मुख्य पृष्ठ >> शिवराज सिंह ने फोन कर दिया था 35 करोड़ और मंत्री पद का ऑफर- महेश परमार

शिवराज सिंह ने फोन कर दिया था 35 करोड़ और मंत्री पद का ऑफर- महेश परमार

भोपाल  5 मार्च 2020 । प्रदेश में तख्तापलट के खेल में एक के बाद एक कई खुलासे हो रहे हैं। कांग्रेस विधायक महेश परमार ने भाजपा पर बड़ा आरोप लगाया है। उनके मुताबिक शिवराज सिंह चौहान ने उन्हें भाजपा में आने के लिए 35 करोड़ का ऑफर दिया था। इसके साथ ही मंत्री पद की पेशकश की गई थी।महेश परमार का दावा है कि शिवराज ने फोन कर उन्हें ऑफर की पेशकश की थी। बता दें महेश परमार उज्जैन के तराना से विधायक हैं।

बीजेपी-कांग्रेस का स्कोर बराबर! 9 में से पांच विधायक भोपाल लौटे

मध्य प्रदेश में जारी राजनीतिक कुश्ती के मैच में स्कोर बराबर होता दिख रहा है। अचानक ‘गायब’ हुए नौ विधायकों में से पांच विधायकों को दिल्ली से भोपाल लाया गया है। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार के लिए यह एक राहत भरी खबर है। बताया गया कि एक चार्टर प्लेन से पांच विधायकों को भोपाल लाया गया। हालांकि, तीन से चार विधायक अभी भी नहीं लौटे हैं। सत्ताधारी कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर आरोप लगाया है कि वह कमलनाथ सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है।
भोपाल से दिल्ली तक मची सियासी हलचल के बीच पांच विधायकों रामबाई (बीएसपी), संजीव कुशवाहा (बीएसपी), राजेश शुक्ला (एसपी), एदल सिंह कंसाना (कांग्रेस) और रणवीर जाटव (कांग्रेस) को बुधवार को भोपाल लाया गया। इन सभी विधायकों को स्टेट हैंगर से सीधे मुख्यमंत्री आवास ले जाया गया है, जहां इन विधायकों से मुख्यमंत्री कमलनाथ, प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया बातचीत कर रहे हैं। वहीं, तीन-चार विधायक अब भी भोपाल से बाहर हैं। मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने चार विधायकों को बेंगलुरु ले जाने का आरोप लगाया है।

9 विधायकों की खरीद-फरोख्त का था आरोप
कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि बीजेपी ने कांग्रेस के छह, बीएसपी के दो (एक निलंबित) और एक निर्दलीय विधायक को गुरुग्राम के एक होटल में बंधक बनाया था। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने दो दिन पहले सरकार को समर्थन देने वाले विधायकों को 25 से 35 करोड़ रुपये का ऑफर दिए जाने का आरोप लगाया था और फिर कुछ विधायकों को बीजेपी द्वारा दिल्ली ले जाने की बात कही थी। उसके बाद से राज्य की सियासत में हलचल मची हुई है।

कमलनाथ सरकार को समर्थन देने वाले आठ-नौ विधायकों के बीजेपी के संपर्क में होने और उन्हें दिल्ली ले जाने के खुलासे से सियासी ड्रामा सस्पेंस वाला हो गया था। इन विधायकों तक पहुंचने के प्रयास हुए। मंगलवार रात लगभग डेढ़ बजे बीएसपी विधायक रामबाई को हरियाणा के गुरुग्राम के एक होटल से मुक्त कराया गया। कहा यह जा रहा है कि इस होटल में सात विधायकों को रखा गया था।
वहीं, बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष वी.डी. शर्मा का कहना है, ‘इस घटनाक्रम से बीजेपी का कोई लेना-देना नहीं है। यह सब कांग्रेस के अंर्तकलह का नतीजा है और इसका जवाब मुख्यमंत्री कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को देना चाहिए। वर्तमान सरकार ब्लैकमेल सरकार है, जो बनी भी थी तो जोड़तोड़ से।’

दिनभर दिल्ली में जमी रही दिग्गजों की फौज
दिल्ली में एक तरफ कांग्रेस की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, मंत्री जीतू पटवारी, जयवर्धन सिंह डेरा डाले रहे, वहीं बीजेपी के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, भूपेंद्र सिंह भी दिल्ली पहुंचे। हालांकि, शिवराज सिंह चौहान बुधवार सुबह भोपाल लौट आए। इस सारे घटनाक्रम को आगामी समय में होने वाले राज्यसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। क्योंकि राज्य की तीन सीटों के चुनाव होने वाले हैं। एक सदस्य के लिए 58 विधायकों का समर्थन चाहिए। इस स्थिति में कांग्रेस और बीजेपी के एक-एक सदस्य का चुना जाना तय है। वहीं, दूसरी सीट पाने के लिए दोनों दलों को जोर लगाना होगा। राज्यसभा की दूसरी सीट जीतने के लिए कांग्रेस को एक और बीजेपी को नौ से ज्यादा विधायकों की जरूरत होगी। वर्तमान विधानसभा की स्थिति पर गौर करें तो राज्य में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत नहीं है। राज्य की 230 सीटों में से 228 विधायक हैं, दो सीटें खाली हैं। कांग्रेस के 114 और बीजेपी के 107 विधायक हैं। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार निर्दलीय चार, बीएसपी के एक और एसपी के दो विधायकों के समर्थन से चल रही है।

MLAs In Gurgaon Hotel Push Kamal Nath Government Into Crisis, 4 Inside

The 15-month-old Congress government in Madhya Pradesh led by Kamal Nath, which has a wafer-thin majority, has been pushed to the brink with a group of MLAs camping at a star hotel in Gurgaon near Delhi. In overnight drama, senior Congress leaders were seen bringing out one member with her bags.
Senior Congress leader Digvijaya Singh says four are still inside. He said Ramabai, a suspended MLA from Mayawati’s Bahujan Samaj Party (BSP), has managed to leave the hotel. Madhya Pradesh ministers and Congress leaders Jitu Patwari and Jaivardhan Singh were seen coming out of the ITC hotel in Gurgaon’s Manesar along with Ms Ramabai.

“People with whom our contact was established were ready to come back to us. We were able to get in touch with Bisahulal Singh (Congress MLA) and Ramabai. Ramabai came back, even when the BJP tried to stop her,” Mr Singh told news agency ANI early this morning.

The MLAs are in Gurgaon a day after Mr Singh alleged that the BJP is trying to bribe the MLAs of his party. “The BJP’s Rampal Singh, Narottam Mishra, Arvind Bhadauria, Sanjay Pathak were going to give them money. Had there been a raid, they would have been caught… We think 10 to 11 MLAs were there, only four are still with them now, they will also come back to us,” he said today.

In the 231-member Madhya Pradesh assembly, the Congress has a strength of 114 MLAs and the BJP has 107. Of the remaining nine seats, two are with the BSP while the Samajwadi Party has one MLA. There are four independents in the assembly.

Madhya Pradesh Finance Minister Tarun Bhanot told NDTV late last night that Congress MLA and former minister Bisahulal Singh called them up and informed them that “they have been forcefully kept at the ITC Maratha Hotel in Gurugram and not being allowed to go out”.

“Our two ministers, Jaivardhan Singh and Jeetu Patwari, who went to the concerned hotel in Gurugram to meet the eight MLAs after getting the phone call from one of the legislators, are not being allowed entry in the hotel,” Mr Bhanot said.

 

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

जमीन विवाद में नया खुलासा, ट्रस्ट ने उसी दिन 8 करोड़ में की थी एक और डील

नई दिल्ली 17 जून 2021 । अयोध्या में श्री राम मंदिर ट्रस्ट के द्वारा खरीदी …