मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> देहरादून में पटौदी परिवार की बहु अमृता -बेटी सारा अली खान संपत्ति विवाद को लेकर थाने पहुंची

देहरादून में पटौदी परिवार की बहु अमृता -बेटी सारा अली खान संपत्ति विवाद को लेकर थाने पहुंची

देहरादून  23 जनवरी 2019 । अभिनेत्रा शैफ अली खान की पत्नी अमृता सिंह और उनकी बेटी सारा अली खान एक संपत्ति विवाद को लेकर देहरादून के क्लेमनटाउन थाने में पहुंची, जहां उन्होंने अपने मामा की संपत्ति को लेकर थानाध्यक्ष के आगे अपनी बात रखी। इस दौरान उन्होंने कहा कि उनके मामा की करोड़ों की 24 बीघा जमीन और अन्य संपत्ति पर कुछ माफिया नजर बनाए हुए हैं। वहीं संपत्ति के केयरटेकर खुशीराम ने अमृता सिंह और सारा अली खान पर घर संपत्ति पर अपना हक जमाने और जबरन घर घुसने की लिखित शिकायत पुलिस में दी है।

अमृता सिंह के मामा की संपत्ति है देहरादून में

बता दें कि पटौदी परिवार की बहु और शैफ अली खान की पहली पत्नी अमृता सिंह के मामा मधुसूदन की देहरादून के क्लेमनटाउन इलाके में 24 बीघा जमीन और मकान है। मधुसूदन को फेफड़े का कैंसर था, जिसके चलते शनिवार सुबह उनकी जौलीग्रांट अस्पताल में मौत हो गई।

मुंबई से पहुंची देहरादून अमृता-सारा

मामा की मौत पर अमृता सिंह अपनी बेटी सारा अली खान और अन्य रिश्तेदारों के साथ मुंबई से देहरादून पहुंची। यहां चंद्रबदनी शमशान घाट में अंतिम संस्कार के दौरान ही अमृता सिंह बेटी सारा और अन्य के साथ मामा के क्लेमनटाउन स्थित घर पहुंच गई। यहां उसकी मुलाकात केयरटेकर खुशीराम से हुई और कहा जा रहा है कि दोनों के बीच काफी नोंकझोंक भी हुई। अमृता सिंह केयरटेकर से संपत्ति और घर की चाबी मांग रही थी, नहीं देने पर वह वहां से निकल गईं।

क्लेमनटाउन थाने पहुंची अमृता

इसके बाद अमृता सिंह क्लेमनटाउन थाने पहुंची , जहां उन्होंने थानाध्यक्ष धर्मेंद्र रौतेला के सामने काफी देर तक अपना पक्ष रखा। इस दौरान उन्होंने उनके मामा की संपत्ति पर कुछ माफिया द्वारा कब्जा किए जाने की बात कही। हालांकि इससे पहले भी वह अपना वकीलों के जरिए इस बात का संज्ञान पुलिस और प्रशासन को दे चुकी हैं।

खुशीराम बोला- मामा ने खत्म कर दिए थे रिश्ते

इस पूरे घटनाक्रम पर मधुसूदन की संपत्ति के केयरटेकर खुशीराम ने कहा कि इस संपत्ति को लेकर उनकी बहन ताहिरा बिम्बेट और भांजी अमृता सिंह के बाद विवाद चल रहा है, जिसके दो अलग अलग मामले कोर्ट में चल रहा है। इस दौरान खुशीराम का कहना है कि उन्होंने इन दोनों से ही अपने संबंध खत्म कर दिए थे, लेकिन संपत्ति के चक्कर में अब दोनों अपना हक जता रहे हैं। बहरहाल, अभी मामला कोर्ट में है, इसलिए मैंने चाबी उन्हें नहीं सौंपी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Urdu erased from railway station’s board in Ujjain

UJJAIN 06.03.2021. The railways has erased Urdu language from signboards at the newly-built Chintaman Ganesh …