मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> प्रदेश को कर्ज में डुबोया शिवराज ने: कमलनाथ

प्रदेश को कर्ज में डुबोया शिवराज ने: कमलनाथ

भोपाल 16 नवम्बर 2018 । प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा है कि मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार उधार लेकर घी पी रही है। पहले से ही लगभग एक लाख 92 हजार करोड़ रूपये के कर्ज में डूबी शिवराज सरकार बाजार से फिर दो हजार करोड़ का कर्जा ले रही है। इसकी पूरी तैयारी कर ली गयी है। प्रदेश में खराब वित्तीय प्रबंधन की अति हो चुकी है। सरकार के पास पेंशन और वेतन बांटने के लिये भी पैसा नहीं बचा। चुनाव के समय जनता को दिखाने शुरू किये गये विकास कार्य अधूरे पड़े हैं, क्योंकि ठेकेदारों के बिल पैसे की कमी और भ्रष्टाचार के कारण अटके पड़े हैं।
कमलनाथ ने कहा कि इस वित्तीय वर्ष मंे सरकार पहले ही सात हजार करोड़ रूपये कर्ज ले चुकी है। अब दो हजार करोड़ रूपये फिर से लेने के बाद 2018 में लिये जाने वाले कर्ज की राशि नौ हजार करोड़ रूपये हो जायेगी। सरकार वित्तीय संकट से जूझ रही थी, लेकिन शिवराजसिंह ने चुनाव आचार संहिता लगने के पहले हजारों करोड़ रूपये की घोषणायें बिना सोचे-समझे कर डाली। वहीं पुराने निर्माण कार्य भी राशि की कमी के कारण अटके पड़े हैं। सरकार का पूरा खजाना खाली पड़ा है। अगली सरकार के लिये खजाने में कुछ नहीं है। वेज एन्ड मीन्स की स्थिति बन चुकी है।
कमलनाथ ने कहा है कि 15 साल पहले जब भाजपा सरकार बनी थी, तब मध्यप्रदेश सरकार पर 20 हजार 147 करोड़ रूपये का कर्जा था। लेकिन 15 सालों में कर्ज की राशि सात गुना से अधिक बढ़ गयी है। फिर भी सरकार कुछ नई बैंकों और संस्थानों से कर्ज लेने की तैयारी में जुटी हुई है। भाजपा सरकार ने विकास कार्यों के नाम पर धड़ाधड़ कर्ज लिया है। मध्यप्रदेश की जनता भाजपा सरकार से हिसाब जानना चाहती है कि अभी तक एक लाख 90 हजार करोड़ में कौन सा विकास हुआ है। कर्ज की राशि का कहां उपयोग व खर्च हुआ? वर्तमान में कुल कितने ब्याज का भार प्रदेश पर है? सिर्फ जनता के साथ धोखा हुआ है। सरकारी खजाने का ज्यादातर पैसा खुद को प्रचार-प्रसार व ब्रांडिंग पर खर्च कर दिया गया।
कमलनाथ ने कहा कि यूपीए सरकार ने 2003 में एक आरबीएम (फिज़िकल रिस्पांसिबिलिटी एण्ड बजट मैनेजमेंट) एक्ट बनाया था। इसके अनुसार बजट का साढ़े तीन प्रतिशत से अधिक राशि कर्ज के रूप में नहीं ली जा सकती। लेकिन सरकार ने उल्टा सीध गुणा-भाग लगाकर जीडीपी के आंकड़े बढ़ा-चढ़ाकर बताये। कहा कि मध्यप्रदेश की जीडीपी साढ़े सात लाख करोड़ रूपये तक पहुंच गयी है। इस आधार पर हर वर्ष कर्ज लेने की पात्रता की सीमा बढ़ गयी।
कमलनाथ ने कहा है कि शिवराजसिंह ने पुरानी घोषणायंे तो पूरी की नहीं और चुनाव को देखते हुए रोज लोकलुभावन घोषणायें कर मतदाताओं को गुमराह और प्रभावित करने में लगी थी। करोड़ों रूपये खुद की ब्रांडिंग और प्रचार-प्रसार पर खर्च किये गये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बढ़ते कर्ज की स्थिति को देखते हुए चुनाव आयोग को आचार संहिता के चलते नये कर्ज लेने पर अविलंब रोक लगाना चाहिये।

भ्रष्ट भाजपा सरकार को उखाड़ फेंके: कमलनाथ

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अपने चुनावी दौरे के तहत आज कांग्रेस प्रत्याशियों के समर्थन में होशंागाबाद, सिवनी मालवा, सोहागपुर में गये। जहां उन्होंने कांगे्रस प्रत्याशियों के समर्थन में विशाल जनसभाओं को संबोधित किया।
कमलनाथ जी को सुनने बड़ी संख्या में जन समुदाय इन सभाओं मंे उपस्थित था। होशंगाबाद, सिवनी मालवा, सोहागपुर की जनसभाओं में कमलनाथ जी ने उपस्थित जनसमुदाय को संबोधित करते हुए प्रदेश की भ्रष्ट भाजपा सरकार को उखाड़ फैंकने के लिए कांगे्रस प्रत्याशियों को जनता से समर्थन देने की अपील इन जनसभाओं में की।
तीनों सभाओं में अपने तूफानी दौरे के तहत कमलनाथ ने शिवराज सरकार की जनविरोधी नीतियों पर उन्हें जमकर घेरा।
सभाओं में दिये संबोधन के प्रमुख बिंदु:-
ऽ आप 28 नवम्बर को जो मतदान के लिए बटन दबायेंगे, वह बटन युवाओं के भविष्य का होगा, पीड़ित किसानों के भविष्य का होगा, असुरक्षित महिलाओं के भविष्य का होगा, व्यापारियों के भविष्य का होगा।
ऽ होशंगाबाद में उन्होंने कहा कि सरताज सिंह कोई राजनीतिक व्यक्ति नहीं हंै, यह सच्चे समाज सेवक हैं। मैंने इनको लोकसभा में भी देखा है। सीधे-साधे व्यक्ति हैं। इन्होंने होशंगाबाद के विकास के लिए सदा सघंर्ष किया है। विकास के लिये उन्होंने अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया। जन सेवा के माध्यम से उन्होंने इस क्षेत्र के विकास के लिये काफी लड़ाईयां लड़ी। क्षेत्र के लोगों से अपील है कि उनका सम्मान कायम रहे।
ऽ आज समाज का हर वर्ग परेशान है। आज का युवा रोजगार को लेकर सबसे ज्यादा परेशान है। युवाओं के साथ सबसे ज्यादा धोखा इस सरकार ने किया।
ऽ भाजपा ने कई इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन किया। निवेश के बड़े-बड़े दावे किये। रोजगार को लेकर बड़ी-बड़ी घोषणायें की, लेकिन बेरोजगारी दूर होना तो दूर बेरोजगारी और अधिक बढ़ गयी।
ऽ मोदी के दो करोड़ रोजगार के दावे कहां गये। मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, डिजीटल इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया से किसी को फायदा पहुंचा हो या रोजगार मिला हो तो बतायें।
ऽ मोदी जी मध्यप्रदेश आ रहे हैं। अपने वादों पर बात नहीं करेंगे, किसानों के हित की बात नहीं करेंगे, युवाओं के रोजगार की बात नहीं करेंगे। बात करेंगे तो गुमराह करने की, भ्रमित करने की।
ऽ किसान पुत्र के राज में सबसे ज्यादा अपमान किसानों का हुआ। कई किसान कर्ज के बोझ तले आत्महत्या को मजबूर हैं, कईयों को इस सरकार ने जेल भिजवाया, उनका अपमान किया।
ऽ आज प्रदेश विकास में तो नंबर वन नहीं है। लेकिन किसानों की आत्महत्या, महिलाओं से दुष्कर्म की घटना, कुपोषण, भ्रष्टाचार में नंबर वन जरूर है।
ऽ जितना पैसा शिवराज सिंह खुद की ब्रांडिंग व प्रचार-प्रसार पर खर्च करते हैं। उतनी राशि से इस प्रदेश के युवाओं को रोजगार दिया जा सकता था, किसानों का भला किया जा सकता था। प्रचार-प्रसार में दिख रहा है विकास-मैदान में है भूख-प्रयास। यह सच्चाई है।
ऽ अच्छे दिन जनता के तो नहीं आये। भाजपा नेताओं के जरूर आ गये। जो लोग साईकिल व मोटर साईकिल पर घूमते थे, वह लोग आज बड़ी-बड़ी और महंगी गाड़ियों में घूम रहे हैं। आज प्रदेश में रेत माफिया, सटटा माफिया, शराब माफिया, शिक्षा माफिया, स्वास्थ्य माफिया, चिकित्सा माफिया, सबका नेतृत्व भाजपा नेता ही कर रहे हैं।
ऽ प्रदेश में भ्रष्टाचार इस कदर हावी है कि यह गांव से ही शुरू हो जाता है। आपको गरीबी रेखा में नाम जुड़वाना हो या गरीबी रेखा का कार्ड बनवाना हो, सरकारी योजना का लाभ लेना हो, सभी के लिये राशि तय है।
ऽ प्रजातंत्र में चुनाव एक अवसर होता है, जिसके कई चरण होते हैं। जनपद से लेकर पंचायत, जिला पंचायत, नगर पालिका, विधानसभा, संसद सभी चुनाव के अलग-अलग मायने होते हैं। जब आप सरपंच चुनते हैं तो उसे अपने पास रखते हैं। संासद चुनते हैं तो उसे दिल्ली भेजते हैं, लेकिन जब आप विधायक चुनते हैं तो ऐसे उम्मीदवार को चुनते हैं जो आपकी आवाज प्रदेश की विधानसभा तक पहुंचायें। इस चुनाव में आपको वोट देने से पहले प्रदेश की तस्वीर को देखना है कि किस प्रकार इस तस्वीर को शिवराज सरकार ने बिगाड़ दिया है। किसान परेशान है, युवा भटक रहा है, मजदूर व गरीब परेशान है। सभी के साथ धोखा हुआ है। किसान मंडियों में लाईन में लगा है, उसे समर्थन मूल्य नहीं मिल रहा है। उसे नगद पैसा नहीं मिल रहा है। मनमोहनसिंह जी के समय किसान हमसे समर्थन मूल्य बढ़ाने की मांग करते थे और आज भाजपा राज में समर्थन मूल्य दिलाने की बात करते हैं।
ऽ किसान पुत्र के राज मंे प्रदेश में किसानों के पेट पर लात और छाती पर गोलिया दागी गईं।
ऽ जब तक किसान सुखी नहीं होगा, तब तक प्रदेश का अन्य वर्ग भी सुखी नहीं होगा। किसानों के साथ लागत पर 50 प्रतिशत अधिक देने का झूठा वादा किया गया। बीमा योजना के नाम पर ऐसी कंपनियां लायी गईं, जिनको 13 हजार करोड़ का फायदा तो हुआ, लेकिन किसान आज भी दर-दर की ठोकरें खाता रहा। हमारा तो नारा है ‘‘किसानों का कर्जा माफ-बिजली बिल हाफ और भाजपा साफ।’’
ऽ आज ये लोग विकास पर बात नहीं करते हैं। ये राष्ट्रवाद व मुद्दों से भटकाने की बात करते हैं। कांगे्रस पहले लड़ी थी गोरों से अब लड़ेगी चोरों से।
ऽ किसान बिना दाम के, नौजवान बिना काम के और जनता पूछ रही है कि मोदी और शिवराज किस काम के।
ऽ जीएसटी और नोटबंदी ने व्यापारियों की कमर तोड़ दी है। छोटे व मझौले उद्योग बर्बाद हो गये हैं। वादा तो अच्छे दिनों का किया था, लेकिन अच्छे दिन बड़े ठेकेदारों के, बड़े व्यापारियों के, बड़े उद्योगपतियों के और भाजपा नेताओं के आये।
कमलनाथ जी ने तीनों सभाओं में जनता से कहा कि इस भ्रष्ट भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए मतदान जरूर करें। आप ठान लेंगे तो 11 दिसम्बर को प्रदेश में कांगे्रस का झंडा जरूर फहरायेगा और विकास की एक नई इबादत लिखने की शुरूआत इस दिन से होगी।
इस अवसर पर होशंगाबाद के कांगे्रस प्रत्याशी सरताज सिंह, सोहागपुर के कांगे्रस प्रत्याशी सतपाल पलिया, पिपरिया के हरीश बेमन, रामेश्वर नीखरा, कपिल फौजदार, सविता दीवान, काकू भाई, बलराम पटेल, हजारी लाल रघुवंशी आदि उपस्थित थे।

2 अक्टूबर को पूरे प्रदेश को पूर्ण रूप से खुले मे शौच मुक्त करने की बात सफ़ेद झूठ

मध्य प्रदेश काँग्रेस के मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने आज यहाँ आयोजित पत्रकार वार्ता मे कहा कि देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2018 को लगातार 3-4 ट्वीट किए जिसमे उन्होने कहा कि इन 4 वर्षों मे सिर्फ शौचालय ही नहीं बने, गाँव शहर ओडीएफ़ ही नहीं बने बल्कि 90 प्रतिशत से अधिक शौचालयों का नियमित उपयोग भी हो रहा है एक और अन्य ट्वीट मे उन्होने लिखा कि वे महात्मा गांधी जी के दिखाये मार्ग पर चलते हैं। हम माननीय प्रधानमंत्री जी से पूछना चाहते हैं कि अगर वे महात्मा गांधी जी के दिखाये मार्ग पर चलते हैं तो उन्होने फिर गांधी जी के सत्य के मार्ग का अनुसरण क्यों नहीं किया? क्यूँ वे सार्वजनिक रूप से देश को झूठ परोस रहे हैं कि 90 प्रतिशत से अधिक शौचालयों का नियमित उपयोग हो रहा है। प्रधानमंत्री जी जब शौचालय बने ही नहीं तो लोग उपयोग कैसे करेंगे? श्रीमति ओझा ने कहा कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान मोदी जी से एक कदम आगे चल रहे हैं और उन्होने 2 अक्टूबर 2018 को समूचे प्रदेश को खुले मे शौच मुक्त घोषित कर दिया। और जनता की गाढ़ी कमाई के पैसों से करोड़ों रुपये के विज्ञापन देकर उस झूठ को सार्वजनिक रूप से प्रचारित और प्रसारित किया। उन्होने कहा कि केंद्र और प्रदेश मे झूठो कि सरकार चल रही है और मोदी जी और शिवराज सिंह जी आपस मे प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं कि कौन सबसे बड़ा झूठा है।

शासन की बड़ी लापरवाही, सिंधिया के हेलिकाप्टर को बच्चों ने घेरा

कांग्रेस के सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया चुनाव प्रचार के लिए शिवपुरी पहुंचे थे। लेकिन जिला प्रशासन ने वहां कोई सुरक्षा के इंतजाम नहीं किये थे। जिसके चलते हवाईपट्टी पर उनके हेलिकपॉटर के पास बच्चे खेलते नजर आये। बच्चों ने हेलिकाप्टर को घेर लिया और कई लोग सेल्फी लेने लगे।
बता दें कि, ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस के प्रत्याशी सिद्धार्थ लढ़ा के रोड शो में शामिल होने के लिए शिवपुरी पहुंचे थे। इस बीच जब उनका हेलीकाप्टर शिवपुरी हवाई पट्टी में उतरा तो वहां जिला प्रशासन की अनदेखी के चलते लोगों की भीड़ लग गई। वहीं कोई सुरक्षा कर्मी मौजूद नहीं था। पायलट ने वहां एकत्रित हुए बच्चों को स्वयं से दूर भगाने की कोशिश की लेकिन वह बच्चे नहीं माने। वहीं इस घटना के बाद कांग्रेस नेताओं ने प्रशासन की इस लापरवाही पर नाराजगी जाहिर की है और इसके लिए जिम्मेदार अफसरों पर कार्रवाई की मांग की है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फतह मुबारक हो मुसलमानो, भारत के खिलाफ जीत इस्लाम की जीत…जश्न मनाने के बदले जहर उगलने लगा पाक

नई दिल्ली 25 अक्टूबर 2021 । खराब बल्लेबाजी और खराब गेंदबाजी की वजह से टीम …