मुख्य पृष्ठ >> मध्यप्रदेश के अगले मुख्यसचिव होंगे श्री एम गोपाल रेड्डी

मध्यप्रदेश के अगले मुख्यसचिव होंगे श्री एम गोपाल रेड्डी

भोपाल 24 नवम्बर 2019 । मध्यप्रदेश कैडर में 1984 बैच का कोई भी आईएएस अब मुख्य सचिव नहीं बन पाएगा, बल्कि 1985 बैच के अधिकारी को ही मुख्य सचिव बनने का मौका मिलेगा। वर्तमान मुख्य सचिव श्री सुधि रंजन मोहंती को भी सरकार एक्सटेंशन देने की फिराक में नहीं है। इसका सीधी फायदा अपर मुख्य सचिव श्री एम गोपाल रेड्डी को मिलेगा। 1984 बैच के आईएएस स्वयं के कारणों से मुख्य सचिव की दौड़ से बाहर हो गए हैं, जबकि इकबाल सिंह बैंस की शिवराज सरकार में नजदीकी रही है और प्रभांशु कमल को लेकर भी मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ की नजर में उनकी छवि अच्छी नहीं है।

शिवराज सरकार के समय 1984 बैच के आईएएस बीपी सिंह को मुख्य सचिव बनाया गया था, जबकि उनसे सीनियर 1982 बैच के आईएएस श्री सुधि रंजन मोहंती को इसका लाभ नहीं मिल पाया था, मगर मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही श्री सुधि रंजन मोहंती मुख्य सचिव बनाए गए। श्री सुधि रंजन मोहंती 31 मार्च 2020 को रिटायर होंगे। शिवराज सरकार ने उससे पहले आर परशुराम को भी छह महीने का एक्सटेंशन दिया था और उसके बाद बीपी सिंह को भी एक्सटेंशन मिला, मगर श्री सुधि रंजन मोहंती जी के मामले में अभी असमंजस की स्थिति बनी हुई है क्योंकि राज्य सरकार ने श्री सुधि रंजन मोहंती को एक्सटेंशन देने के लिए अभी तक डीओपीटी (DOPT – कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग, भारत सरकार – DEPARTMENT OF PERSONNEL & TRAINING, GOVERNMENT OF INDIA ) को पत्र नहीं भेजा है, जबकि बीपी सिंह के मामले में पांच महीने पहले ही पत्र भेज दिया था। इसके पीछे कुछ समय पहले सामने आए हनी ट्रैप मामले में भी कई अफसरों की छवि मुख्यमंत्री के समक्ष उजागर हुई है, इसके कारण भी कई अफसरों का अगला मुख्य सचिव बनना रोड़ा बन गया है।

सूत्रों का कहना है कि खासकर 1984 बैच के पीसी मीना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद उन्हें मंत्रालय से बाहर कर दिया गया और एपी श्रीवास्तव के मामले में बार-बार अवकाश जाना, अपनी मनमर्जी से काम करना, मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ को रास नहीं आया है।

वैसे एपी श्रीवास्तव ने स्वयं लिखकर दिया है कि वे मंत्री उमंग सिंघार के साथ काम नहीं करना चाहते हैं। इस तरह मुख्य सचिव की दौड़ से 1984 बैच के ये दोनों अधिकारी बाहर हो गए हैं। 1985 बैच में राधेश्याम जुलानिया तथा दीपक खांडेकर केंद्र सरकार में सचिव हैं और मध्यप्रदेश की राज्य सरकार अभी उन्हें वापस मध्यप्रदेश लाने के मूड में नहीं है। वर्तमान में वरिष्ठता के हिसाब से इकबाल सिंह बैंस तथा प्रभांशु कमल बचते हैं, लेकिन बैंस पर शिवराज के करीबी रहने की छाप लगी हुई हैं और प्रभांशु की छवि मुख्यमंत्री की नजर में ठीक नहीं है।

अगला मुख्य सचिव श्री एम गोपाल रेड्डी को बनाए जाने की संभावना है। श्री रेड्डी एक समय छिंदवाड़ा के कलेक्टर भी रहे हैं और वर्तमान में मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ से उनकी नजदीकी का फायदा भी उन्हें मिल सकता है। वैसे 01 अप्रैल 2020 को मुख्य सचिव बनने पर श्री एम गोपाल रेड्डी को छह महीने का ही कार्यकाल मिलेगा, परन्तु सरकार ने उन्हें अभी से ही मुख्य सचिव बनने और उसके बाद छह महीने का एक्सटेंशन दिलाने का मन बना लिया है, जिससे श्री रेड्डी एक साल तक मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव के पद पर रह सकेंगे।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

जमीन विवाद में नया खुलासा, ट्रस्ट ने उसी दिन 8 करोड़ में की थी एक और डील

नई दिल्ली 17 जून 2021 । अयोध्या में श्री राम मंदिर ट्रस्ट के द्वारा खरीदी …