी दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस

नई दिल्ली 3 जून 2019 । दिल्ली-वाराणसी रूट पर न ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ (Vande Bharat Express) की शानदार सफलता के बाद भारतीय रेलवे ने देश की इस सबसे तेज चलने वाले ट्रेन को दिल्ली-मुंबई रूट पर भी उतारने का फैसला किया है। हालांकि अभी तक तारिख की आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। इस ट्रेन के चलने से इस रूट पर यात्रियों की यात्रा का समय 4-5 घंटे तक कम हो सकता है। आपको बता दें कि भारत में निर्मित इस ट्रेन को इसी साल 14 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था।

द ट्रिब्यून की एक रिपोर्ट के अनुसार, दूसरी वंदे भारत को तमिलनाडु स्थित इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में तैयार किया जा रहा है। मुंबई-दिल्ली रूट पर उतरने वाले ट्रेन 18 (Train 18) को नई सुरक्षा सुविधाओं के साथ उतारा जाएगा। इतना ही नहीं, इस ट्रेन के आंतरिक और बाहरी डिजाइन में कई बड़े बदलाव भी किये गए हैं।

बताया जा रहा है कि इस ट्रेन को पहली वंदे भारत की कमियों को देखते हुए तैयार किया गया है। कुछ लोगों से सुझाव दिया था कि इसमें स्लीपर कोच भी होने चाहिए। हालांकि इस बारे में भारतीय रेलवे सोच-विचार कर रहा है। रेलवे के एक अधिकारी के अनुसार, इस ट्रेन में कई बड़े बदलाव हुए हैं। कुर्सियों में कुछ बदलाव किये गए हैं जिन्हें झुकाया जा सकता है और थोड़ा आगे पीछे किया जा सकता है। इसके अलावा खाना रखने वाली जगह ट्रे को भी बदला गया है।

इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (ICF) ने दूसरी ट्रेन को कुछ खास बदलावों के साथ तैयार किया है। पहली ट्रेन पर पत्थरबाजी को देखते हुए इस बार ट्रेन में मजबूत शीशें लगाये जा रहे हैं। शीशों को पथराव से बचाने के लिए खिड़कियों में विशेष फ्रेम होंगे। इतना ही इसमें पहली ट्रेन की तुलना में बड़ी पेंट्री भी होगी। बड़ी पेंट्री करने के उद्देश्य यह है कि ये ट्रेन लंबी दूरी वाले रूट पर चल सकती है जिससे यात्रियों को दो बार भोजन परोसा जाता है, इसलिए अधिक भंडारण स्थान की आवश्यकता होती है।

पूरी ट्रेनएसी और चेयर कार वाली है, जिसमें 16 कोच होंगे। इनमें से दो एक्जीक्यूटिव चेयर कार और बाकी सामान्य चेयर कार वाले कोच होंगे। ट्रेन का पहला और आखिरी कोच दिव्यांगों के लिए होगा। ट्रेन के चलने से पहले दरवाजे स्वयं बंद हो जाएंगे। पहले कोच से लेकर अंतिम कोच तक जाने के लिए ट्रेन के अंदर दरवाजे लगाए गए हैं। ट्रेन के रुकने के समय कोच के अंदर से सीढ़ियां बाहर निकलेंगी।
बताया जा रहा है कि ये ट्रेन दिल्ली से मुंबई के बीच का 1358 किलोमीटर का सफर 12 घंटे में तय करेगी। अगर मुंबई राजधानी एक्सप्रेस की बात करें, तो इस सफर को लगभग 16 घंटे में पूरा करती है। इसका मतबल यह हुआ कि यात्रियों को बेहतर सुविधाएं मिलने के साथ-साथ उनके लगभग चार घंटे की बचत होगी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- ‘कांग्रेस न सदन चलने देती है और न चर्चा होने देती’

नई दिल्ली 27 जुलाई 2021 । संसद शुरू होने से पहले भाजपा संसदीय दल की …