मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> काम ना मिलने पर पाई-पाई को मोहताज हुए ये 5 एक्टर, कोई बना गार्ड तो किसी ने बेचा बंगला

काम ना मिलने पर पाई-पाई को मोहताज हुए ये 5 एक्टर, कोई बना गार्ड तो किसी ने बेचा बंगला

नई दिल्ली 9 सितम्बर 2019 ।  बॉलीवुड में कब किसका वक्त पलट जाए कहा नहीं जा सकता। यहां बड़े-बड़े राजा भी कंगाल हो जाते हैं और रंक रातों-रातों शहंशाह बन जाते हैं, लेकिन कभी-कभी एक्टर्स ऐसी हालत में पाए जाते हैं कि उन्हें देखकर यकीन करना भी मुश्किल होता है। आज हम आपको ऐसे ही कुछ नामी एक्टर्स के बारे में बताएंगे जिन्होंने एक वक्त में फिल्म इंडस्ट्री पर राज किया लेकिन फिर उनकी हालत ऐसी हुई कि लोग उन्हें पहचान न सके। अमिताभ बच्चन और दिलीप कुमार के साथ काम कर चुके एक्टर सतीश कौल बेहद आर्थिक तंगी के बीच दिन गुजारे। 8 सितंबर 1954 को कश्मीर में जन्मे सतीश कौल का आज जन्मदिन भी है। जनवरी 2019 में उनके बारे में खबर छपने पर पंजाब सरकार ने पांच लाख रुपये की मदद भेजी थी। दरअसल सतीश के पास जो जमा-पूंजी थी वो एक बिजनेस में डूब गई। इसके बाद उनकी हालत कुछ महीने पहले ऐसी बिगड़ी कि अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल में भर्ती सतीश के पास इलाज के भी पैसे नहीं थे, बात मीडिया में आई तो फिल्म इंडस्ट्री के कुछ लोगों ने उनको मदद की। सलमान खान के साथ काम कर चुकीं एक्ट्रेस पूजा डडवाल की आर्थिक हालत इतनी खराब हो गई कि वह अपना इलाज तक नहीं करा पा रही थीं। एक्ट्रेस ने बताया कि मदद के लिए उन्होंने सलमान खान से संपर्क करने की कोशिश की थी लेकिन बात नहीं हो पाई। बाद में जब सलमान को ये बात पता चली तो मदद के लिए आगे आए। काफी अरसे से टीबी और फेफड़ों से संबंधित बीमारी से जूझ रहीं पूजा डडवाल अब ठीक हो गई हैं। बता दें पूजा ने 1995 में फिल्म वीरगति से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की थी। इस फिल्म में उनके साथ सलमान खान थे।  सवी सिद्धू ने अपने करियर की शुरुआत अनुराग कश्यप के साथ फिल्म पांच से की हालांकि यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर रिलीज नहीं हो सकी। इसके बाद उन्होंने अनुराग की ही फिल्म गुलाल और ब्लैक फ्राइडे, अक्षय कुमार के साथ पटियाला हाउस में काम किया। सवी के पास काम की कमी नहीं रही, उन्होंने यशराज बैनर और सुभाष घई की फिल्मों में किरदार निभाए लेकिन फिर उनकी जिंदगी में ऐसा दौर आया जब उन्हें इंडस्ट्री छोड़नी पड़ी। और बाद में अपने घर का खर्च चलाने के लिए गार्ड की नौकरी करनी पड़ी। साल 1963 से 1966 के दौरान राजेंद्र कुमार की सभी फिल्में सुपरहिट हुईं। कहा जाता है कि उस वक्त हर सिनेमाघर में राजेन्द्र कुमार की ही फिल्म लगी थी और सभी फिल्मों ने सिल्वर जुबली मनाई। जिस वजह से लोग राजेन्द्र कुमार को ‘जुबली कुमार’ कहकर बुलाने लगे। एक वक्त ऐसा आ गया था जब राजेन्द्र कुमार की आर्थिक स्थिति काफी खराब हो गई थी। यहां तक कि उन्होंने अपना बंगला राजेश खन्ना तक को बेच दिया था। इस बंगले का नाम उस वक्त ‘डिंपल’ था। लोगों का कहना है कि जिस दिन राजेन्द्र कुमार ने बंगला छोड़ा था वह उस रात फूट-फूटकर रोए थे। बॉलीवुड के चर्चित विलेन रहे महेश आनंद का हाल ही में निधन हो गया था। उनका शव सड़ी हुई अवस्था में उनके घर से बरामद हुआ जहां वो अकेले रहते थे। 57 साल के महेश आनंद की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। उन्हें 18 सालों से फिल्मों में काम नहीं मिला था।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

राहुल ने जारी किया श्वेतपत्र, बोले- तीसरी लहर की तैयारी करे सरकार

नई दिल्ली 22 जून 2021 । कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस …