मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> जिस CM को जय श्रीराम गाली लगे; उसकी बुद्धि की आप कल्पना कर सकते हैं

जिस CM को जय श्रीराम गाली लगे; उसकी बुद्धि की आप कल्पना कर सकते हैं

नई दिल्ली 5 मार्च 2021 । पश्चिम बंगाल में चुनावी बिगुल बज चुका है। 27 मार्च से पहले चरण में वोटिंग होनी है। इस बीच आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति भी जमकर हो रही है। इन सबके बीच BJP के राष्ट्रीय महासचिव और बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने मौजूदा राजनीतिक हालात को लेकर भास्कर के साथ खास बातचीत की। उन्होंने कहा कि जिस मुख्यमंत्री को जय श्रीराम गाली लगता हो, उसकी बुद्धि की आप कल्पना कर सकते हैं। जय श्रीराम अब ममता दीदी को गद्दी से हटाने का नारा बन गया है। आप बंगाल में पिछले 6 सालों से सक्रिय हैं। तब और आज के बंगाल में क्या बदलाव देख रहे हैं?

2014 में लोकसभा चुनाव हुए थे, तब बंगाल में हमें 17% वोट मिले थे। उसके बाद नगर निगम के चुनाव में हमारे वोट 4% पर आ गए, क्योंकि बूथ पर कब्जे किए गए थे। इससे कार्यकर्ताओं में निराशा थी। पिछले लोकसभा चुनाव में हमें 40% वोट मिले। 4% से 40% तक आने के बीच हमने अपने संगठन को यहां बहुत मजबूत किया। पहले बंगाल में 78 हजार पोलिंग बूथ थे। अब तो एक लाख हो गए हैं। इनमें से आज 65 हजार पोलिंग बूथ पर हमारे कार्यकर्ता हैं। यह हमारे लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है। हर जिले में मैं कम से कम दस-दस बार प्रवास पर रहा हूं। अब यहां हमारा ढांचा पूरी तरह खड़ा हो चुका है। कार्यकर्ताओं का कॉन्फिडेंस लेवल हाई है। CAA, राम मंदिर निर्माण जैसे फैसले के चलते मोदी जी के प्रति विश्वास और ज्यादा बढ़ा है। हम सरकार बनाने के दरवाजे पर खड़े हैं।

BJP किस आधार पर 200 सीटों तक पहुंचने का दावा कर रही है, आपकी पार्टी ने बंगाल में क्या किया है?

हमने संगठन का विस्तार किया। कार्यकर्ताओं और जनता में विश्वास पैदा किया। लोकसभा के पहले तमाम सर्वे हमें चार, छह, आठ सीटें दे रहे थे, लेकिन हम 18 पर पहुंच गए। इससे पूरे देश और बंगाल को यह विश्वास हुआ है कि हम यहां सरकार बना सकते हैं। 200 से ज्यादा सीटें हम ला रहे हैं।

ममता आरोप लगाती हैं कि पहले UP, गुजरात, बिहार को सोनार बनाएं, UP में क्राइम की घटनाएं आम हैं?

कोलकाता के शहीद मीनार ग्राउंड पर एक सम्मेलन के दौरान कैलाश विजयवर्गीय। कैलाश विजयवर्गीय पिछले कुछ सालों से लगातार बंगाल में डेरा डाले हुए हैं।
मप्र, उत्तरप्रदेश, गुजरात, हरियाणा, बिहार जहां भी हमारी सरकारें हैं, वहां जनता बदलाव महसूस कर रही है। UP में आज गुंडे जेलों में बंद हैं। क्राइम रेट बहुत कम हुआ है। पहले निवेश नहीं आता था, अब आ रहा है और इंडस्ट्रियलाइजेशन भी हो रहा है। मप्र बहुत पिछड़ा राज्य था, आज हमने उसे विकसित प्रदेशों की लिस्ट में खड़ा कर दिया है। लोगों ने देखा है कि BJP एक अलग तरह की सरकार है।

डेमोक्रेसी की स्थापना करना चाहते हैं। सोनार बांग्ला में नौजवानों के पास रोजगार होगा। महिलाओं को सम्मान दिया जाएगा। इंडस्ट्रियलाइजेशन होगा। यहां की कला-साहित्य को वो स्थान मिलेगा, जिससे बंगाल का पुराना गौरव लौटे। इस धरती से राष्ट्रगान, राष्ट्रगीत लिखा गया, लेकिन पिछले चार दशक में बंगाल अपनी पहचान खो रहा है। बंगाल की जो पहचान रही है, उसे फिर वही पहचान दिलाएंगे।

बंगाल की पहचान दुर्गा पूजा है। यहां ममता जी ने मुहर्रम के जुलूस की परमिशन दे दी, लेकिन दुर्गा विसर्जन रोक दिया। हाईकोर्ट के आदेश पर विसर्जन हुआ। ऐसे में जनता का आक्रोशित होना स्वभाविक था। हमें लगा कि जनता का गुस्सा सही है इसलिए हमने समर्थन किया। यहां कोई राम जुलूस की परमिशन मांगे तो नहीं मिलती। जय श्रीराम बोलो तो कहते हैं गाली दे रहे हो। जिस CM को जय श्रीराम गाली लगे, उसकी बुद्धि की आप कल्पना कर सकते हैं। ममता जी ने तुष्टिकरण की राजनीति की है। जिस तरह अंग्रेजों को भारत छोड़ने के लिए वंदे मातरम् का नारा लगाया गया, उसी तरह जय श्रीराम मतलब ममता दीदी गद्दी छोड़ो हो गया है। जय श्रीराम का नारा ममता जी को हटाने का नारा हो गया है। ये धार्मिक नारा नहीं है।

ये जनता का नारा है। हम तो विकास, डेमोक्रेसी, सोनार बांग्ला, रोजगार के मुद्दे लेकर जनता के बीच जा रहे हैं।

यदि किसी ने कोई गलत काम किया है तो BJP उसकी रक्षा नहीं करेगी। कानून अपना काम कर रहा है। हमें लगा कि कोई हमारी रीति-नीति के हिसाब से देश सेवा करना चाहता है तो उसकी सहायता लेने में क्या दिक्कत है। इन लोगों पर कोई इतने बड़े आरोप नहीं लगे, जितने ममता दीदी के भतीजे अभिषेक पर लगे हैं। वो गाय माफिया है। कोयला माफिया है। एक बहुत बड़ा गैंग काम कर रहा है, जिसमें अफसर भी शामिल हैं।

गठबंधन की राजनीति देश में साल 1977 के बाद से शुरू हुई। जब गठबंधन देशहित में हो तो वो लाभदायक होता है, लेकिन यदि कोई अपने अस्तित्व को बचाने के लिए, अपने स्वार्थ के लिए गठबंधन करता है तो उस गठबंधन की डोर बहुत दूर तक नहीं जाती। तीन दिन पहले जो गठबंधन हुआ, उसमें चौथे दिन ही विवाद शुरू हो गया। अब ये गठबंधन कितना चलेगा, समझ सकते हैं। हमारा अपने 51% वोट पर कॉन्फिडेंस है। गठबंधन को कितने वोट मिलेंगे, इस बारे में कोई टिप्पणी नहीं करना चाहूंगा।

पहले भी सात चरणों में हुए हैं, तब उन्होंने ये नहीं कहा था। CPM की सरकार थी, तब उन्होंने ही ज्यादा चरणों में चुनाव की मांग की थी। आज विरोध कर रही हैं। इस प्रकार का दोहरा चरित्र नहीं होना चाहिए। इससे उनका दोहरा चरित्र बेनकाब हुआ है।

BJP जीतती है तो सीएम कौन होगा?

ये वक्त बताएगा। अभी यहां सामूहिक नेतृत्व काम कर रहा है। विधायक दल जिसको अपना नेता चुनेगा, वही प्रदेश का मुख्यमंत्री होगा।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

भारत में कोरोना का सबसे बड़ा अटैक, एक दिन में पहली बार 2 लाख 34 हजार नए केस

नई दिल्ली 17 अप्रैल 2021 । कोरोना की दूसरी लहर हर दिन नए रिकॉर्ड बना …