मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> शाह बोले- ममता ने सीएए पर अल्पसंख्यकों को भड़काया

शाह बोले- ममता ने सीएए पर अल्पसंख्यकों को भड़काया

नई दिल्ली 2 मार्च 2020 । केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ममता बनर्जी पर अयोध्या में राम मंदिर का विरोध करने का आरोप लगाया। कोलकाता में ‘हम अन्याय नहीं सहेंगे’ अभियान की शुरुआत करते हुए रविवार को उन्होंने कहा- ममता दीदी ने कांग्रेस, सपा, बसपा, वामपंथियों के साथ मिलकर राम मंदिर का विरोध किया। ममता ने अनुच्छेद 370 हटाने का विरोध किया और नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ अल्पसंख्यकों को भड़काया। इस बीच, राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि दिल्ली कुछ दिनों से जल रही है। उन्होंने कहा- केंद्र की सत्ताधारी पार्टी दिल्ली चुनाव नहीं जीत सकी इसलिए उसने सांप्रदायिकता फैलाकर समाज को बांटने की कोशिश की।

शाह ने कहा, “लोकसभा चुनाव के दौरान दीदी आपने ने हमें खूब रोकने की कोशिशें कीं। हैलिकॉप्टर नहीं उतरने दिया। रैलियां नहीं करने दी। भाजपा कार्यकर्ताओं पर गोलियां चलवाईं। बंगाल में दंगे करवाए, ट्रेन जलवाई, बेगुनाहों की हत्या करवाई। हमारे 40 से ज्यादा कार्यकर्ताओं को मरवा दिया। हम पर लाठियां चलवाईं, लेकिन हमने और हमारे कार्यकर्ताओं ने हार नहीं मानी। बंगाल की जनता ने हमें उतनी ही मजबूती से जीत दिलाई।” शाह ने लोगों से अपील की- आपने तृणमूल और वामपंथियों को इतने साल दिए। आप हमें पांच साल दे दीजिए, हम पश्चिम बंगाल को सोनार बांग्ला बना देंगे।

शाह ने कहा कि पश्चिम बंगाल को टीएमसी और वामपंथियों ने कर्ज में डुबा दिया। बंगाल पर तीन लाख करोड़ रुपये का कर्ज है। प्रधानमंत्री मोदी की योजनाएं भी ममता दीदी पश्चिम बंगाल में लागू नहीं होने देती हैं। उन्होंने बंगाल के विकास का पहिया रोक दिया है। किसानों के लिए लॉन्च की गई प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना को लागू नहीं किया। किसान कर्ज में डूबे हैं, लेकिन ममता दीदी अहंकार में हैं। बंगाल में भ्रष्टाचार व्याप्त है। सरकार के संरक्षण में सिंडिकेट चल रहा है। भाजपा की सरकार बनने के बाद ऐसे लोगों को जेल भेजेंगे।
ममता दीदी ने पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा पर रोक लगाई। पूजा करने के लिए लोगों को हाईकोर्ट जाना पड़ा। वह रामनवमी नहीं मानने देती हैं। स्कूलों में सरस्वती पूजा बंद करवा दी। शाह ने रैली में अन्याय, भ्रष्टाचार, परिवारवाद, दंगा, बेरोजगारी, टोलबाजी के खिलाफ नारे लगवाए। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, रैली में देश के गद्दारों को, गोली मारो… की नारेबाजी भी हुई।
जवानों के लिए 100 दिन परिवार के साथ रहने की नीति बनेगी

रैली से पहले शाह ने पश्चिम राजारहाट में एनएसजी के नए परिसर का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा- देश की सुरक्षा में लगे जवानों के परिजन और बच्चों की सुरक्षा-सहूलियत की जिम्मेदारी सरकार की है। हम ऐसी नीति तैयार कर रहे हैं, जिससे जवान कम से कम 100 दिन परिवार के साथ रह सकें। हम पूरी दुनिया में शांति चाहते हैं, लेकिन जो हमारी शांति में दखल देंगे, उन्हें उनके घर में घुसकर मारना भी जानते हैं। सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक इसका ताजा उदाहरण है।

अमित शाह के कोलकाता पहुंचने पर तृणमूल कांग्रेस और एआईवाईएल के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने काले झंडे दिखाए और शाह गो बैक की नारेबाजी की। वहीं, दूसरी ओर भाजपा कार्यकर्ताओं ने भी तृणमूल के खिलाफ कोलकाता के कई जगहों पर प्रदर्शन किया।

दंगे में आतंकियों की स्लीपर सेल पर भी शक, जांच एनआईए काे देने की तैयारी

दिल्ली दंगे की जांच में शक की सुई आतंकी संगठनाें की स्लीपर सेल की ओर घूम रही है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के 36 घंटे भारत में रहने के दाैरान हिंसा चरम पर थी। उनकी वापसी के तुरंत बाद हिंसा कम होने लगी। जांच एजेंसियां इसे इत्तेफाक नहीं मान रहीं। हिंसा की टाइमिंग और व्यापकता को देखते हुए यह महज दंगे का मामला नहीं माना जा रहा। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि शुरुआती जांच में बड़ी अंतरराष्ट्रीय साजिश के संकेत मिले हैं। ऐसे में जांच एनआईए को सौंपी जाएगी।

हालांकि, गृह मंत्रालय ने इसकी पुष्टि नहीं की है। एनआईए आतंकवाद के मामलाें की जांच करती है। सूत्रों के मुताबिक, हिंसाग्रस्त इलाकों में आतंकियों की स्लीपर सेल थीं। ट्रम्प की यात्रा के दौरान इन्हें सक्रिय किया गया। गाेली लगने से 13 माैतें होना भी आतंकी साजिश का संकेत माना जा रहा है। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया की भूमिका भी जांची जा रही है। दूसरी तरफ, दिल्ली में हालात सामान्य हाे रहे हैं। धारा 144 में शनिवार सुबह 4 घंटे की छूट दी गई। हालांकि, स्कूल 7 मार्च तक बंद रहेंगे। दंगे में अभी तक 42 माैतें हाे चुकी हैं।

पुलिस और आईबी दंगाइयाें के घर चिह्नित कर रही हैं। फेशियल रिकग्निशन टेक्नाेलाॅजी से भी दंगाइयाें को पहचानकर सूची बनाई जा रही है। दूसरी तरफ, दंगा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दी गई। कांग्रेस ने पुलिस पर एकतरफा जांच का आरोप लगाया है। पार्टी ने प्रदर्शनकारियाें पर गंभीर आरोप वाले सभी मामलाें की जांच के लिए सुप्रीम काेर्ट से एमिकस क्यूरे नियुक्त करने की मांग की है।

जेएनयू के वीसी प्राे. जगदेश कुमार ने छात्राें काे निर्देश दिए हैं कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा के आरोपियों काे कैंपस में रहने के लिए न बुलाएं। कुछ छात्राें ने ऐसे लाेगाें से कैंपस में आकर रहने का खुला आह्वान किया है। वीसी ने कहा कि ये वही छात्र हैं, जो दावा करते थे कि जनवरी में बाहरी लाेगाें ने कैंपस में आकर हिंसा काे अंजाम दिया था।

50 नंबराें की जांच से पता चला कि 30 से 40 वॉट्सऐप ग्रुपाें से भड़काऊ मैसेज भेजे गए। दंगाइयों ने 32 और 9 एमएम की पिस्टल इस्तेमाल की। कई जगह दोपहर 2-3 बजे के बीच एक साथ हिंसा हुई।

पुलिस अभी एफआईआर दर्ज करने में जुटी है। 163 केस दर्ज हुए हैं। पुलिस को 550 से ज्यादा शिकायतें मिली हैं। यानी केस और बढ़ेंगे। सबकी जांच के लिए एनआईए की विशेषज्ञता जरूरी है।

एनआईए की जांच का दायरा दिल्ली से बाहर जाएगा। एजेंसी पता लगा पाएगी कि दंगों में इस्तेमाल हथियार कहां से आए थे। साथ ही कौन-कौन से बाहरी तत्व इसमें शामिल थे।

दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने 100 से अधिक संदिग्ध मोबाइल नंबर वॉट्सऐप काे सौंपकर उनके मैसेज का ब्योरा मांगा है। वहीं, दिल्ली सरकार भी फेक न्यूज और भड़काऊ मैसेज के बारे में शिकायतें लेने के लिए वॉट्सएप नंबर जारी करने पर विचार कर रही है।

आयकर छापामारी के बीच मुख्यमंत्री बघेल ने दिल्ली में सोनिया गांधी से चर्चा की, कहा- कार्रवाई संघीय व्यवस्था के खिलाफ

छत्तीसगढ़ में अफसरों, नेताओं और कारोबारियों के यहां 27 फरवरी से चल रही आयकर विभाग की छापामार कार्रवाई के बीच मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दिल्ली पहुंचे। रविवार की शाम को उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की। उन्होंने कहा, “मैंने राष्ट्रीय अध्यक्ष को घटनाक्रम की जानकारी दे दी है। राज्य सरकार इस पर कानून के जानकारों से चर्चा करके कार्रवाई करेगी। हमें छापे की जानकारी नहीं दी गई। यह संघीय व्यवस्था के खिलाफ है।” बघेल के बयान के बाद अटकलें लगाई जा रही हैं कि आयकर विभाग की इस कार्रवाई के खिलाफ छत्तीसगढ़ सरकार कोर्ट जा सकती है।

इससे पहले, दोपहर में कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने छत्तीसगढ़ में आयकर विभाग के छापों को राज्य की कांग्रेस सरकार के खिलाफ साजिश बताया। भूपेश बघेल शनिवार को भी सोनिया गांधी से मिलने के लिए दिल्ली रवाना हुए थे। लेकिन, दिल्ली में मौसम खराब हो जाने की वजह से उनकी फ्लाइट जयपुर डायवर्ट हुई थी। इसके बाद वे रायपुर लौट आए थे।

आयकर ने 27 फरवरी को सुबह छत्तीसगढ़ में अफसरों, नेताओं और कारोबारियों के यहां छापे मारे थे। 13 लोगों के 32 ठिकानों पर छापे मारे गए थे। इनमें रायपुर के मेयर एजाज ढेबर, पूर्व मुख्य सचिव विवेक ढांड, आईएएस अनिल टुटेजा, सीए अजय सिंघवानी, होटल कारोबारी गुरुचरण सिंह होरा, मेयर के भाई अनवर ढेबर, डॉ. ए फरिश्ता, सीए संजय संचेती और सीए कमलेश जैन के नाम प्रमुख हैं। इन सभी लोगों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का नजदीकी बताया जा रहा है। इसके बाद राज्य की कांग्रेस सरकार ने छापों को लेकर केंद्र सरकार पर हमला शुरू किया।

कारोबारी विकास अग्रवाल के गोलछा अपार्टमेंट स्थित फ्लैट को आयकर टीम ने सील किया।
शनिवार देर रात आयकर विभाग की टीम ने शराब के कारोबार से जुड़े संजय दीवान, सिद्धार्थ सिंघानिया और सीए विकास अग्रवाल के ठिकानों पर जांच शुरू की। रविवार सुबह तक यहां से अहम दस्तावेज मिलने की बात सामने आई। विभाग ने विकास अग्रवाल के फ्लैट को सील कर दिया। कारोबारी गुरु चरण होरा के घर पर 3 दिनों की कार्रवाई भी रविवार सुबह खत्म हो गई। यहां से अफसर 7 से 8 बैग में दस्तावेज और नोट गिनने की मशीनें लेकर लौटे। दूसरी तरफ, भिलाई में मुख्यमंत्री की डिप्टी सेक्रेटरी सौम्या चौरसिया का घर शनिवार को आयकर विभाग की टीम ने सील कर दिया। रविवार को सौम्या के पति सौरभ ने आरोप लगाया कि उन्हें बिना जानकारी दिए घर सील किया गया।

आयकर विभाग की केंद्रीय टीम ने अधिकांश जगह जांच पूरी कर ली। हालांकि, ऑपरेशन को लीड कर रहे कुछ अफसर रायपुर में ही डेरा जमाए हुए हैं। चर्चा है कि शराब कारोबारियों के ठिकानों पर कार्रवाई के दौरान अवैध कमाई के इनपुट मिले हैं, जिनकी तस्दीक के लिए अफसर रायपुर में रुके हुए हैं। शराब कारोबारी अमोलक सिंह भाटिया के बिलासपुर स्थित ठिकानों पर जांच जारी है।

 

सुबह 7.30 बजे: दिल्ली से विशेष विमान के जरिए आयकर के 105 अफसर रायपुर पहुंचे। इनके साथ सीआरपीएफ के 200 जवान भी थे।
सुबह 8 बजे: आयकर की 8 टीमों ने रायपुर के मेयर एजाज ढेबर, पूर्व मुख्य सचिव विवेक ढांड, आईएएस अधिकारी अनिल टुटेजा, सीए अजय सिंघवानी, होटल कारोबारी गुरुचरण सिंह होरा, मेयर के भाई अनवर ढेबर, डॉ. ए फरिश्ता, सीए संजय संचेती और सीए कमलेश जैन के 32 ठिकाने पर एक साथ छापे मारे।
सुबह 11 बजे: एक टीम ने भिलाई में सेक्टर 9 स्थित आबकारी विभाग के ओएसडी अरुणपति त्रिपाठी के बंगले पर छापा मारा।
रात 8 बजे: छत्तीसगढ़ पुलिस ने राज टॉकीज के पास खड़ी आयकर अफसरों की गाड़ियों को जैक लगाकर लॉक किया।
रात 12 बजे: पुलिस सभी गाड़ियों को अवैध पार्किंग में खड़ा बताकर पुलिस लाइन ले गई।
दूसरा दिन, 28 फरवरी

दोपहर 1.30 बजे: भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा ने विधानसभा में आयकर विभाग की गाड़ियों को जब्त करने का मामला उठाया।
आयकर विभाग की टीम मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की उपसचिव सौम्या चौरसिया के भिलाई स्थित बंगले और कारोबारी अनूप बंसल के बंगले पर छापा मारा।
दोपहर 3 बजे: विधानसभा में आयकर विभाग की गाड़ियों का मामला उठने के बाद पुलिस ने आनन-फानन में उनका चालान कर छोड़ा।
शाम 4 बजे: आयकर विभाग की टीम ने जगदलपुर में डॉक्टर समेत 3 कारोबारियों के यहां छापा मारा।
शाम 5 बजे: बंद बंगले का दरवाजा नहीं खुलने पर चाबी बनाने वाले को बुलाया गया। फिर भी दरवाजा नहीं खुला।
शाम 6.30 बजे: छापों को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आपात बैठक बुलाई।
शाम 7.30 बजे: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत पूरे मंत्रिमंडल ने राज्यपाल को ज्ञापन सौंपकर आयकर छापों पर विरोध जताया।
रात 9 बजे: भिलाई में उपसचिव सौम्या चौरसिया के बंगले का दरवाजा नहीं खुलने पर टीम ने वहीं रात बिताई।
रात 10 बजे: बिलासपुर में शराब कारोबारी अमलोक सिंह भाटिया के दयालबंद स्थित घर और फैक्ट्री में तीन टीमों ने छापा मारा।
रात 11 बजे: रायपुर के मेयर एजाज ढेबर और उनके भाई अनवर ढेबर के यहां कार्रवाई पूरी हुई।
तीसरा दिन, 29 फरवरी

सुबह 10 बजे: मध्य प्रदेश और दिल्ली से सीबीआई की टीम रायपुर और भिलाई पहुंची।
दोपहर 12 बजे: छापों के विरोध में कांग्रेस ने रायपुर के गांधी मैदान में प्रदर्शन शुरू किया।
दोपहर 1 बजे: कांग्रेसी रैली निकालकर सिविल लाइंस स्थित आयकर भवन पहुंचे। पुलिस के लगाए बैरिकेट तोड़े।
दोपहर 2 बजे: रायपुर के मेयर एजाज ढेबर के करीबी और पूर्व पार्षद अफरोज अंजुम के बैजनाथ पारा स्थित घर पर छापा मारा।
दोपहर 2.30 बजे: शनिवार को आयकर भवन बंद था। राष्ट्रपति के नाम एडीएम को ज्ञापन सौंपा।
दोपहर 3 बजे: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात के लिए दिल्ली रवाना हुए।
शाम 4.55 बजे: आयकर विभाग की टीम ने उपसचिव सौम्या चौरसिया के भिलाई स्थित बंगले को सील किया। 24 घंटे से भी ज्यादा समय बीत जाने के बावजूद कोई नहीं पहुंचा, न ही दरवाजा खुला।
शाम 7 बजे: शराब कारोबारी संजय दीवान, शराब दुकानों में मैन पावर सप्लायर सिद्धार्थ सिंघानिया और उसके सहयोगी विकास अग्रवाल के ठिकानों पर दबिश दी गई। जांच के बाद यहां से टीम लौट गई।

युकां चुनाव के उज्जैन सहित अन्य जिलों के पर्यवेक्षक घोषित

कांग्रेस की युवा इकाई युवक कांग्रेस के संगठन चुनाव की प्रक्रिया रविवार से शुरू हो गई। प्रक्रिया के तहत सदस्यता, जिला स्तर पर चुनाव और फिर प्रदेश स्तर की कार्यकारिणी का गठन किया जाएगा। इसके लिए समस्त जिलों के चुनाव पर्यवेक्षक घोषित किए गए है। उज्जैन जिले की जिम्मेदारी रमेश अक्षय चौहान के पास है।

युवका कांग्रेस चुनाव के लिए कांग्रेस में गुटबाजी भी चरम पर है। मुख्यमंत्री कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुरेश पचौरी गुट से जुड़े युवा नेता सक्रिय है। मौजूदा युकां प्रदेशाध्यक्ष विधायक कृणाल चौधरी व उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी का भी चुनाव में काफी हद तक हस्ताक्षेप रहेेगा।
यह है चुनाव पर्यवेक्षक की लिस्ट

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

राहुल ने जारी किया श्वेतपत्र, बोले- तीसरी लहर की तैयारी करे सरकार

नई दिल्ली 22 जून 2021 । कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस …