मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> गिर के जंगलों में फिर तीन शेर शावकों की मौत

गिर के जंगलों में फिर तीन शेर शावकों की मौत

अमरेली 24 अक्टूबर 2018 । दुनिया में एशियाई शेरों की एकमात्र प्राकृतिक आवास गुजरात के गिर वन में हाल में 24 शेरों की मौत की घटना के बाद आज इसके निकटवर्ती एक गांव से तीन शेर शावकों के शव मिलने से सनसनी मच गई। जूनागढ़ के मुख्य वन संरक्षक डी टी वसावड़ा ने बताया कि चार से छह माह के इन तीन शावकों में दो मादा और एक नर है। इनके शव अमरेली जिले के खांबा तालुका में खडादरा गांव में गिर वन से 200 मीटर की दूरी पर राजस्व विस्तार से मिले। इनके शरीर पर दांत और नाखून के निशान होने तथा पास ही एक नीलगाय का शव मिलने से इनके शेरों की आपसी लड़ाई यानी इन फाइट में मारे जाने की पूरी आशंका है। इस क्षेत्र में दो नये शेर भी देखे गये हैं।

क्या कहा वन विभाग ने
बता दें कि गत 12 सितंबर से दो अक्टूबर के बीच अमरेली में ही इस जंगल के दलखानिया रेंज के सरसिसा वीडी विस्तार में एक ही समूह के 26 में से 23 शेर की मौत हो गयी जिनमें से कई खतरनाक कैनाइन डिस्टेंपर विषाणु के शिकार हुए थे। इसी विषाणु ने वर्ष 1991 में पूर्वी अफ्रीका के तंजानिया के जंगलों में एक हजार अफ्रीकी शेरों को मार डाला था। शुरूआत में इन शेरों की मौत के लिए भी शेरों की आपसी लड़ाई की बात वन विभाग ने की थी। हालांकि वसावड़ा ने दावा किया कि इन मौतों का दलखानिया की मौतों अथवा विषाणु से कोई लेना देना नहीं है। ये आपसी लड़ाई और चोट से मरे हैं।

गौरतलब है कि 13 अक्टूबर को जूनागढ़ जिले के विसावदर क्षेत्र कालवड गांव से एक युवा नर शेर का शव मिला था। उधर खडादरा इलाके में ही जंगल में रहने वाले एक मालधारी ने उसके बकरे पर हमला करने वाली एक शेरनी को कल गंभीर रूप से घायल कर दिया था।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

प्रियंका गांधी का 50 नेताओं को फोन-‘चुनाव की तैयारी करें, आपका टिकट कन्फर्म है’!

नई दिल्ली 21 जून 2021 । उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव …