मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> उद्धव-मोदी की मुलाकात पर शिवसेना बोली- सत्ता में साथ न होने का मतलब रिश्ते टूटना नहीं होता

उद्धव-मोदी की मुलाकात पर शिवसेना बोली- सत्ता में साथ न होने का मतलब रिश्ते टूटना नहीं होता

नई दिल्ली 9 जून 2021 । महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। प्रधानमंत्री मोदी के साथ मुलाकात के बाद से उठ रहे सवालों पर शिवसेना ने कहा कि सत्ता में साथ नहीं होने का यह मतलब नहीं है कि रिश्ते टूट गए। व्यक्तिगत रिश्ते सत्ता से अलग होते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की दिल्ली में हुई मुलाकात को लेकर शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामनाा में लेख लिखा है। इसमें कहा गया है कि सत्ता में एक साथ नहीं हैं, इसका मतलब रिश्ता टूट गया ऐसा नहीं होता है। ये रिश्ता कैसा है, इसका पूरा अध्ययन महाराष्ट्र के भाजपाई नेता आगे करते रहे हैं। राजनीतिक मतभेद होने का मतलब व्यक्तिगत रिश्ते कमजोर हो गए, ऐसा नहीं होता है। व्यक्तिगत रिश्ते-नाते सत्ता से कहीं अलग और ऊपर होते हैं। शिवसेना ने हमेशा इन रिश्तों को संभाला है।

नरेंद्र मोदी-उद्धव ठाकरे की मुलाकात जिस तरह से राज्य शिष्टाचार का हिस्सा थी, उसी तरह व्यक्तिगत रिश्तों की भी थी। इसलिए इस मुलाकात पर आगे लंबे समय तक चर्चा की धूल उड़ती रहेगी। मुख्यमंत्री का दिल्ली दौरा राजनीति के लिए नहीं था, जिन्हें इस मुलाकात में राजनीति दिखती है, वे धन्य होंगे। प्रधानमंत्री-मुख्यमंत्री की मुलाकात से केंद्र से जुड़ीं महाराष्ट्र की समस्याएं हल करने की कोशिश थी।

पीएम ने अलग से बात की तो इसमें नया क्या…
महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा,” मुझे नहीं पता कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के बीच अलग से कोई मुलाकात हुई है। यदि हम मान भी लेते हैं कि इस तरह की कोई बैठक हुई भी है, तो इसमें आश्चर्य की कोई बात नहीं है।” फडणवीस ने कहा कि जब वह महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री थे, तो प्रधानमंत्री उनके साथ अलग से विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करते थे। उन्होंने कहा कि जब मैं प्रधानमंत्री से एक शिष्टमंडल के साथ मिलता था तो वह उनके साथ पांच से दस मिनट तक बात करते थे। बाद में प्रधानमंत्री राज्य से संबंधित मुद्दों पर मेरे साथ अलग से 15 से 20 मिनट तक चर्चा करते थे।
मैं नवाज शरीफ से मिलने नहीं गया था…
पीएम नरेंद्र मोदी से रिश्तों और मुलाकात को लेकर पूछे गए सवाल को लेकर उद्धव ठाकरे ने दिल्ली में मंगलवार को बेबाकी से जवाब दिए। उद्धव ठाकरे ने कहा था कि भले ही राजनीतिक रूप से साथ नहीं हैं, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि हमारा रिश्ता खत्म हो गया है। मैं कोई नवाज शरीफ से मिलने नहीं गया था। इसलिए यदि मैं उनसे व्यक्तिगत मुलाकात करता हूं तो इसमें गलत क्या है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पीएम से मुलाकात के बाद कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने हमारी सभी बातों को गंभीरता पूर्वक सुना। उन्होंने कहा कि मराठा आरक्षण, जीएसटी समेत कई संवदेनशील मुद्दों पर वार्ता हुई। पीएम मोदी और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की यह मुलाकात काफी अहम है। मुख्यमंत्री बनने के बाद दिल्ली में पीएम मोदी और उद्धव ठाकरे के बीच यह दूसरी मुलाकात है। उद्धव साथ के उप मुख्यमंत्री अजित पवार, मंत्री अशोक चव्हाण भी मौजूद रहे।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

मिंटो हॉल का नाम अब BJP के पूर्व अध्यक्ष कुशाभाऊ ठाकरे पर, सीएम शिवराज सिंह चौहान का ऐलान

भोपाल 27 नवंबर 2021 । मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ऐलान किया है …