मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> बिजली विभाग की एक गलती से आदमी कभी शादी नहीं कर पाया

बिजली विभाग की एक गलती से आदमी कभी शादी नहीं कर पाया

नई दिल्ली 28 नवम्बर 2019 । 27 अप्रैल, 2009 को आनंद कुमार अपने घर लौट रहे थे. समय था रात के साढ़े नौ बजे. पास में ही तमिलनाडु इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड के कर्मचारी एक बिजली का खम्भा हटाने में लगे हुए थे. वेल्डिंग चालू थी. जैसे आनंद उसके नीचे से गुजरे, वो खंभा उनके ऊपर गिरा. सिर, कंधों और रीढ़ की हड्डी पर चोट लगी. वो वहीं चोट खाकर गिर पड़े.

उसके बाद से ही आनंद कुमार व्हीलचेयर पर रहने को मजबूर हो गए. मामला दर्ज हुआ. चेन्नई कारपोरेशन और तमिलनाडु इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड पर. कि उनकी गलती की वजह से आनंद कुमार की ये हालत हुई. सुनवाई शुरू हुई. सिंगल जज की बेंच ने पांच लाख रुपए का मुआवजा देने की बात कही. चेन्नई कारपोरेशन ने इसके खिलाफ अपील की. मद्रास हाई कोर्ट में जस्टिस एन किरुबाकरण, और जस्टिस पीवी वेलमुरुगन ने मामले में फैसला सुनाते हुए मुआवजे की रकम 63 लाख कर दी.

उस एक एक्सीडेंट की वजह से आनंद पूरी तरह से दूसरों पर निर्भर हो गए. कोर्ट में मामला तब से चल रहा है. अब जाकर इसमें उन्हें कुछ राहत मिली है. (सांकेतिक तस्वीर: Unsplash)
कोर्ट ने क्या कहा?

इस हादसे में जान तो बच गई, लेकिन आनंद कुमार पैराप्लेजिक हो गए. यानी कमर से नीचे का हिस्सा उनका लकवाग्रस्त हो गया. जजों ने कहा कि इस हादसे की वजह से ना सिर्फ आनंद व्हीलचेयर से बंधे रहने को मजबूर हुए, बल्कि उनके शादी करने की भी सभी संभावनाएं ख़त्म हो गईं. संविधान का अनुच्छेद 21 मौलिक अधिकारों की बात करता है. इसमें शादी कर उसका सुख लेना (मैरिटल ब्लिस) किसी भी व्यक्ति का मौलिक अधिकार है. इस हादसे की वजह से आनंद से वो अधिकार छीन लिया गया. उन्हें जबरन ब्रह्मचर्य का पालन करना पड़ा. ये उनका अपना चुनाव होता तो कोई बात नहीं थी, लेकिन हादसे की वजह से उनका शादी करना और उस शादी को मुकम्मल करना असंभव हो गया.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …