मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> बढ़ा हुआ वोट हमारा था, हम पिछली बार से भी ज्यादा सीटें जीतेंगे

बढ़ा हुआ वोट हमारा था, हम पिछली बार से भी ज्यादा सीटें जीतेंगे

भोपाल 9 दिसंबर 2018 । हम 2013 के विधानसभा चुनाव से भी अधिक सीटें जीतने जा रहे है। यह हमारा आंकलन है और इसका ठोस आधार हमारे पास है। हमारे कार्यकर्ता का कठोर परिश्रम, हमारी सरकार द्वारा किए गए काम और विभिन्न स्तर पर प्राप्त हुई जानकारी के आधार पर हम आत्मविश्वास से भरे हुए है। यह स्पष्ट है कि जनता के पास कांग्रेस को वोट देने का कोई कारण नहीं था। यह जो ढाई प्रतिशत वोट बढ़ा है वह भाजपा सरकारों की नीतियों और योजनाओं को स्पष्ट समर्थन है। यह बात आज प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने कही। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष ने पहले आगे के पांच साल के लिए नेतृत्व की बधाई देते हुए मुख्यमंत्री का सभी कार्यकर्ताओं की ओर से अभिनंदन किया और फिर मुख्यमंत्री ने प्रदेश अध्यक्ष को कुशल संगठनात्मक संचालन के लिए अभिनंदित किया।

बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि हमारे व्यवहारिक आंकलन के सामने कोई भी आंकलन टिकता नहीं है और हमने देखा है कि मतदाताओं में और विशेषकर युवाओं, महिलाओं तथा नवमतदाताओं में भाजपा के प्रति विशेष स्नेह उमड़ रहा था। इस बार 40 लाख नए मतदाताओं ने वोट डाला और वह वोट हमारा वोट था। इस चुनाव में गरीबों ने भाजपा का साथ दिया है। क्योंकि हमारी सरकार ने गरीबों के जीवन को बदलने का काम किया है। हम जोरदार और स्पष्ट बहुमत की ओर बढ़ रहे है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस बौखलाई हुई है। इसलिए रोज नए प्रपंच कर रही है। मुख्यमंत्री ने कार्यकर्ताओं से कहा कि उन्हें यह समझ लेना चाहिए कि सत्ता के बिना बिन पानी की मछली की तरह तड़प रही कांग्रेस मतगणना के समय माहौल खराब करने का प्रयास करेगी। लेकिन हमारे कार्यकर्ता को डटे रहना है, अडे रहना है। कांग्रेस के किसी भी दुस्साहस से डरने की आवश्यकता नहीं है। कार्यकर्ताओं को यह बात भी अच्छी तरह समझने की आवश्यकता है कि एक्सिट पोल ने 2008 में और 2013 में भी हमें ज्यादा सीट नहीं दी थी। फिर भी हम प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आए और हमारा संगठनात्मक और तकनीकी आंकलन आज हमें फिर इस बात की गारंटी दे रहा है कि एक्सिट पोल की सच्चाई से कहीं दूर हम भारी बहुमत के साथ अगले पांच साल फिर मध्यप्रदेशवासियों की सेवा करेंगे। हम सभी जानते है कि मध्यप्रदेश की जनता ने 2008 में हमें जो सीटें दी थी, उससे अधिक सीटें 2013 में प्राप्त हुई। हमें उम्मीद है कि यह बढ़ता क्रम जारी रहेगा और कार्यकर्ताओं को अत्यधिक उत्साहजनक परिणाम प्राप्त होंगे।

इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने कहा कि हमारा दृढ़ विश्वास है कि हम पिछली बार से भी अधिक सीटें जीतकर सरकार बनायेंगे। हमने सभी स्तर पर आंकलन करा लिया है और सभी आंकलन यह कहतें है कि सरकार की योजनाओं ने मतदाता को भाजपा की ओर बड़ी तादाद में आकर्षित किया है। ऐसे एक्सिट पोल का कोई अर्थ नहीं है जो सभी एक दूसरे के विरूद्ध आंकड़े देते है। लेकिन वहीं हमने अपने तरीके से जो आंकलन कराया है उसमें हम बहुत कंजूसी करके भी बताए तब भी हमें भारी मात्रा में सीटें मिल रही है और आश्चर्य नहीं होगा कि इस बार भाजपा पहले से भी अधिक सीटे जीतकर एक नया रिकार्ड कायम करे।

यह कांग्रेस को भी पता है कि हम प्रचंड विजय की ओर बढ़ गए है। यही कारण है कि कांग्रेस लगातार ईवीएम पर हार का ठीकरा फोड़ने के लिए नए नए जतन कर रही है। कांग्रेस ने हारने के बाद यही बाकी राज्यों में किया था और यही मध्यप्रदेश में करने वाली है।

उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि मतगणना के दौरान पूरी सतर्कता रखें। किसी से डरने की या किसी के दबाव में आने की आवश्यकता नहीं है। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष ने प्रदेश पदाधिकारियों को मतगणना तैयारियों के संबंध में विस्तृत दिशा निर्देश भी दिए। भारत माता की जोरदार जयकारे के साथ बैठक का समापन हुआ।

क्या वाकई CM हाउस से बोरिया-बिस्तर समेट रहे शिवराज, जानिए सच्चाई

मध्य प्रदेश में चुनाव खत्म होने के बाद भी बीजेपी और कांग्रेस में लेटर वॉर खत्म नहीं हो रहा है. चुनाव में मतदान होते ही अब एक ऐसा लेटर सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है जिससे सीएम हाउस तक हिल गया है, क्योंकि इस बार सीएम शिवराज द्वारा मुख्यमंत्री आवास खाली करने का बिल वायरल हुआ है.

सोशल मीडिया में जो बिल वायरल हो रहा है उसमे शिवराज सिंह चौहान का न सिर्फ नाम लिखा है बल्कि जिस घर से सामान शिफ्ट करना है उसमें पता सीएम हाउस का लिखा है और साथ ही शिवराज के बेटे कार्तिकेय के नाम से एक मेल आईडी भी दी गई है.

बिल में ये सामान महाराष्ट्र के गोंदिया भेजने के लिए 15 लाख का खर्चा दिखाया गया है. इस बिल की सच्चाई जानने के लिए आजतक की टीम भोपाल के विद्यानगर इलाके में बने पैकर्स एंड मूवर्स के दफ्तर पहुंची. दफ्तर में हमें मिले यहां काम करने राहुल गुप्ता मिले.

राहुल ने वायरल हो रहे बिल में कई गलतियां पकड़ी और बताया कि उनकी कंपनी से जो बिल जारी किए जाते हैं वो इससे बिल्कुल अलग होते हैं. राहुल ने बताया कि वायरल हो रहे बिल में सिवाय कंपनी के लोगों के कुछ भी असली नहीं है. राहुल ने हमें बताया कि कंपनी के पास भी इस वायरल बिल की जानकारी आई थी, जिसके बाद पुलिस में इसकी शिकायत की गई.

कंपनी के कर्मचारियों ने बताया कि वायरल हो रहा बिल कैसे कंपनी द्वारा जारी किए जाने वाले बिल से अलग है. वायरल हो रहे बिल में कंपनी का लोगो बाएं तरफ है, जबकि असली बिल में ये लोगो दाईं तरफ एक फोटो के बाद होता है.

वायरल हो रहे बिल में कंपनी के नाम की स्पेलिंग भी गलत है. (Fake में Agrwal और Real में Agarwal)वायरल हो रहे बिल में नकदी के आवागमन का ज़िक्र है, जबकि कंपनी कभी भी कैश का आवागमन नहीं करती और उसके लिए ग्राहक को ही कैश साथ ले जाना होता है. वायरल बिल में जीएसटी नंबर भी गलत लिखा है.

एफआईआर हुई दर्ज

मामला सीएएम हाउस से जुड़ा था लिहाजा कंपनी ने बिना देर किए इसकी शिकायत पुलिस में की. सायबर एसपी राजेश भदौरिया ने आजतक को बताया कि मामले में सायबर सेल ने IPC 469 और आईटी एक्ट की धारा 66(C) और 66(D) के तहत मामला दर्ज कर लिया.

बीजेपी ने बताया कांग्रेस की शरारत

इन सबके बीच सीएम शिवराज के सीएम हाउस खाली कराने वाले वायरल कोटेशन को बीजेपी प्रवक्ता हितेश बाजपेयी ने कांग्रेस के डर्टी ट्रिक्स डिपार्टमेंट का काम बताया है तो वहीं कांग्रेस का कहना है कि ये डर्टी ट्रिक्स डिपार्टमेंट बीजेपी के पास है. कांग्रेस ने तंज कसते हुए कहा कि सीएम हाउस तो जनता 11 तारीख को खाली करा लेगी.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Facebook न्यूज़ इंडस्ट्री को 3 साल में 1 अरब डॉलर का करेगा भुगतान

नई दिल्ली 26 फरवरी 2021 । Google के नक्शे-कदम पर चलते हुए सबसे बड़े सोशल …