मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> श्रावण महोत्सव के प्रथम दिवस श्री विवेक कर्महे के गायन

श्रावण महोत्सव के प्रथम दिवस श्री विवेक कर्महे के गायन

उज्जैन 22 जुलाई 2019 । श्री महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के महति आयोजन श्रावण महोत्स व की प्रथम संध्या में पहली प्रस्तुति जबलपुर से पधारे श्री विवेक कर्महे के शास्त्रीय गायन की हुई। श्री कर्महे ने प्रस्तुति की शुरूआत राग श्री विलंबित लय ताल तिलवाडा की बंदिश वारी जाउ रे तुम बिन…..से की। उसके पश्चात मध्यलय तीन ताल में चलो री माई राम सिया दर्शन को……..की प्रस्तुति दी। प्रस्तुति का समापन राग मिश्रभैरव पर आधारित शिव भजन शिव के मन सरन हो…. से किया। इनके साथ तबले पर श्री हितेन्द्र दीक्षित हारमोनियम पर ,श्री विवेक बंसोड तानपुरे पर ,श्री विजय गाडोदिया एवं श्री चिन्मय नेमा ने संगत की।
द्वितीय प्रस्तुति दिल्ली के श्री मेहताब अली के सितार वादन की हुई। तबले पर श्री रामचन्द्र चौहान ने प्रभावी संगत की। अपनी प्रस्तुति की शुरूआत में राग गावती विलंबित लय तीनताल मध्यलय, तीनताल ध्रुतलय तीनताल आलाप जोड झाला आदि की प्रस्तुति दी। प्रस्तुति के अंत में महादेव पर आरती ऊ जय शिव ओमकारा की धुन प्रस्तुत की।
कार्यक्रम की तृतीय एवं अंतिम प्रस्तुति दिल्ली की सुश्री स्वाति सिन्हा के कथक की हुई। प्रस्तुति का प्रारंभ राग पीलू ताल दादरा पर आधारित शिव वंदना रंगीला शंभू गौरा ले पधारों प्यारा पावणा…. से की उसके पश्चात तीन ताल में शुद्ध कथक में थाट, ततकार, उठान, परन, जयपुर घराने के शिव एवं कृष्ण पर आधारित कवित्त चक्करदार तोडे (२१ चक्कर, ३१ चक्कर) की प्रस्तु्ति दी। प्रस्तुति का समापन राजस्थानी परंपरा की कृष्ण भक्त चन्द्र सखी की पद रचना नथ मारी दीजो री गिरधारी… से किया। इनके साथ श्री योगेश गंगानी ने तबला, श्री समीउल्ला खॉ ने गायन/पढंत, श्री मुद्दसीर खॉ ने सारंगी पर संगत की।
दीप प्रज्जवलन के पश्चात कार्यक्रम का प्रारंभ में नाद ब्रम्ह् से करने की परंपरा का निर्वहन करते हुए उज्जैन की परिष्कृत सामाजिक संस्था के १५ कलाकारों द्वारा श्री नरेन्द्र कुशवाह व शुभम सत्यप्रेमी के निर्देशन में मंगल वाद्य नगाडा की प्रस्तुति की गई। जिसमें मंगल ध्वनि, शास्त्रीय बंदिशों के स्वर, लोक शैली नागडा वादन किया गया। इनके साथ सर्वश्री हर्षित शर्मा, दुर्गाशंकर सुर्यवंशी,राजकुमार दोहरे, राजू खान, दीपक मीणा, शैलेष नाटानी, पूर्वा जैन, मधु लालवानी, मीनाक्षी मीणा,केतकी ओझा, प्रियंका कटारिया ने नागाडा वादन किया।
नगाडा वादन के पश्चात मुख्य अतिथि पं. रमाकांत दुबे (शास्त्रीय गायक) श्रीमती रंजना ठाकुर वरिष्ठ नृत्य गुरू श्री ओम प्रकाश शर्मा लोक गायक तथा प्रस्तुति हेतु पधारे सभी कलाकारों एवं सहयोगी कलाकारों का दुपट्टा, प्रसाद व स्मृति चिन्ह़् देकर एडीएम. श्री आर.पी. तिवारी, प्रशासक श्री अवधेश शर्मा, उपप्रशासक श्री आशुतोष गोस्वामी, मंदिर प्रबंध समिति के सदस्य श्री विजयशंकर पुजारी, श्री आशीष पुजारी,शासकीय पुजारी पं. घनश्याम शर्मा, सहा.प्रशासनिक अधिकारी श्री दिलीप गरूड, सुश्री कालिंदी ढापरे, सुश्री ममतारानी शर्मा द्वारा स्वागत व सम्मान किया गया। आभार प्रदर्शन डॉ. प्रकाश रघुवंशी द्वारा किया गया। मंच संचालन श्रीमती अनामिका शर्मा द्वारा किया गया।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

राहुल ने जारी किया श्वेतपत्र, बोले- तीसरी लहर की तैयारी करे सरकार

नई दिल्ली 22 जून 2021 । कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस …