मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> शाह ने कार्यकर्ताओं से की मन की बात

शाह ने कार्यकर्ताओं से की मन की बात

ग्वालियर  13 नवम्बर 2018 ।

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए सभी पार्टियां चुनावी मैदान में आ चुकी हैं। सत्तारूढ़ भाजपा और कांग्रेस दोनों ने सभी 230 विधानसभा सीटों पर प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर चुकी हैं। सोमवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मध्य प्रदेश की सभी 230 सीटों पर बूथ कार्यकर्ताओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की। उन्होंने कार्यकर्ताओं से भाजपा सरकार की योजना से लाभान्वित हर व्यक्ति के घर भाजपा के समर्थन में दिया जलाने के लिए 21 नवंबर को दीप दीपावली मनाने का किया आह्वान किया। अमित शाह ने कहा, “2018 के विधानसभा चुनाव देश के लिए बेहद महत्वपूर्ण होंगे। मध्य प्रदेश के चुनाव के बाद 2019 में आम चुनाव होंगे। और हम मोदी जी के नेतृत्व में 2019 का चुनाव जीत कर आगे बढ़ना चाहते हैं। अमित शाह ने कहा कि आर्थिक और सामरिक स्तर पर पर देश को मजबूत करने के लिए पांच साल का समय काफी नहीं है। 2018 का चुनाव 2019 के चुनाव की नींव होगी।”

अमित शाह ने कार्यकर्ताओं से कहा कि सिर्फ जीत लक्ष्य नहीं है। हमारा लक्ष्य जीत का बड़ा मार्जिन होगा। उन्होंने कार्यकर्ताओं को हर पल पार्टी और प्रदेश की जनता की भलाई के लिए काम करने के लिए प्रोत्साहित किया। अमित शाह ने कांग्रेस पर भी हमला बोला। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से नक्सलवाद और माओवाद पर रुख स्पष्ट करने की मांग की।

अमित शाह ने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि 15 नवंबर को पूरे प्रदेश में पार्टी कार्यकर्ताओं को हर घर में झंडा लगाना है और ‘मेरा घर भाजपा का घर’ चुनाव अभियान चलाना है। पार्टी अध्यक्ष ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के विकास कार्यो को गिनाया। उन्होंने शिवराज सरकार को गरीबों के लिए चट्टान के समान बताया। कहा कि शिवराज सरकार ने मध्य प्रदेश को बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर निकाला।

नामांकन की आखिरी तारीख तक सभी प्रत्याशियों ने अपना नामांकन कर दिया है। प्रदेश में मतदान एक ही दिन 28 तारीख को है और मतगणना 11 दिसंबर को होगी।

ग्वालियर विधानसभा में कांग्रेस को झटका कई नेता बीजेपी में शामिल

ग्वालियर 15 विधानसभा में कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है कांग्रेस के कई स्थानीय नेताओं ने कांग्रेस को छोड़ भाजपा का दामन थाम लिया है। भूपेंद्र परमार जिला उपाध्यक्ष पर्यावरण आवास, जिला महामंत्री भानु परमार, जिला महामंत्री बालकृष्ण परमार, जिला सचिव रामकुमार सिकरवार, शिशुपाल सिकरवार को प्रदेश के उच्च शिक्षामंत्री जयभान सिंह ने सभी नेताओं भाजपा में शामिल कराया है । चुनाव से पहले कांग्रेस के इन नेताओं का भाजपा में शामिल होना भाजपा के लिए बड़ी सफलता है। ग्वालियर 15 विधानसभा से भाजपा के प्रत्याशी श्री जयभान पवैया ने कहा कि कांग्रेस की स्थिति बहुत कमजोर है ये पार्टी एक खानदान की बपौती है और कार्यकर्ताओं की उपेक्षा करती है वहीं भाजपा एकमात्र पार्टी है जो अपने हर एक कार्यकर्ता की इज्जत करती है और किसी भी कार्यकर्ता के आत्मसम्मान से समझौता नहीं करती है। श्री पवैया ने आज अपना जनसंपर्क सुबह वार्ड 33 के कोटेश्वर मंडल में किया। उन्होंने सुबह नौगजा रोड़ डीबी मॉल के पीछे और शाम को उरवाई गेट के निवासियों से भाजपा को वोट देने की अपील की और प्रदेश सरकार और खुद के द्वारा विधानसभा क्षेत्र में कराए गए विकास कार्यों की जानकारी स्थानीय निवासियों को दी। इस दौरान हजारों कार्यकर्ताओं का हुजुम उनके साथ रहा।
आज का जनसंपर्क- भाजपा प्रत्याशी श्री जयभान पवैया कल 13 नवंबर को अपना जनसम्पर्क सुबह 9 बजे लक्ष्मीबाई मंडल के सेवा नगर से प्रारंभ करेंगे। वहीं शाम 4 बजे लक्ष्मीबाई मंडल के तानसेन नगर से प्रारंभ करेंगे। भाजपा की नीतियों के पक्ष में प्रचार करेंगे और अपने द्वारा विधानसभा क्षेत्र में कराए गए विकास कार्यों पर चर्चा करेंगे। इस दौरान उनके साथ भाजपा कार्यकर्ता भी होंगे।

महिला विधायक ने छोड़ा पार्टी का साथ, उद्योग मंत्री राजेंद्र शुक्ल और सासंद जनार्दन मिश्रा पर लगाए गम्भीर आरोप
चुनावी गर्मी के बीच रीवा जिले की सेमरिया सीट की विधायक नीलम मिश्रा ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है। वह टिकट कटने से नाराज थीं। उनके पति अभय मिश्रा पहले ही कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। ऐसे में पहले से ही कयास लगाए जा रहे थे कि वह भी भाजपा को छोड़कर कांग्रेस का दामन थाम सकती हैं।
भाजपा ने जब उन्हें सेमरिया सीट से टिकट नहीं दिया तो उन्होंने पार्टी छोड़ने का निर्णय ले लिया। रीवा में प्रेस कांफ्रेंस करके उन्होंने उद्योग मंत्री राजेंद्र शुक्ल और सासंद जनार्दन मिश्रा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। नीलम मिश्रा ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह को पत्र लिखकर इस बात की जानकारी दी है। उनका कहना है कि वह किसी भी दल में शामिल न होकर अपने पति और कांग्रेस प्रत्याशी अभय मिश्रा के लिए प्रचार करेंगी।

नीलम मिश्रा ने राज्य के मंत्री और सांसद पर आरोप लगाते हुए कहा कि इन दोनों की वजह से उनके विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्य नहीं हो पाए हैं। दोनों नेताओं ने विधायक निधि के कोई और कार्य विधानसभा क्षेत्र में होने नहीं दिए। उन्होंने आरोप लगाया कि मंत्री के गलत कार्यों का जब पति अभय मिश्रा ने विरोध किया तो उन्हें प्रताड़ित किया गया। इसके बाद भी हमारी पार्टी के प्रति नाराजगी नहीं रही।

विधायक ने कहा कि जहां पार्टी के लोग ही आपका विरोध कर रहे हैं तो वहां रहने का फायदा क्या है। इसी कारण मैंने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है। भाजपा में पांच साल मैंने अपमानित होकर बिताए। मेरे पति को भी जब भाजपा में सम्मान नहीं मिला तो उन्होंने वह कांग्रेस में शामिल हो गए। हाल ही में कांग्रेस ने अभय मिश्रा को रीवा से टिकट दिया है। उनका मुकाबला राज्य के उद्योग मंत्री राजेंद्र शुक्ल से है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फतह मुबारक हो मुसलमानो, भारत के खिलाफ जीत इस्लाम की जीत…जश्न मनाने के बदले जहर उगलने लगा पाक

नई दिल्ली 25 अक्टूबर 2021 । खराब बल्लेबाजी और खराब गेंदबाजी की वजह से टीम …