मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> सरकारी नौकरी में चरित्र सत्यापन नहीं होगा: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह

सरकारी नौकरी में चरित्र सत्यापन नहीं होगा: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह

भोपाल 8 अक्टूबर 2021 । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज व्यवस्था में परिवर्तन की घोषणा करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में सभी प्रकार की सरकारी नौकरियों में चयनित उम्मीदवारों को चरित्र सत्यापन की प्रक्रिया से नहीं गुजरना होगा। इस प्रक्रिया में बहुत समय लगता है इसलिए अब केवल शपथ पत्र के आधार पर नियुक्ति दे दी जाएगी। सीएम शिवराज सिंह चौहान कोविड-19 अनुकंपा नियुक्ति योजना में कोविड महामारी से राज्य शासन के नियोजन में कार्यरत मृत शासकीय कर्मचारियों के आश्रित परिवार के सदस्यों को नियुक्ति-पत्र प्रदान करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री कोविड अनुकंपा नियुक्ति योजना के अंतर्गत पात्र हितग्राहियों के लिए अतिरिक्त पदों का निर्माण कर नियुक्ति आदेश जारी कर दिए जाएंगे। एक नवंबर से 15 नवंबर के बीच अभिलेख शुद्धिकरण पखवाड़ा आयोजित किया जाएगा।

चीफ मिनिस्टर शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि समस्त हितग्राही मूलक योजनाएं आवेदन करने से लेकर हितलाभ वितरण तक या अंश दान देने तक की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन कर दी जाएगी। उच्च शिक्षा विभाग में विद्यार्थियों को देने वाली सेवाओं को एक साल में ऑनलाइन करने की व्यवस्था कर दी जाएगी।

नागरिक सेवाएं जैसे आय प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, खसरा, भू अभिलेख, स्कॉलरशिप, पेंशन इत्यादि हेतु आवेदन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर प्राप्त कर नागरिकों के बिना शासकीय कार्यालय आए चैट बोर्ड के माध्यम से संबंधित ऐप पर ही ऑनलाइन प्रदान कर दी जाएंगी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

नरेश पटेल की एंट्री के कयास ने लिखी हार्दिक पटेल के एग्जिट की पटकथा

नयी दिल्ली 18 मई 2022 । कांग्रेस से लंबे समय से नाराज चल रहे गुजरात …