मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> बीजेपी की पहली सूचि में यह नाम शामिल !

बीजेपी की पहली सूचि में यह नाम शामिल !

भोपाल 12 सितम्बर 2018 । मध्यप्रदेश बिधानसभा चुनाव की सरगर्मियां तेज हो गईं हैं .बीजेपी ने पहली सूचि कांग्रेस से पहले जारी करने की तैयारी कर ली हे .सूत्रों ने बताया की पहली सूचि में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ,जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ,मंत्री जयभान सिंह पबैया ,लाल सिंह आर्य ,गोपाल भार्गव ,विजय शाह ,उमाशंकर गुप्ता ,यशोधरा राजे सिंधिया ,राजेंद्र शुक्ल ,रामपाल सिंह ,भूपेंद्र सिंह ,जयंत मलैया ,अर्चना चिटनीस ,नारायण सिंह कुशवाह ,बिश्वाश सारंग ,सुरेंद्र पटवा ,दीपक जोशी ,शारद जैन, संजय सत्येंद्र पाठक शामिल हैं.इनके आलावा रमेश मेंदोला ,नरेंद्र सिंह कुशवाह ,दिव्य राज सिंह ,जालम सिंह पटेल नाना भाउ मोहोड़ ,वीर  सिंह  पवार ,श्रीमती गायत्री राजे पवार समेत और भी नाम शामिल हो सकते हैं ,बताया गया है की बीजेपी तीन सूची जारी करेगी .

BJP की रणनीति: 25 सीट कांग्रेस से छीनेंगे, मौजूदा में से 105 फिर जीतेंगे

एससी-एसटी एक्ट के विरोध में बने माहौल के बावजूद भारतीय जनता पार्टी मध्य प्रदेश में चौथी बार सरकार बनाने को लेकर आत्मविश्वास से भरी है। भाजपा के चार सर्वे, आरएसएस का फीडबैक और पार्टी सुप्रीमो अमित शाह की टीम की रिपोर्ट का निचोड़ बताता है कि बुरे से बुरे हालात में भी पार्टी सरकार बना लेगी। पार्टी का गणित ये है कि कांग्रेस के पास मौजूदा 57 सीटों में से 40 विधायक ऐसे हैं जिनके खिलाफ एंटी इनकमबेंसी का माहौल है। इसमें कम से कम 25 विधानसभा क्षेत्रों पर जीतने की रणनीति पर भाजपा काम कर रही है।दूसरा गणित मौजूदा 167 सीटों को लेकर है। इसमें 90 विधायकों की हालत खराब बताई गई है। पार्टी की रिपोर्ट के मुताबिक, 77 विधायक ऐसे हैं जो हर सूरत में चुनाव जीत जाएंगे। 38 सीट ऐसी चिन्हित की गई हैं जहां चेहरा बदलकर पार्टी अपना कब्जा बरकरार रखने में सफल हो जाएगी। तमाम कोशिशों के बावजूद पार्टी अधिकतम 70 सीटों पर नए चेहरे उतार पाएगी।पार्टी नेताओं का मानना है कि 20 सीटें ऐसी कमजोर हैं जहां जातिगत या परिवारवाद के कारण सीट नहीं बदली जा सकती है। ऐसी सीटों पर चेहरा बदलने से आसपास की सीटों पर नुकसान होने की आशंका है। पार्टी नेताओं की मानें तो किसी भी सूरत में भाजपा प्रदेश में सरकार बनाने में सफल रहेगी। चौथी बार सरकार में वापसी को लेकर भाजपा में तीन स्तर पर जोरों से तैयारियां चल रही है.

प्रदेश भाजपा तो अपने स्तर पर कवायद करवा ही रहा है, साथ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की टीम भी बराबरी से तैयारी में जुटी है। सभी मोर्चों पर मैदानी अध्ययन कर फीडबैक जुटाया जा रहा है। माहौल में दिन-प्रतिदिन आने वाले बदलाव पर भी पार्टी बारीकी से नजर रखे हुए है। उच्च पदस्थ नेताओं का दावा है कि जिन सीटों पर पार्टी की कमजोर स्थिति रहेगी, वहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह का उपयोग किया जाएगा।

खासतौर से मालवा-निमाड़ और महाकोशल को पार्टी चुनौती के रूप में ले रही है। यहीं बड़े नेताओं के दौरे कराए जाएंगे। शाह के जब प्रदेश में दौरे शुरू होंगे तो मंदसौर या उसके आसपास भी उनका दौरा रखा जाएगा। किसान गोलीकांड के कारण इस बेल्ट में शाह का प्रोग्राम इस नजरिए से बनाया जा रहा कि वहां लोगों की नाराजगी को दूर किया जा सके। इस क्षेत्र में सीएम की जनआशीर्वाद यात्रा को भी अच्छा प्रतिसाद मिला था। यहां लोगों की भारी भीड़ देखी गई थी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

भारत में कोरोना का सबसे बड़ा अटैक, एक दिन में पहली बार 2 लाख 34 हजार नए केस

नई दिल्ली 17 अप्रैल 2021 । कोरोना की दूसरी लहर हर दिन नए रिकॉर्ड बना …