मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> शिवराज महिलाओं के बीच ज्यादा लोकप्रिय, ‘मामा’ रिश्ते को भुनाने की तैयारी

शिवराज महिलाओं के बीच ज्यादा लोकप्रिय, ‘मामा’ रिश्ते को भुनाने की तैयारी

भोपाल 24 अगस्त 2018 । मध्यप्रदेश में चौथी बार सरकार बनाने की जद्दोजहद में जुटी भारतीय जनता पार्टी को इस चुनाव में महिलाओं से कुछ ज्यादा ही उम्मीदें हैं। पार्टी के एक अध्ययन में खुलासा हुआ है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान महिलाओं और युवतियों के बीच खासे लोकप्रिय हैं। इससे सबक लेकर पार्टी की तैयारी है कि वह सीएम के ‘मामा” के रिश्ते को इस चुनाव में भुनाएगी। इस सर्वे को आधार मानकर पार्टी महिलाओं के ज्यादा से ज्यादा वोट पाने की रणनीति बना रही है।

विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी अपना सारा फोकस महिला वोट बैंक पर करेगी। पार्टी ने हाल में सरकार की लोकप्रियता को लेकर एक सर्वे करवाया, जिसमें पता चला कि शिवराज सरकार की लोकप्रियता पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा है, वह भी ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं में। सूत्रों के मुताबिक भाजपा ने प्रदेश की सभी 230 विस सीटों पर सर्वे करवाकर यह जानने की कोशिश की कि आम जनता के बीच सरकार और खासतौर से मुख्यमंत्री की छवि कैसी है। सर्वे की रिपोर्ट में महिलाओं के बीच सरकार ज्यादा लोकप्रिय होने की बात सामने आने से भाजपा खुश है। पार्टी नेताओं का मानना है कि आधी आबादी को प्रभावित करने वाले वोट बैंक के डगमगाने के आसार नहीं हैं, बाकी स्थितियों में भी सुधार हो रहा है।भाजपा सरकार के महिलाओं के बीच ज्यादा लोकप्रिय होने की मुख्य वजह मुख्यमंत्री की सरल-सहज छवि है। खासतौर से सीएम ने महिलाओं से भाई यानी उनके बच्चों के मामा का जो रिश्ता बनाया है, उसने ग्रामीण महिलाओं में सीएम की छवि की अमिट छाप बनाई है। महिलाएं सीएम को आम जनता के बीच का आदमी मानती हैं। मुख्यमंत्री की छवि बनाने में राज्य सरकार की महिलाओं के लिए बनाई गई कल्याणकारी योजनाओं का भी अहम रोल है। महिलाओं के बीच कन्यादान, लाड़ली लक्ष्मी, जननी योजना, महिला मजदूरों को प्रसव पर आर्थिक सहायता, छात्राओं को मुफ्त साइकिल और स्कूल ड्रेस, छात्रवृत्ति, मेधावी छात्र योजना, तीर्थदर्शन बेहद लोकप्रिय हैं। इस कारण सीएम की छवि को महिलाओं ने ‘मामा” के रूप में पहचान दी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Urdu erased from railway station’s board in Ujjain

UJJAIN 06.03.2021. The railways has erased Urdu language from signboards at the newly-built Chintaman Ganesh …