मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> स्मृति के बिगड़े बोल, ग़रीब के घर खर्च की कीमत बताई इस नेता के जूते के बराबर

स्मृति के बिगड़े बोल, ग़रीब के घर खर्च की कीमत बताई इस नेता के जूते के बराबर

अमेठी 11 अप्रैल 2019 । 2014 की हार को जीत में बदलने के लिए स्मृति ईरानी की जुबान पर बड़बोले बोल सामने आने लगे हैं। मंगलवार को पंचायत प्रतिनिधि सम्मेलन में उनके बोल बिगड़ गए और उन्होंने कहा कि जो लोग वातानुकूलित गाड़ियों में घूमते हैं, जिन लोगों के जूते इतने महंगे होते हैं कि ग़रीब के महीने का खर्चा उससे निकल आए, उनको अमेठी ने वोट देकर सत्ता के सिंहासन पर बैठाया है। स्मृति ईरानी ने आगे कहा कि और अमेठी का ग़रीब बिना किसी चप्पल के तपती धूप में वर्षों तक चलता रहा।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अपने संबोधन में मंगलवार को एक बार फिर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोला।यहां मौजूद प्रमुख, प्रधानों और बीडीसी को संबोधित करते हुए कहा कि मैं पूछना चाहती हूं कि कांग्रेस में क्या संभव है कि एक व्यक्ति गांव से अपनी राजनीति शुरू करे और देश का प्रधानमंत्री बन जाए? ये संभावना भारतीय जनता पार्टी में ही है क्योंकि भारतीय जनता पार्टी वोटर के लिए काम करती है, वोट के लिए नहीं। मंच पर बैठे योगी सरकार के मंत्री मोती सिंह की ओर उन्होंने इशारा करते हुए कहा कि आज मोती सिंह जी स्वयं एक बहुत बड़ा उदाहरण हैं। अंत में उन्होंने कहा कि अमेठी का ये लोकसभा चुनाव किसी संग्राम से, किसी संघर्ष से कम नहीं। अमेठी का यह लोकसभा चुनाव आपके, आपके गांव व आपके बच्चों के भविष्य का चुनाव है।

उल्लेखनीय है कि यहां मीडिया से बात करते हुए स्मृति ने कहा कि ये तो बच्चा-बच्चा जानता है कि प्रधानमंत्री कितना काम करते हैं। “उन्होंने यह भी कहा कि अगर राहुल जितना ध्यान प्रधानमंत्री पर देते हैं, अगर उससे आधा ध्यान अमेठी पर देते तो आज अमेठी का यह हाल नहीं होता।”

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

अमित शाह के बयान पर नीतीश कुमार का तंज, बोले- इतिहास कोई कैसे बदल सकता है

नयी दिल्ली 14 जून 2022 । बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी सहयोगी पार्टी बीजेपी …