मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> मुंबई में भारी बारिश से जलजमाव, करंट लगने से तीन लोगों की मौत

मुंबई में भारी बारिश से जलजमाव, करंट लगने से तीन लोगों की मौत

मुंबई 3 जून 2018 । भारी बारिश की वजह से कई इलाकों में लंबा जाम लग गया. कई इलाकों में घंटों गाड़ियां रेंगती रही. बारिश की वजह से कई इलाकों में लोगों को जलजमाव की समस्या से भी दो चार होना पड़ा. हालांकि बारिश की वजह से शहरवासियों को उमस भरी गर्मी से राहत भी मिली. खास बात यह है कि मुंबई में हुई यह मानसून की पहली बारिश है. शनिवार शाम चली तेज हवाओं ने पहले लोगों को राहत दी और बाद में बारिश की वजह से तापमान में गिरावट दर्ज की गई. शहर के कुछ इलाकों में हुए जलजमाव की वजह से तीन लोगों की मौत की भी खबर है. पुलिस के अनुसार तीनों युवक की मौत करंट लगने से हुई है.

ध्यान हो कि मुंबई में बारिश की वजह से होने वाले जलजमाव और ट्रैफिक जाम की समस्या कोई नई नहीं है.बीते कुछ वर्षों में मुंबई में बारिश की वजह से कई इलाकों में जलजमाव हुआ था, और इस वजह से शहर में रहने वाले आम लोगों को खासी दिक्कत हुई थी. गौरतलब है कि शहर में होने वाले जलजमाव से बचने के लिए बीएमसी की तैयारी पर हमेशा से सवाल खड़े होते रहे हैं.

अगर पिछले महीने की ही बात करें तो अकेले उत्तर-प्रदेश में सौ से ज्यादा लोगों ने आंधी तूफान की वजह से अपनी जान गंवाई. उत्तर-भारत के अलावा जिन इलाकों में आंधी तूफान का सबसे ज्यादा असर रहा वह पूर्वोत्तर का इलाका है. साथ ही बिहार और पश्चिम बंगाल में बीते कुछ दिनों में आंधी तूफान ने बड़े स्तर पर तबाही मचाई.

हालांकि बीते कुछ महीने भर में आए आंधी तूफान को लेकर मौसम विभाग ने पहले ही चेतावनी जारी कर दी थी. मौसम विभाग ने इस साल औसत से ज्यादा आ रहे आंधी तूफान के लिए पश्चिमी विक्षोब को जिम्मेदार बताया था.

सिंगरौली में आंधी तूफान व  बारिश से एक की मौत, 4 दिन से लगातार हो रही है आफत की बारिश

उर्जाधानी सिंगरौली में गत बुधवार से तेज आंधी तूफान के साथ शुरू हुई बारिश का सिलसिलाजारी रहा। शनिवार दोपहर 2.30 बजे तेज आंधी तूफान के दौरान शुरू हुई बारिश में आम का फल बिनने के दौरान मोरवा थाना क्षेत्र के एनसीएल मुख्यालय गेट के पास एक संविदा सुरक्षा कर्मी के ऊपर आम का पेड़ गिर गया, जिससे उसकी घटना स्थल पर ही मौत हो गयी। शुक्रवार को छोड़ पिछले चार दिन से लगातार एक से दो घंटे तक तेज आंधी तूफान के साथ हो रही झमाझम बारिश से जहाँ कइयों के आशियाने उजड़ गए तो वही जगह-जगह विशालकाय पेड़ों व खंभो के गिरने से आवागमन व बिजली आपूर्ति ठप्प हो गयी। मानसून से 15 दिवस पूर्व शुरू हुई आफत की बारिश से जनजीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया है।
शनिवार की दोपहर 2.30 बजे अचानक मौसम में परिवर्तन हुआ और तेज हवा व तूफान के साथ जिला क्षेत्र के वैढन ,विन्ध्यनगर, जयंत, मोरवा, गोरबी, बरगवां, अमलोरी, निगाही, तेलाई ,परसौना, कचनी, माजनमोड ,बिलौजी, खुटार, रजमिलान, माड़ा आदि जगहों पर झमाझम बारिश शुरू हो गयी। बारिश के बीच तेज हवा व तूफान से लोगो के आंख के सामने विशालकाय पेड़ व बिजली के खंभे धरासायी हो रहे थे। सड़को पर गिरे पेड़, खंभो के साथ पानी का जमाव हो गया। आवागमन को सुचारु रूप से व्यवस्थित करने नगर निगम सिंगरौली का अमला सड़क पर गिरे पेड़ो को हटाने में जुट गया जबकि बिजली कर्मी बिजली के फाल्ट को ढूंढने निकल गए। तूफान से कई लोगो के घर के सीटा उड़ गए। उधर बारिश के दौरान आम का फल बिन रहे संविदा सुरक्षा कर्मी मार्कण्डेय पाठक पुत्र हरिनारायण पाठक उम्र 56 पता वार्ड नं 4 अम्बेडकर नगर मोरवा स्थायी पता इरडीह धनसोयी बक्सर बिहार के ऊपर आम का पेड़ गिर गया जिससे गार्ड की घटना स्थल पर मौत हो गयी।
गौरतलब हो कि सिंगरौली जिला क्षेत्र में बुधवार , गुरुवार और आज शनिवार को लगातार तेज आंधी तूफान के साथ एक से दो घण्टे तक आफत की बारिश हुई है। मानसून पूर्व हो रही आफत की बारिश से जनजीवन बेहाल है। समाचार लिखे जाने तक पूरे जिले में बिजली आपूर्ति ठप्प रही है और सड़क पर गिरे पेड़ो को हटाने का काम युद्ध स्तर पर जारी है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Ram Mandir निर्माण के लिए Rajasthan के लोगों ने दिया सबसे ज्यादा चंदा

जयपुर: विश्व हिंदू परिषद (VHP) के केंद्रीय उपाध्यक्ष और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के …