मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> चरणजीत सिंह चन्नी की ताजपोशी से भी नहीं थमी पंजाब कांग्रेस में रार, सिद्धू की तरफदारी के बाद रावत पर भड़के जाखड़

चरणजीत सिंह चन्नी की ताजपोशी से भी नहीं थमी पंजाब कांग्रेस में रार, सिद्धू की तरफदारी के बाद रावत पर भड़के जाखड़

नई दिल्ली 20 सितम्बर 2021 । कांग्रेस ने कांग्रेस में भले ही सरकार का मुखिया बदल दिया हो, लेकिन पार्टी में अभी भी गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। वरिष्ठ नेता और पंजाब इकाई के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने सोमवार को ट्विटर के जरिए अपनी नाराजगी जाहिर कर दी है। उन्होंने कहा कि वह पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत के इस बयान से हैरान हैं कि अगला विधानसभा चुनाव नवजोत सिंह सिद्धू के नेतृत्व में लड़ा जाएगी। हरीश रावत ने ठीक उसी दिन यह घोषणा की है जिस दिन चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के अगले मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने जा रहे हैं। उनके इस बयान से नए मुख्यमंत्री का अधिकार कमजोर हो सकता है।

सुनील जाखड़ ने ट्वीट कर कहा, ”मुख्यमंत्री के रूप में चरणजीत सिंह चन्नी के शपथ ग्रहण के दिन हरीश रावत का बयान (अगला विधानसभा चुनाव नवोजत सिंह सिद्धू के नेतृत्व में लड़ा जाएगा) चौंकाने वाला है। उनके इस बयान से मुख्यमंत्री के अधिकार को कमजोर करने की संभावना है।” आपको बता दें कि पंजाब में अगले कुछ महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार को पंजाब के मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया। रविवार को कांग्रेस ने मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए चरणजीत सिंह चन्नी को चुना। वह राज्य में सीएम की कुर्सी संभालने वाले पहले दलित बन गए। मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में से एक, सुनील जाखड़ ने अमरिंदर सिंह के इस्तीफा देने से कुछ घंटे पहले एक और रहस्यमयी ट्वीट किया था। उन्होंने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की सराहना की। पार्टी की राज्य इकाई के भीतर नेतृत्व संकट को समाप्त करने के लिए कैप्टन के इस्तीफो को उन्होंने राहुल गांधी का “साहसिक नेतृत्व निर्णय” करार दिया।

“गॉर्डियन नॉट” और “अलेक्जेंड्रियन सॉल्यूशन” जैसे शब्दों का उपयोग करते हुए, जाखड़ ने कहा कि नवीनतम कदम ने न केवल कांग्रेस कार्यकर्ताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया, बल्कि अकालियों को भी कमजोर कर दिया। उन्होंने लिखा, ”वाह राहुल गांधी, आपने बेहद उलझी हुई गुत्थी के पंजाबी संस्करण के समाधान का रास्ता निकाला है। आश्चर्यजनक ढंग से नेतृत्व के इस साहसिक फैसले ने न सिर्फ पंजाब कांग्रेस के झंझट को खत्म किया है, बल्कि इसने कार्यकर्ताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया है और अकालियों की बुनियाद हिला दी है।”रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिग्गज राजनेता सुनाल जाखड़ ने चन्नी के डिप्टी बनने के ऑफर को ठुकरा दिया है। पंजाब में दो उपमुख्यमंत्री होने जा रहे हैं। रविवार को चन्नी के नाम की घोषणा से पहले ही यह तय हो गया था कि नए मंत्रिमंडल में दो उपमुख्यमंत्री होंगे। एएनआई की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि एक हिंदू होगा और दूसरा सिख ।

रावत ने कहा था कि पंजाब में दो उपमुख्यमंत्रियों को नियुक्त करने का फैसला इसलिए लिया गया क्योंकि इसे जरूरी समझा गया था। उन्होंने कहा, “हमारी आपसी भावना यह है कि दो डिप्टी सीएम होने चाहिए। जल्द ही हम मंत्रिपरिषद के नामों के साथ इसपर अंतिम फैसला लेंगे। कुछ नामों पर चर्चा हुई है, लेकिन यह सीएम का विशेषाधिकार है जो पार्टी आलाकमान के साथ इस पर चर्चा कर इसे फाइवल करेंगे। “

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फतह मुबारक हो मुसलमानो, भारत के खिलाफ जीत इस्लाम की जीत…जश्न मनाने के बदले जहर उगलने लगा पाक

नई दिल्ली 25 अक्टूबर 2021 । खराब बल्लेबाजी और खराब गेंदबाजी की वजह से टीम …