मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> सोनभद्र का सोना भंडार बदलेगा किस्मत

सोनभद्र का सोना भंडार बदलेगा किस्मत

नई दिल्ली 22 फरवरी 2020 । उत्तर प्रदेश में सोनभद्र के सोन पहाड़ी और हरदी इलाके के लोग बेहद खुश है. उनकी खुशी की वजह है प्रशासन की वो रिपोर्ट जिसमें इस बात की पुष्टि की गई है कि सोनभद्र के हरदी गांव के इलाके की दो पहाड़ियों में सोने, यूरेनियम समेत कई धातुओं और अयस्कों का बड़ा भंडार है. वहीं इस रिपोर्ट में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है.
इस रिपोर्ट के मुताबिक, पहाड़ियों में 3 हजार टन सोने का भंडार मिला है, जिसकी नीलामी के सरकार आगे की प्रक्रिया करने जा रही है. वहीं ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि अभी तक भारत के पास सोना के भंडार के हिसाब से वो दुनिया मे काफी नीचे नम्बर पर है लेकिन सोनभद्र में सोने का भंडार मिलने से वो सोना उत्पादन में दुनिया में दूसरे नम्बर पर आ जायेगा.
जानकारी के मुताबिक, पहले नम्बर पर अमेरिका है जिसके पास 8,133.5 टन सोने का रिजर्व है. जर्मनी के पास 3,366 टन, तो वहीं तीसरे नम्बर पर अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा फंड के पास 2,814 टन है. इसके बाद इटली, फ्रांस, और रूस का नम्बर आता है.
उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में सोने के भंडार मिलने से पूरे इलाके के लोगों में उत्साह का माहौल है. बताया जा रहा है कि हरदी गांव, महुली गांव समेत एक दर्जन गांववालों में रोजगार मिलने और इलाके के विकास को लेकर उम्मीद जगी है.
बताया जा रहा है कि सोनभद्र का सोना सरकार के पास मौजूदा सोने के भंडार से पांच गुना ज्यादा है. यूपी सरकार ने सोने और यूरेनियम के भंडार के बारे पुष्टी होने के बाद शुरू की पहाड़ों की नीलामी की प्रक्रिया शुरू होने वाली है.
सोनभद्र का सोना भंडार बदलेगा किस्मत, इन देशों को अब पछाड़ देगा भारत
सोनभद्र जिले की सोन पहाड़ी पर सोने का भंडार के साथ-साथ पहाड़ी के नीचे यूरेनियम का भी बड़ा भंडार होने की संभावना जताई जा रही है. साल 2012 से भंडार के बारे में पुख्ता जानकारी जुटाने की प्रक्रिया चल रही थी.
सोनभद्र का सोना भंडार बदलेगा किस्मत, इन देशों को अब पछाड़ देगा भारत
अब जिला प्रशासन और खनिज विभाग की रिपोर्ट के बाद सरकार के गतिविधियों में भी तेजी आई है. प्रशासन का कहना है कि नीलामी की प्रक्रिया पूरी होने के बाद खनन चालू हो जाएगा जिससे इलाके के करीब पांच हजार लोगों को रोजगार मिलेगा.
सोनभद्र का सोना भंडार बदलेगा किस्मत, इन देशों को अब पछाड़ देगा भारत
यही नहीं, खनन का काम शुरू होने से पहले इलाके में विकास का काम किया जायेगा.
इससे पहले सरकार ने सोना की पुष्टि के लिए 7 सदस्यीय टीम गठित कर दी गई है. टीम ने अपनी रिपोर्ट भी पॉजिटिव बताई है.
मालूम हो कि सबसे पहले सोने की इस खान की खोजबीन का सिलसिला 2005 में शुरू हुआ था. हालांकि, उस वक्त भी शुरूआती जांच मे धातु के होने के बारे में कहा गया था. लेकिन उनके प्रकार और मात्रा के बारें में अंदाजा नहीं लगा पाए थे.
बाद में जब साल 2012 मे फिर से जब जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) की टीम ने अध्ययन किया तो उन्होंने पाया कि सोनभद्र के इस इलाके में सोना और दूसरी धातू भी भारी मात्रा में मौजूद हैं.
हालांकि, इस पर अब तक काम शुरू नहीं हुआ था, लेकिन अब प्रदेश सरकार ने तेजी दिखाते हुए सोने के ब्लॉक के आवंटन के संबंध में प्रक्रिया शुरू कर दी है. ताजा रिपोर्ट के मुताबिक हरदी क्षेत्र में 646.15 किलोग्राम सोने का भंडार है. वहीं सोन पहाड़ी में 2943.25 टन सोने का भंडार होने की बात कही जा रही है. इसके अलावा यूरेनियम और दूसरे अयस्कों के भी भंडार होने की बात कही गई है.
अब सरकार टेंडरिंग के माध्यम से इन सोने की ब्लॉकों के नीलामी के लिए सहमति दी है. इसके लिये शासन ने 7 सदस्यीय टीम भी गठित कर दी है. इस टीम के जरिये पूरे क्षेत्र की जिओ टैगिंग की जायेगी.

 

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …