मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> शिवराज ने चल दिया तुरुप का पत्ता

शिवराज ने चल दिया तुरुप का पत्ता

नई दिल्ली 4 जून 2018 । मध्यप्रदेश में कांग्रेस की कथित एकता और कायाकल्प की कोशिशों के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐसा तुरुप का पत्ता चल दिया है जिसकी काट कम से कम कांग्रेस के पास तो नहीं है।

प्रदेश में सबसे बड़े आबादी समूह ओबीसी के सामने उन्होंने कांग्रेस को पिछड़ा वर्ग विरोधी साबित करने की सफल शुरुआत कर दी है। इतना ही नहीं, इस संदेश को गांव-गांव तक पहुंचाने के लिए संभागीय पिछड़ा वर्ग महाकुंभ करने की भी शुरुआत कर दी है।

पिछड़ा वर्ग महाकुंभ के जरिए शिवराज जहां पिछड़ी जातियों के लिए अनेक नई योजनाओं का ऐलान कर रहे हैं, वहीं सरकार की चालू योजनाओं की जानकारी भी आम जनता तक पहुंचा रहे हैं।

पिछड़ा वर्ग के प्रतिभाशाली विद्यार्थियों और जाने-माने लोगों का सम्मान करके उनके दिल में जगह बनाने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसा अभी एक सम्मेलन हुआ है, जबकि कुल 6 पिछड़ा वर्ग महाकुंभ करने की भाजपा की योजना तैयार है।
ये सारी तरीके ऐसे हैं जिनकी काट कांग्रेस के पास नहीं है और न ही कांग्रेस का कोई नेता इस स्तर पर सोच-विचार करता दिखता है।

पिछड़ा वर्ग महाकुंभ अभी सागर में हुआ है जिसमें शिवराज सिंह चौहान ने सबसे पहले यही बात उठाई कि भाजपा सरकार राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देना चाहती है, लेकिन कांग्रेस ने इसका विरोध कर दिया और ये विधेयक लटक गया।

ये बात ऐसी है जो पिछड़ा वर्ग को लोगों को आसानी से समझ में आ भी रही है। इसके अलावा शिवराज महाकुंभ के मंच पर ओबीसी के नेताओं को जगह और अहमियत देकर भी उनका कद बढ़ा रहे हैं।

दूसरी तरफ कांग्रेस है जो अपने ओबीसी प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव को हटा चुकी है और उनका कोई पुनर्वास भी नहीं किया है। अरुण को कांग्रेस ने एकदम उपेक्षित कर दिया है और हालत यहां तक हो गई है कि वो समाजवादी पार्टी में शामिल होने तक पर विचार करने लगे हैं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

भारत में कोरोना का सबसे बड़ा अटैक, एक दिन में पहली बार 2 लाख 34 हजार नए केस

नई दिल्ली 17 अप्रैल 2021 । कोरोना की दूसरी लहर हर दिन नए रिकॉर्ड बना …