मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> स्कीम नंबर 54 की बेशकीमती 61 हजार स्क्वेयर फीट जमीन को कौड़ियों के दाम मे दैनिक भास्कर ग्रुप को देने के इंदौर नगर निगम की पूर्व महापौर परिषद के आदेश को हाई कोर्ट ने किया खारिज

स्कीम नंबर 54 की बेशकीमती 61 हजार स्क्वेयर फीट जमीन को कौड़ियों के दाम मे दैनिक भास्कर ग्रुप को देने के इंदौर नगर निगम की पूर्व महापौर परिषद के आदेश को हाई कोर्ट ने किया खारिज

इंदौर 17 अक्टूबर 2019 । इंदौर हाईकोर्ट के माननीय जज एस सी शर्मा और शैलेन्द्र शुक्ला की डबल बेंच पीठ ने इंदौर के स्कीम नंबर 54 मे आनंद मोहन माथुर सभा गृह की सामने इंदौर नगर निगम के स्वामित्व की 61000 स्क्वेयर फीट बेश कीमती जमीन कौड़ियों के दाम (मात्र 81लाख रुपए) मे दैनिक भास्कर ग्रुप की कंपनी भास्कर फिस्कल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (वर्तमान मे भास्कर इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड) को देने के सन 2004 में इंदौर नगर निगम की तत्कालीन महापौर परिषद् के पारित प्रस्ताव क्रमांक 655 दिनांक 22 सितंबर 2004 आदेश को खारिज कर दिया है.(इंदौर हाईकोर्ट आदेश दिनांक 25 /7/2019 पिटिशन नंबर CONC NO. 138/2017)
चूँकि उपरोक्त 61000 स्क्वेयर फीट की बेशकीमती जमीन का शाशकीय लैंड यूज गार्डन और पार्क के लिए था. उसे तत्कालीन महापौर परिषद् ने बिना मध्यप्रदेश नगर तथा ग्राम निवेश अधिनियम 1973 के नियमों और कानूनों का पालन किए और बिना किसी अधिकार के उपरोक्त 61 हजार स्क्वेयर फीट की बेशकीमती जमीन दैनिक भास्कर ग्रुप की उपरोक्त कंपनी के नाम कर दी थी मात्र कुछ लाख रुपए में.!?
गौर तलब है कि उपरोक्त जमीन पर पहले सेपटिक टैंक था उसे निकलवा कर वहा दैनिक भास्कर ग्रुप की कंपनी को 10 मंजिला हाई राइस बिल्डिंग बनाने की अनुमति भी दे दी थीं!?
गौर तलब है कि इंदौर नगर निगम सीमा से लगे ग्राम तलावली चांदा में दैनिक भास्कर ग्रुप की टाउन शिप डी बी प्राइड 1 और डी बी प्रा ई ड 2 मे भी जहा पहले भास्कर प्रिंटिंग प्रेस के लिए भास्कर ग्रुप की इसी कंपनी भास्कर फिस्कल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड को जमीन आवंटित की गई थी वहा पर कलेक्टर के आदेश पर लैंड यूज आवासीय कर दोनों टाउनशिप शिप बनायी जा रही है!? ये दोनों टाउन शिप भी गहन जांच का विषय है!?

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …