मुख्य पृष्ठ >> Uncategorized >> सरकार ने बढ़ाई लैब की संख्या, अब हर दिन हो पाएंगे कोरोना वायरस के 12 हजार टेस्ट

सरकार ने बढ़ाई लैब की संख्या, अब हर दिन हो पाएंगे कोरोना वायरस के 12 हजार टेस्ट

नई दिल्ली 26 मार्च 2020 । कोरोना वायरस से निपटने के लिए सरकार स्वास्थ्य से जुड़े उपायों के अलावा रणनीतिक और कमर्शियल फैसले भी ले रही है. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि राज्यों को कहा गया है कि कोरोना संक्रमण के दौर में वे ई-कॉमर्स को बढ़ावा दें ताकि सामानों की होम डिलीवरी हो सके और लोगों को घर से बाहर न निकलना पड़े. इससे कोरोना के संक्रमण को रोकने में मदद मिल सकेगी.

ई-कॉमर्स को बढ़ावा देने के लिए आज गृह सचिव ने राज्यों के सचिवों के साथ बैठक की. रिपोर्ट के मुताबिक ई-कॉमर्स कंपनियों को कहा गया है कि उनकी समस्याएं जल्द से जल्द दूर कर दी जाएंगी. सरकार का कहना है कि किसी भी कीमत पर कम से कम लोगों के बीच संपर्क होना चाहिए.

इस मुद्दे पर मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन की अध्यक्षता में ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स की बैठक हुई. जीओएम की बैठक में राज्यों से कहा गया कि वे ई-कॉमर्स को बढ़ावा देने के लिए जल्द कदम उठाएं. केंद्र ने राज्यों और जिला प्रशासन से कहा है कि आवश्यक वस्तुएं, खाने-पीने की चीजें और दवा की दुकानें काम करती रहेंगी.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि केंद्र सरकार के 118 लैब अब 12000 टेस्ट रोजाना करने को तैयार हैं. लव अग्रवाल ने कहा कि अब 29 निजी लैब अपने 16000 कलेक्शन सेंटर के साथ काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि ये सैंपल कलेक्शन आईसीएमआर के गाइडलाइन के मुताबिक किया जा रहा है.

आज इंदौर में 4 और उज्जैन में एक पॉजिटिव केस मिला, राज्य के 6 जिलों में पहुंचा संक्रमण

मध्य प्रदेश में जबलपुर, भोपाल, ग्वालिर और शिवपुरी के बाद बुधवार को इंदौर और उज्जैन में भी कोरोनावायरस के संक्रमित मरीज मिले हैं। इंदौर में पॉजिटिव मिले 4 मरीजों में 2 दोस्त हैं, जो पिछले दिनों वैष्णा देवी के दर्शन कर लौटे हैं। इन्हें शहर के बॉम्बे अस्पताल, अरिहंत अस्पताल और एमवाय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उज्जैन में 4 दिन से भर्ती महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके साथ ही राज्य कोरोना के मरीजों की संख्या 15 हो गई है। अब तक जबलपुर में 6, भोपाल, ग्वालियर और शिवपुरी में एक-एक पॉजिटिव मरीज मिल चुके हैं।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि कोरोनावायरस की चपेट में आए मरीजों में शामिल 65 वर्षीय महिला उज्जैन जिले की रहने वाली है। 4 अन्य मरीज इंदौर के ही अलग-अलग इलाकों में रहते हैं। इनमें 50 वर्षीय महिला, 48 वर्षीय पुरुष, 68 वर्षीय पुरुष और 65 वर्षीय पुरुष शामिल है। इन पांचों मरीजों में से किसी ने भी पिछले दिनों विदेश यात्रा नहीं की। इनमें शामिल 2 पुरुष मरीज मित्र हैं जो इसी महीने साथ में वैष्णोदेवी की तीर्थ यात्रा पर गए थे और हाल ही में लौटे हैं। कोरोनावायरस रोकने के लिए इंदौर में सोमवार से लॉकडाउन लागू है। कलेक्टर ने कहा- जिलेवासियों को घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है। जिलेभर में कोरोना वायरस संक्रमण रोकने के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

इंदौर में अब तक 222 लोग होम क्वारैंटाइन

स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को 21 सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे। इनमें से इंदौर से 13 और आसपास के जिलों के 8 सैंपल हैं। एमजीएम मेडिकल कॉलेज की वायरोलॉजी लैब में इनकी जांच की गई। इंदौर में 222 लोग होम क्वारैंटाइन हैं। इनमें से 14 की रिपोर्ट आना बाकी है। वहीं, 162 लोग ठीक हो गए।

भोपाल के हमीदिया अस्पताल में 600 बेड रिजर्व रखे गए

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने आला अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जहां से विदेशी मेहमान लौटे हैं, ऐसे सभी राष्ट्रीय उद्यानों, पर्यटन क्षेत्रों की सघन जांच की जाए। निजी अस्पतालों में उपलब्ध मेडिकल अमले का भी उपयोग करें। दूसरी ओर, प्रशासन ने भोपाल के हमीदिया अस्पताल को खाली कराने के आदेश दिए हैं। इसमें 600 बैड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व हैं। अन्य 200 बेड पर अभी मरीज हैं, जिन्हें दो दिन में कहीं और शिफ्ट कर दिया जाएगा। इसके अलावा इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, सागर और रीवा मेडिकल कॉलेज से जुड़े अस्पतालों को महामारी के इलाज का सेंटर बनाया जाएगा।

एक्शन प्लान: पांच विशेषज्ञ डॉक्टरों की यूनिट, हफ्तेभर ड्यूटी
हमीदिया अस्पताल अधीक्षक डॉ. एके श्रीवास्तव ने बताया कि कोरोना मरीजों का इलाज करने के लिए तीन यूनिट बनाई गई हैं। प्रत्येक यूनिट में पल्मोनोलॉजिस्ट, मेडिसिन, पीडियाट्रिक, ईएनटी और एनीस्थीसिया विशेषज्ञ डॉक्टर ड्यूटी करेंगे। यूनिट में ड्यूटी करने वाले डॉक्टर एक सप्ताह तक मरीजों का इलाज करेंगे। इन्हें एक सप्ताह की ड्यूटी खत्म होने के बाद 14 दिन के लिए क्वारैंटाइन सेंटर में भेजा जाएगा। इसकी वजह मरीज का इलाज करने वाले डॉक्टर्स, पैरामेडिकल, नर्सिंग स्टॉफ को मरीजों का इलाज करने के दौरान सबसे ज्यादा संक्रमण होने का खतरा होता है।

6 करोड़ लोगों की रोजी-रोटी संकट में, सरकार से तुरंत मदद की अपील

कोरोना महामारी को रोकने के लिए लॉकडाउन की वजह से इवेंट और मनोरंजन सेक्टर का कामकाज पूरी तरह से ठप हो गया है. इस सेक्टर ने 6 करोड़ लोगों की रोजी-रोटी बचाने के लिए सरकार से तुरंत मदद की अपील है.

इवेंट एंड एंटरटेनमेंट मैनेजमैंट एसोसिएशन के अनुसार सेक्टर से जुड़े 6 करोड़ कर्मचारियों में से एक करोड़ सीधे तौर पर प्रभावित हैं और उनकी रोजी-रोटी खतरे में है. इसका कारण कोरोना वायरस महामारी के कारण सभी बड़े राष्ट्रीय कार्यक्रम या तो टल गये हैं या फिर रद्द हो गये हैं.

हर रोज हो रहा है करोड़ों का नुकसान

एसोसिएशन ने कहा कि पिछले दो महीनों में ही कम-से-कम 3,000 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है. संगठन ने कहा, ‘कोरोना वायरस महामारी से उनके कारोबार पर बुरा प्रभाव पड़ा है. कई वैश्विक और राष्ट्रीय स्तर पर कार्यक्रम टल गए हैं या फिर स्थगित हो गए हैं.’
संगठन का कहना है कि खतरा बड़ा है और आने वाले महीनों में भी जारी रहने की आशंका है. महामारी के कारण सार्वजनिक, निजी सम्मेलनों के अलावा अंतरराष्ट्रीय बैठकें, सम्मेलन और प्रदर्शनी कार्यक्रम रद्द हुए हैं, जिससे उद्योग हिल गया है.

बड़े पैमाने पर रोजी-रोटी का संकट

इस सेक्टर में एक करोड़ लोगों को प्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिला हुआ है. जबकि 5 करोड़ लोगों को होटल, पर्यटन, विज्ञापन और विपणन उद्योग जैसे संबद्ध क्षेत्रों में परोक्ष रूप से रोजगार मिला हुआ है.
कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

हाल में जो बड़े कार्यक्रम रद्द हुए हैं, उनमें आईआईएफए, इंडिया गेमिंग एक्सपो, इंडिया फैशन वीक, गोवा फेस्ट, पीयू टेक, आईटीबी इंडिया, इंडिया फिनटेक फेस्टिवल भारती-दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट मैच, इंडिया टुडे सम्मेलन आदि शामिल हैं.

वरिष्ठ पत्रकार के के सक्सेना का कोरोना रिजल्ट पॉजिटिव आया
25 मार्च 2020 मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी श्री सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि विगत दिनों कोरोना संक्रमण पॉजिटिव पाई गई लड़की के पिता का कोरोना संक्रमण सेम्पल भी पॉजिटिव आया है। सीएचएमओ डेहरिया ने बताया कि के.के. सक्सेना के संपर्क में आये प्रत्येक व्यक्ति को 14 दिन तक होम आइसोलेशन में रहने की आवश्यकता है। 6 से 7 दिनों में सर्दी, खासी, बुखार आने पर तुरन्त कंट्रोल रूम से संपर्क करने की हिदायत दी जा रही है। लड़की के स्वास्थ्य मानकों के अनुसार मिलने जुलने वाले 10 व्यक्तियों के सैंपल जांच हेतु भेजे गए थे। उनमें से 9 लोगो के टेस्ट नेगेटिव आए है , उनकी माताजी, भाई, घर मे काम करने वाले लोगो की रिपोर्ट नेगेटिव आइ है।केवल उनके पिताजी का टेस्ट पॉजिटिव आया है जिन्हे इलाज हेतु एम्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया जा रहा है। श्री डेहरिया ने आमजन से अपील की है कि किसी को पेनिक होने या घबराने की आवश्यकता नहीं है लड़की और पिताजी भी नार्मल है दोनों का इलाज एम्स में चल रहा है। साथ ही साथ कोरोना पॉजिटिव आए व्यक्ति से क्लोज कॉन्टैक्ट मे आए व्यक्तियों को स्वयं को 14 दिन तक होम क्वारेन्टाईन करने की हिदायत भी दी गई

उज्जैन की 65 वर्षीय महिला की कोरोना से मौत, राज्य में पहली मौत
कोरोनावायरस का संक्रमण मध्य प्रदेश के 6 जिलों में पहुंच चुका है। आज इंदौर में 4, भोपाल और उज्जैन में एक-एक पॉजिटिव केस सामने आया। पहले जबलपुर में 6, उज्जैन, ग्वालियर और शिवपुरी में एक-एक पॉजिटिव केस मिल चुका है। उज्जैन की महिला की इलाज के दौरान मौत हो गई। यह कोरोना से प्रदेश में पहली मौत है।

महिला को 22 मार्च को उज्जैन के एक चैरिटेबल अस्पताल में भर्ती कराया गया था, उन्हें केवल एक दिन ही सर्दी खांसी की बीमारी होना बताया गया। उसी दिन मरीज़ को माधव नगर अस्पताल शिफ्ट कर लिया गया और माधवनगर अस्पताल में ट्रीटमेंट देने के बाद के दौरान कोरोना के लक्षण पाए जाने पर मरीज को इंदौर एमवाय अस्पताल शिफ्ट कर दिया गया ।वह 3 दिन से इंदौर के एसवाय हॉस्पिटल में भर्ती थी। उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी।

यह कोरोना से प्रदेश में पहली और देश में 12वीं मौत है। जानकारी के अनुसार महिला का नाम राबिया बी पति कुतुबुद्वीन अन्सारी बताया जा रहा है।

मलनाथ के राजनीतिक सलाहकार की रिपोर्ट आई कोरोना पॉजिटिव, कमलनाथ ने खुद को किया अलग

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने खुद को क्वारनटाइन (अलग) कर लिया है। उनके राजनीतिक सलाहकार आर.के. मिगलानी की कोरोना वायरस रिपोर्ट पॉजिटिव आई है जिसके बाद उन्होंने यह कदम उठाया है। उन्होंने 20 मार्च को अपने आवास पर एक पत्रकार वार्ता आयोजित की थी। जिसमें पहुंचे एक पत्रकार को भी कोरोना संक्रमण की आशंका अब जताई जा रही है। दरअसल उक्त पत्रकार की बेटी भी हाल ही में कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं। माना जा रहा है कि प्रेसवार्ता में मौजूद सभी पत्रकारों को भी अब क्वारंटीन होना पड़ेगा। कमलनाथ की प्रेसवार्ता में कोरोना पॉजिटिव मरीज के पत्रकार पिता भी पहुंचे थे। इसी प्रेसवार्ता में कमलनाथ ने अपने इस्तीफे की घोषणा भी की थी। इस वार्ता में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सहित कांग्रेस के सभी विधायक और प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारियों सहित लगभग 200 पत्रकार मौजूद थे।

इसके अलावा प्रशासन की ओर से प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद नेताओं की भी लिस्ट बनाई जा रही है, जो प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे। जानकारी के अनुसार अब सभी पत्रकारों के सैंपल लेने और जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। मध्यप्रदेश में अबतक कुल 15 पॉजिटिव कोरोना संक्रमित मिले हैं जिनका उपचार चल रहा है।

हालांकि उनके मीडिया कॉर्डिनेटर नरेंद्र सलूजा ने कमलनाथ के आइसोलेशन की खबरों का खंडन किया। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कोरोना से बचाव को लेकर पूरी सावधानी बरत रहे हैं।उनके बारे में फैलाई जा रही सूचना असत्य हैं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

आदित्य बिरला हेल्थ इंश्योरेंस का नया ऑफर:2 साल तक कोई क्लेम नहीं किया तो पूरा प्रीमियम वापस करेगी बीमा कंपनी

नई दिल्ली 27 फरवरी 2021 । आदित्य बिरला हेल्थ इंश्योरेंस ने अपने प्रमुख हेल्थ इंश्योरेंस …