मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> सरकार की शानदार योजना, घर के किराए से कम दें प्रतिमाह

सरकार की शानदार योजना, घर के किराए से कम दें प्रतिमाह

नई दिल्ली 6 अप्रैल 2019 । कल यानि रिज़र्व बैंक द्वारा मौद्रिक नीति की समीक्षा कर रेपो रेट में भारी कटौती करने का फैसला लिया गया जिससे कर्ज की ब्याज दरों में कम जाएंगी और इसका सीधा फायदा ऍम लोगों को होगा. इसके बाद वित्त मंत्री, अरुण जेटली ने कहा कि सरकार ब्याज दरों में इतनी कटौती करना चाहती है जिससे होम लोन की मासिक किश्त (मंथली इंस्टालमेंट), घर के किराए से कम हो जाए और आम लोगों का अपना घर हो.

घर के किराए से कम मासिक किश्त

अरुण जेटली ने कहा कि रिज़र्व बैंक के रेपो रेट कम करने का फायदा बैंक ब्याज दर कम करके ग्राहकों को देंगे. बैंक अपने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड्स बेस्ड लेंडिंग रेट्स (MCLR) का रिव्यू करेंगे यानि बैंक अपने ग्राहकों से वसूलने वाले ब्याज दर की समीक्षा कर उसमें कमी करेंगे. वित्त मंत्री ने आगे कहा कि अब RBI ने एक नई पॉलिसी विकसित की है जिसके आधार पर बैंक लोन के लिए ब्याज दर निर्धारित करते हैं. MCLR की गणना धनराशि की लागत, सर्कुलेशन कॉस्ट और कैश रिजर्व रेशियो (CRR) को बनाए रखने की लागत के आधार पर की जाती है. इसके बाद कैलकुलेशन कर लोन दिया जाता है. इसकी दर कम होने की वजह से पर्सनल लोन, कार लोन, होम लोन और अन्य लोन सस्ते होते हैं. कुछ समय बाद इसका फायदा नजर आएगा.

RBI की नई पॉलिसी से लोन होगा सस्ता

गौरतलब है कि कल रिजर्व बैंक ने दो महीनों में लगातार दूसरी बार रेपो रेट (जिस दर पर RBI बैंकों को कर्ज देती है) में कटौती की है. अब रेपो रेट 6.25 से घटकर 6 प्रतिशत हो गई है. इससे पहले भी रेपो रेट में 0. 25 की कटौती की गई थी.रेपो दर के घटकर छह फीसदी पर आने से बैंकों की उधार लेने की लागत कम होगी और इस राहत को बैंक जल्द ग्राहकों तक पहुंचाएंगे.

वित्त मंत्री ने कहा कि जब अटल बिहारी वाजपयी की सरकार थी तब होम लोन इतना सस्ता हो गया था कि ईएमआई की कॉस्ट घर के किराए से भी कम हो गई थी. अक्सर ऐसा देखा जाता है कि रेपो रेट में कटौती का फायदा बैंक, ग्राहकों को देने से हिचकिचाते हैं? इस सवाल पर पर वित्त मंत्री ने कहा कि बैंक के अपने तरीके हैं जिसकी वजह से वह कोई भी परिवर्तन तुरंत नहीं कर पाते लेकिन कुछ समय बाद वह इसे जरूर करेंगे, आरबीआई गवर्नर ने कहा कि वह बैंकों के साथ सलाह-मशविरा कर बदलाव की पॉलिसी लेकर आएं हैं. उक्त बातें जेटली ने एचटी मीडिया को दिए अपने इंटरव्यू में कही.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

31 जुलाई तक सभी बोर्ड मूल्यांकन नीति के आधार पर जारी करें परिणाम, सुप्रीम कोर्ट ने दिए आदेश

नई दिल्ली 24 जून 2021 । देश के सभी राज्य बोर्डों के लिए समान मूल्यांकन …