मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> अब टाटा ने भी छोड़ा मोदी का साथ

अब टाटा ने भी छोड़ा मोदी का साथ

नई दिल्ली 20 अगस्त 2018 । देश के प्रधानमंत्री मोदी खुद को गरीबों का हितेषी बताते हैं। लेकिन देश की गरीब जनता का भला करने के लिए उन्होंने चंद उद्योगपतियों के हाथ में देश की कमान सौंपी है। जो कि गरीब लोगों को नोच-नोच कर खाने का काम कर रहे हैं।

1. उद्योगपतियों के हाथों देश बेचने पर उतरे मोदी

गौरतलब है कि मोदी सरकार के राज में देश का निजीकरण जमकर हो रहा है। उद्योगपतियों के हाथ की कठपुतली बन चुके प्रधानमंत्री मोदी इन्हीं उद्योगपतियों के साथ मिलकर एक दिन भारत को बेच खाएंगे और इन्हें वोट देकर जिताने वाली जनता खुद को कोसने के अलावा कोई काम नहीं कर पाएगी।

2. चार सालों में सिर्फ सिर्फ अंबानी-अडानी के लिए किया काम

गौरतलब है कि इन 4 सालों में मोदी सरकार ने जितने भी बड़े फैसले लिए हैं वह सिर्फ इन उद्योगपतियों के पक्ष में ही कारगर साबित हुए हैं मोदी सरकार के दो अहम कदम नोटबंदी और जीएसटी से इस देश की गरीब जनता से लेकर छोटे व्यापारी वर्ग तक के लोग दुखी हो रखे हैं

3. उद्योगपतियों के साथ हंसी-ठिठोली करते हैं मोदी

खुद को जनता का प्रधान सेवक बताने वाले मोदी की सोशल मीडिया पर ऐसी तस्वीरें मौजूद हैं। जिनमें वह अंबानी अडानी के साथ हंसी-ठिठोली करते हुए नज़र आ रहे हैं। तेरी तस्वीरों में तो मुकेश अंबानी पीएम मोदी की पीठ थपथपा रहे हैं मानों उन्हें शाबाशी दे रहे हो कि देश को लूटने में उन्होंने शानदार तरीके से उनका साथ दिया है।

4. सोशल मीडिया पर जमकर उड़ता है मजाक

हाल ही में सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर हिस्ट्री ऑफ इंडिया ने मुकेश अंबानी के साथ प्रधानमंत्री मोदी की एक फोटो पोस्ट करते हुए लिखा है कि रिलायंस जिओ के मालिक अपने कर्मचारी के साथ। जिसके बाद पीएम मोदी जनता के निशाने पर आ गए है।

5. रतन टाटा ने भी ली मोदी-अंबानी रिश्ते पर चुटकी

इस मामले में देश के जाने-माने बिजनेसमैन रतन टाटा ने प्रधानमंत्री मोदी और अंबानी ग्रुप के रिश्तो को लेकर कटाक्ष किया है। उन्होंने हिस्ट्री ऑफ इंडिया द्वारा शेयर की गई इस तस्वीर का समर्थन करते हुए लिखा है कि रियल हिस्ट्री पिक।

रतन टाटा ने इस तरह की प्रतिक्रिया देकर साबित कर दिया है कि वह भी मानते हैं पीएम मोदी रिलायंस ग्रुप की नौकरशाही कर रहे हैं।

निष्कर्ष: अगले साल देश में लोकसभा चुनाव होने वाले हैं और प्रधानमंत्री मोदी जो अंबानी-अडानी जैसे कारोबारियों के तलवे चाटते हैं, क्या उसे दोबारा प्रधानमंत्री बनना चाहिए ?

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Urdu erased from railway station’s board in Ujjain

UJJAIN 06.03.2021. The railways has erased Urdu language from signboards at the newly-built Chintaman Ganesh …