मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> ये है देश का वह जिला जहां ATM मशीन चोरी के 150 से अधिक गिरोह

ये है देश का वह जिला जहां ATM मशीन चोरी के 150 से अधिक गिरोह

 उज्जैन 31 अगस्त 2019 । पूरे देश में इन दिनों ATM मशीन चोरी के गिरोह का कहर है। ये देश के किसी भी हिस्से से ATM मशीन ही उखाड़ कर ले जाते हैं, तो कभी तकनीकी खुराफात कर रुपए चोरी या धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम देते। खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट की माने तो देश का एक जिला ऐसा है, जो ATM चोरों का एक गढ़ है। पूरे देश में ATM चोरी के 80 प्रतिशत आरोपी इस जिले के मूलनिवासी हैं। जबकि 20 प्रतिशत आरोपी देश के अन्य हिस्सों से आते हैं। उज्जैन पुलिस ने ATM चोर गिरोह गढ़ के इस जिले के दो आरोपियों को दबोचा है। जिन्होंने अब तक तक पूछताछ में करीब साढ़े तीन लाख से अधिक रुपये की लेखा-जोखी कबूली है। इनसे कुल 80 ATM कार्ड जब्त किए गए हैं। शुक्रवार दोपहर पुलिस कंट्रोल के बैठक हॉल में एसपी सचिन कुमार अतुलकर ने इस मामले का खुलासा किया।

गिरफ्तार आरोपी आमिर पिता हासन (19) व वारिस पिता रति खान (26) दोनों निवासी ग्राम पिपरौली जिला मेवात (हरियाणा) हैं। एसपी अतुलकर के मुताबिक मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई थी कि देवासगेट चौराहा स्थित बूथ की ATM मशीन से दो संदिग्ध युवक गलत तरीके से रुपए निकालने का प्रयास कर रहे हैं। इस सूचना पर तत्काल माधवनगर सीएसपी श्रीमती हेमलता अग्रवाल के नेतृत्व में साइबर सेल व देवासगेट पुलिस की टीम मौके पर भेज उक्त दोनों संदिग्ध युवकों को हिरासत में लिया गया। एसपी अतुलकर ने ये भी बताया कि गिरफ्तारी में लेकर अब तक की गई पूछताछ में इन दोनों आरोपियों से भारतीय स्टेट बैंक के 19 ATM कार्ड से 3 लाख 52 हजार 754 रुपए लेन-देन का हिसाब सामने आया है। साथ ही इन आरोपियों ने कबूला है कि वे भारत के कई प्रदेशों में जाकर तकनीकी खुराफात के जरिए ATM मशीन से रुपए चोरी व धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम देते थे। फिलहाल दोनों आरोपियों से पूछताछ जारी है। जिस पर पूछताछ में ATM से चोरी या अन्य वारदातों के और भी खुलासे की उम्मीद है।

खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट की माने तो देश में हरियाणा का मेवात जिला ATM चोरों का गढ़ है। इस जिले में नूंह नगर हैं, जहाँ इन आरोपियों की संख्या अधिक है। नूंह दिल्ली-अलवर मार्ग पर स्थित है तथा गुड़गांव से करीब 45 किमी और देश की राजधानी दिल्ली से करीब 70 किमी की दूरी पर है। मेवात जिला जो आधिकारिक रूप से नूंह जिला कहलाता है पर यहाँ के निवासियों को मेवाती भी कहा जाता है। नूंह जिले में करीब 150 से ज्यादा ATM तोड़कर चोरी या तकनीकी खुराफात के जरिए धोखाधड़ी के 150 से ज्यादा गिरोह सक्रिय हैं, जो पूरे भारत में कहीं भी जाकर ATM तोड़ रुपए चोरी या धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम देने से नहीं घबराते हैं। आरोपियों के मेवात जिले का निवासी होने के कारण पकड़े जाने पर इन्हें मेवाती गिरोह के नाम से जाना जाता है।

क्योंकि नूंह या मेवात जिले से नोएडा भी ज्यादा दूर नहीं है। नोएडा के पास ATM मशीन बनाने की काफी कंपनियां हैं। साथ ही कई सारी स्क्रैप की दुकानें हैं। इन कंपनियों और दुकानों में मेवाती लोग भी काम करते हैं। इस कारण मेवाती लोगों को ATM मशीन की सारी जानकारी रहती है। इसलिए आसानी से सारी जानकारी जुटा मेवाती गिरोह ATM मशीन को अपना निशाना बना लेते है। यहाँ ये कहना पूरी तरह गलत होगा कि हर मेवाती ATM मशीन चोर है क्योंकि मेवातियों की आबादी करीब 35 से 40 लाख है और मेवाती गिरोह की संख्या महज 150 से अधिक हैं। यदि हर गिरोह में ATM मशीन चोरों की संख्या 10 या 20 भी होगी तो सारे गिरोह के सदस्य मिलाकर मेवाती चोरों की कुल संख्या 1500 या 3000 ही होगी।

 ATM चोरी या डकैती की ज़्यादातर वारदातों में मेवाती गिरोह ट्रक किराए पर लेते हैं। एक गिरोह में 8 से 10 सदस्य होते हैं। इनमें ATM मशीन जानकारी के 2-3 एक्सपर्ट सदस्य होते हैं। 3-4 सदस्य दो पहिया वाहनों से बूथों की रैकी करते हैं। जैसे ATM मशीन किस कंपनी की है। सुरक्षा रक्षक है या नहीं। शाम या रात में बूथ के आजू-बाजू चहल कदमी कितनी रहती है। ये चौपहिया वाहन चोरी के भी रहते हैं। बाद में बाकी सदस्य आकर ATM से रुपए चोरी या डकैती को अंजाम देते हैं। गैस कटर से ATM काटने में इन्हें 10 से 15 मिनट लगते हैं और पट्टे में हुक लगाकर वाहन से खींचने पर झटके में ही सफल हो जाते है। ATM उखाड़ कर ले जाने के लिए ये ट्रक को सुविधा अनुसार 10 से 40 किमी दूर रखते है। ट्रक तक ATM मशीन उखाड़कर चौपहिया वाहन में लाते हैं। यहाँ मशीन ट्रक में डालकर 50-60 किमी दूर ले जाकर मशीन तोड़-फोड़ कर रुपए निकाल स्क्रेब फेंक जाते हैं या फिर अलग-अलग रास्ते से साथ ले जाते है। पकड़े ना जाएं इसलिए कई मर्तबा ये चौपहिया वाहन के नंबर बदल उसे लावारिस अवस्था में अन्य प्रदेशों में पटक आते हैं। इसीप्रकार कई मेवाती गिरोह के सदस्य तकनीकी खुराफात से ATM मशीन से चोरी या धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम देते हैं। ये भी पूरे भारत के किसी भी हिस्से में वारदात करने से नहीं घबराते। इस तरह की वारदात में मेवाती गिरोह की संख्या 2 से 4 होती हैं।
उज्जैन में मेवाती गिरोह के गिरफ्तार दो आरोपियों को पकड़ने में इनकी विशेष भूमिका
माधवनगर सीएसपी श्रीमती हेमलता अग्रवाल, साइबर सेल प्रभारी मोहन आर्य, एसआई राजाराम वास्कले, अहमद, पीएसआई हेमराज यादव, हेडकांस्टेबल मान सिंह राणा, प्रवीण सिंह, कांस्टेबल महेश जाट, कन्हैया शर्मा “नानू”, राहुल पंवार, राजपाल सिंह चंदेल, कुलदीप भारद्वाज, सोमेंद्र दुबे, कन्हैया लाल मालवीय, जितेंद्र पाटीदार व कांस्टेबल पुनीत अवस्थी। मेवाती गिरोह के इन दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी में इन सभी की विशेष भूमिका हैं। एसपी अतुलकर ने कार्यों की प्रशंसा कर सभी को पुरस्कृत किए जाने का आश्वासन दिया है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

राहुल ने जारी किया श्वेतपत्र, बोले- तीसरी लहर की तैयारी करे सरकार

नई दिल्ली 22 जून 2021 । कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस …