मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> श्रावण माह इस बार खास, हर त्योहार पर विशिष्ट संयोग

श्रावण माह इस बार खास, हर त्योहार पर विशिष्ट संयोग

नई दिल्ली 27 जुलाई 2018 । श्रावण मास धर्म आराधाना की दृष्टि से तो महत्वपूर्ण है ही, इस बार विशिष्ट संयोगों ने इसे और भी खास बना दिया है। सालों बाद श्रावण में आने वाले त्योहारों पर तारीख और तिथि का अनूठा मेल हो रहा है। ज्योतिषयों के अनुसार तारीख, तिथि, वार, नक्षत्र आदि की ऐसी साक्षी फिर सालों बाद बनेगी।

14 साल बाद शनिश्चरी हरियाली अमावस्या

श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की हरियाली अमावस्या 14 साल बाद 11 अगस्त को शनिवार के दिन आ रही है। पंचागीय गणना के अनुसार शनिवार के दिन होने से यह शनिश्चरी हरियाली अमावस्या कहलाएगी।

ज्योतिषाचार्य पं.अमर डब्बावाला के अनुसार इससे पहले शनिश्चरी हरियाली अमावस्या का संयोग 27 जुलाई 2004 को बना था। इस दिन त्रिवेणी संगम पर स्नान होगा। अनंतपेठ व दूध तलाई में दिवासे का मेला लगेगा। तिथि और वार के विशिष्ट मेल से इस दिन प्रकृति पूजन के साथ शनिदेव की साधना करना श्रेयष्कर रहेगा।

71 साल में दूसरी बार स्वतंत्रता दिवस पर नागपंचमी

श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी नागपंचमी के नाम से जानी जाती है। इस बार 15 अगस्त के दिन नागपंमी आ रही है। आजादी के बाद यह दूसरा मौका है जब 15 अगस्त के दिन यह त्योहार आया है। आजाद भारत की जन्म कुंडली में पूर्ण कालसर्प योग है।

राष्ट्र व्यापी समस्याओं के निराकरण के लिए इस दिन विशेष अनुष्ठान किए जा सकते हैं। विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर के शीर्ष पर स्थित श्री नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट एक साल बाद 14 अगस्त की मध्यरात्रि को आमदर्शनार्थियों के लिए खुलेंगे।

3 साल बाद राखी पर भद्रा नहीं, दिनभर मनेगा त्योहार

भाई-बहन के प्रेम का पर्व राखी पर करीब 3 साल बाद भद्रा का प्रभाव नहीं रहेगा। बहने सुबह से लेकर रात तक किसी भी शुभ मुहूर्त में भाइयों को राखी बांध सकती हैं। पं.डब्बावाल के अनुसार श्रावणी पूर्णिमा पर इस बार धनिष्ठा नक्षत्र है। धनिष्ठा पंचक का नक्षत्र है। शुभ कार्यों में इसका फल पांच गुना अधिक मिलता है। धनिष्ठा नक्षत्र को धनप्रदाता माना गया है। इसलिए रक्षाबंधन का त्योहार भाई-बहन के लिए सुख समृद्धि के साथ आर्थिक संपन्न्ता देने वाला भी रहेगा।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फ्रांस से भारत आएंगे 4 और राफेल लड़ाकू विमान, 101 स्क्वाड्रन को फिर से जिंदा करने के लिए IAF तैयार

नई दिल्ली 15 मई 2021 । राफेल लड़ाकू विमान का एक और जत्था 19-20 मई …