मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस में होने जा रहे हैं ये बड़े उलटफेर!

चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस में होने जा रहे हैं ये बड़े उलटफेर!

भोपाल 29 जुलाई 2018 । मध्यप्रदेश सहित राजस्थान व छत्तीसगढ़ में जल्द ही चुनाव होने हैं। इन चुनावों में जहां भाजपा सत्ता काबिज रहने की कोशिशों में जुटी हुई है। वहीं कांग्रेस लगातार कोशिशों में जुटी है कि वह भाजपा को उखाड़ कर सत्ता में काबिज हो सके।

राजनीति के जानकारों की माने तो कांग्रेस का इन चुनावों सबसे ज्यादा ध्यान मध्यप्रदेश पर ही है। इसी के चलते हर तीन से पांच दिन में वह अपनी चुनाव की योजना को और तीखी धार देने में व्यस्त है। इसी के चलते लगातार रणनीति में बदलाव कर वह अपनी रणनीति की काट का कोई तरीका दूसरे दलों के पास नहीं छोड़ रही है।

इसी बीच कांग्रेस ने एक बार फिर पार्टी में बड़े उलटफेर के संकेत दिए हैं। दरअसल प्रदेश कांग्रेस में चल रही आपसी गुटबाजी के चलते पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने मीडिया विभाग के प्रमुख की जिम्मेदारी से मानक अग्रवाल की छुट्टी कर दी है।

इसके बाद अब यह जिम्मेदारी पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता शोभा ओझा को सौंपी गई है। वहीं सूत्रों का मानना है कि प्रदेश कांग्रेस में अगले दो दिन के भीतर भी बड़ा भारी उलटफेर हो सकता है। इसमें मीडिया में नए पदाधिकारियों को जिम्मेदारी दी जाएगी, साथ ही निष्क्रिय प्रवक्ताओं को बाहर का रास्ता भी दिखाया जा सकता है।

इन सब बदलावों की चर्चा के बीच ही मध्य प्रदेश कांग्रेस ने युवा कांग्रेस को एक और जिम्मेदारी सौंप दी है। इसके तहत विधानसभा चुनाव के लिए तैयार की जा रही वोटर लिस्ट का फर्जीवाड़ा बताने के लिए अब यूथ कांग्रेस गांव-गांव और कस्बों में वोटर लिस्ट की गड़बड़ियों के होर्डिंग्स लगाएगी।

कांग्रेस में हड़कंप…
वहीं जो जानकारी सामने आ रही है उसके अनुसार बुधवार को पीसीसी में अचानक हुए बदलाव से कांग्रेस में हड़कंप मच गया है। यहां तक कहा जा रहा है कि मानक अग्रवाल के बाद अब प्रदेश संगठन मंत्री चंद्र प्रभाष शेखर व कोषाध्यक्ष गोविंद गोयल को भी हटाया जा सकता है।

इसकी वजह पीसीसी अध्यक्ष के इन पदाधिकारियों के कामकाज से संतुष्ठ नहीं होना बताई जाती है। वहीं कमलनाथ को कुछ शिकायतें भी मिली हैं।

ये भी हो सकते हैं बदलाव…
ऐसे में कहा जा रहा है कि प्रदेश संगठन प्रभारी की जिम्मेदारी सुरेश पचौरी समर्थक राजीव सिंह को मिल सकती है। जबकि कोषाध्यक्ष के लिए पूर्व विधायक प्रकाश जैन का नाम चर्चा में बना हुआ है। वहीं इस संबंध में पीसीसी अध्यक्ष की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। वहीं सूत्रों से यह सूचना भी सामने आ रही है कि प्रदेश कांग्रेस में यह उलटफेर एआईसीसी के निर्देश पर हो रहे हैं।

मिश्रा को जल्द ही नई जिम्मेदारी!…
जबकि बदलाव वाले मामले में पिछले हफ्ते कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा की पीसीसी अध्यक्ष के कमलनाथ के साथ हुई बातचीत में यह तय हो गया था कि मिश्रा को जल्द ही नई जिम्मेदारी मिलेगी। मानक अग्रवाल के हटने के बाद यह माना जा रहा है कि केके मिश्रा फिर से मीडिया की जिम्मेदारी संभाल सकते हैं।

शोभा ओझा दिल्ली मीडिया देखेंगी और केके मिश्रा प्रदेश की मीडिया को संभालेंगे। खबर है कि पूर्व प्रवक्ता अभय दुबे एवं भूपेन्द्र गुप्ता को भी मीडिया में जिम्मेदारी सौंपी जा रही है। हालांकि किसी भी पदाधिकारी ने इसकी पुष्टि नहीं की है।

ये भी है नया प्लान…
मध्य प्रदेश कांग्रेस ने युवा कांग्रेस को विधानसभा चुनाव के लिए तैयार की जा रही वोटर लिस्ट का फर्जीवाड़ा बताने के लिए गांव-गांव और कस्बों में वोटर लिस्ट की गड़बड़ियों के होर्डिंग्स पर लगाने की जिम्मेदारी दी है। दरअसल कांग्रेस ने हाल ही में रतलाम जिले के आलोट विधानसभा में 9 हजार फर्जी मतदाता होने के आरोप लगाए थे।

इसके लिए उन्होंने बकायदा एक रिसर्च टीम की मदद से आलोट विधानसभा की पूरी वोटर लिस्ट का परीक्षण करवाया है। जांच के बाद कई चौंकाने वाली बातें सामने आईं हैं। एक ही नाम के कई वोटर, तो कहीं एक ही पते पर कई बोगस मतदाता इस सूची में सामने आए। जिसके बाद वोटर लिस्ट के इसी फर्जीवाड़े को भुनाने के लिए युवक कांग्रेस ने गांव-गांव में होर्डिंग लगाने की तैयारी की है।

31 जुलाई को वोटर लिस्ट के प्रकाशन के बाद युवक कांग्रेस फर्जी वोटरों की हकीकत को होर्डिंग्स के माध्यम से जनता के बीच में लाएगी। इसी तरह की कवायद पूरे प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्रों में युवक कांग्रेसी कर रहे हैं।

वहीं इस मुद्दे पर बीजेपी के नेताओं का कहना है कि युवक कांग्रेस के होर्डिंग वार से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। वहीं जानकारों की माने तो युवक कांग्रेस ने इस बार होर्डिंग वार से सीधा निशाना भाजपा के साथ साथ चुनाव आयोग पर भी साधने का प्लान बनाया है।

चुनाव की ये है तैयारी…
वहीं यह भी माना जा रहा है कि इस बार कांग्रेस बुदनी से आदिवासी उम्मीदवार उतार सकती है। दरअसल शुक्रवार को बुदनी के आदिवासियों के एक दल ने की कमलनाथ से मुलाकात की। यहीं उन्होंने बुदनी विधानसभा से टिकिट भी मांगा है। आंकड़ों के अनुसार बुदनी में करीब 40 हजार आदिवासी वोट बैंक है और पिछले चुनाव में सीएम शिवराज बुदनी से जीते थे ।

शिवराज जी कैसे दें शाबासी, जब महिलाएं करवा रही मुंडन- कमलनाथ

प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष कमलनाथ ने पीसीसी में मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि शिवराज चाहते है कि हम उन्हें शाबासी दे या पुरुस्कार दे, लेकिन प्रदेश का हाल यह है कि प्रदेश की महिलाये मुंडन करवा रही हैं। बच्चियों के साथ कुकृत्‍य हो रहा है और आत्महत्या हो रही है। लेकिन शिवराज सिंह इस बात से दुखी है कि कांग्रेस उनकी आलोचना कर रही है।

उन्‍होंने कहा कि प्रदेश में इस सरकार से हर वर्ग परेशान है, इसलिए मैं शिवराज जी को कहूंगा अपने खर्च पर यात्रा पर निकले। क्‍योंकि इस यात्रा में तो जनता के पैसों का
दुरुपयोग हो रहा है। नाथ ने कहा कि हमे चिंता है कि शिवराज सिंह नई परंपरा बना रहे है कि जनता के पैसों को खर्च कर अपनी राजनीति करो। पहले भावान्तर की निकाली, अब जनआशीर्वाद यात्रा यह तो जनता को गुमराह कर रहे है। नाथ ने कहा कि शिवराज जी कह रहे है वे पिछड़े जाति के है, इसलिये कांग्रेस उन पर आरोप लगा रही है तो यह प्रदेश की जनता तय करेगी। उन्‍होंने कहा कि अब उन्हें जाति की बात छोड़कर अपनी सरकार का हिसाब किताब देना चाहिये।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फतह मुबारक हो मुसलमानो, भारत के खिलाफ जीत इस्लाम की जीत…जश्न मनाने के बदले जहर उगलने लगा पाक

नई दिल्ली 25 अक्टूबर 2021 । खराब बल्लेबाजी और खराब गेंदबाजी की वजह से टीम …