मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> इटली में डेढ़ करोड़ लोगों पर यात्रा प्रतिबंध

इटली में डेढ़ करोड़ लोगों पर यात्रा प्रतिबंध

नई दिल्ली 9 मार्च 2020 । इटली में कोरोना वायरस से संक्रमण को रोकने के लिए एक करोड़ 60 लाख लोगों को अपनी जगह पर रुके रहने के लिए कहा गया है.

सरकार के आदेश के अनुसार लोम्बार्डी और 14 अन्य प्रांतों के लोगों को अब यात्रा करने के लिए इजाजत लेनी होगी.

मिलान और वेनिस भी कोरोना के संक्रमण से प्रभावित हुए हैं.

प्रधानमंत्री ग्युसेप कॉन्टे ने देश भर के स्कूल, जिम, म्यूज़ियम, नाइटक्लब और अन्य जगहों को बंद करने का आदेश दिया है.

चीन के बाहर इस तरह के कड़े कदम अभी केवल इटली में उठाए गए हैं, जो तीन अप्रैल तक प्रभावी रहेंगे.देश की एक चौथाई आबादी
यूरोप में कोरोना वायरस से इटली सबसे ज्यादा प्रभावित है. शनिवार को संक्रमण के मामलों में वहां तेजी दर्ज की गई है.

इटली में जिस तरह से कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए कड़े कदम उठाए गए हैं, उसके दायरे में देश की एक चौथाई आबादी आ गई है.

इससे भी ज़्यादा गंभीर बात ये है कि इटली का उत्तरी इलाका इससे प्रभावित है जो देश की अर्थव्यवस्था को ऊर्जा देता है.

इटली में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 230 हो चुकी है. अधिकारियों के मुताबिक़ वहां पिछले 24 घंटों में 36 लोगों की मौत हुई है.

शनिवार को कोरोना के पुष्ट मामलों की संख्या शुक्रवार की तुलना में 1200 बढ़कर 5883 हो गई है.प्रधानमंत्री कॉन्टे ने कहा, “हम अपने नागरिकों के स्वास्थ्य की गारंटी देना चाहते हैं. हम जानते हैं कि इन कदमों से लोगों को तकलीफ़ होगी. कुछ मामलों में छोटी तो कुछ मामलों में बड़ी.”

इटली के लोम्बार्डी प्रांत की आबादी एक करोड़ के क़रीब है. नए प्रतिबंधों की वजह से लोग न तो लोम्बार्डी में दाखिल हो सकेंगे और न ही वहां से बाहर निकल सकेंगे.

हालांकि आपातकालीन परिस्थितियों के लिए गुंजाइश रखी गई है. मिलान इस इलाके का प्रमुख शहर है. लोम्बार्डी के अलावा 14 अन्य प्रांतों में ऐसे ही प्रतिबंध लगाए गए हैं.

प्रधानमंत्री ने संवाददाताओं से कहा, “इन इलाकों में न कोई जा सकेगा और न ही इनसे बाहर निकल सकेगा. जब तक कि कोई ठोस वजह न हो, काम से जुड़ी कोई आपातकालीन स्थिति हो या फिर स्वास्थ्य कारण हो. हम आपातकालीन परिस्थिति का सामना कर रहे हैं. हमें इस वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकना है.”बाकी दुनिया में क्या हो रहा है?
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दुनिया भर में लगभग 102,000 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं और करीब 3,500 लोगों की मौत हो चुकी है. सबसे ज़्यादा मौतें चीन में हुई हैं जहां दिसंबर महीने से संक्रमण की शुरुआत हुई थी.

हालांकि चीन ने शनिवार को बताया कि जनवरी के बाद से उसने एक दिन में सबके कम संक्रमण मामले दर्ज किये. इसका मतलब शायद ये है कि वायरस का प्रसार धीमा पड़ रहा है.

चीन में शनिवार को को संक्रमण के 40 नए मामले दर्ज किये गए. ये पिछले शुक्रवार को दर्ज किए गए मामलों के आधे से भी कम है. इसके अलावा शनिवार को 27 नई मौतों का मामले सामने आए. ये पिछले एक महीने से ज़्यादे वक़्त में सबसे कम मौतों का आंकड़ा है. सभी मौतें वुहान में हुई थीं, जो कोरोना वायरस का केंद्र है.

ईरान में अब तक 6,000 संक्रमण के मामलों की पुष्टि हो चुकी है. ईरान, चीन के अलावा उन देशों में शामिल है जहां कोरोना का प्रकोप सबसे ज़्यादा है. ईरान में वायरस से संक्रमित 145 लोगों की मौत हो चुकी है.

डब्ल्यूएचओ प्रमुख टेड्रस एडॉनम ने संक्रमण फैलने को ‘बेहद चिंताजनक’ बताया है. उन्होंने सभी देशों को इसे अपनी ‘प्राथमिकता’ बनाने की अपील की है.

इस बीच कोरोना से सम्बन्धित कुछ ताज़ा अपडेट इस तरह है:

चीन के क़्वांज़ोऊ में कोरोना के मरीज़ों को अलग-थलग रखने के लिए इस्तेमाल में लाया जा रहा एक अस्पताल गिरने से छह लोगों की मौत हो गई है.
पोप फ़्रांसिस शनिवार की प्रार्थना लोगों के बीच न जाकर वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के ज़रिए करेंगे.
अमरीका में 3,533 यात्रियों को ले जा रही एक क्रूज़स शिप में 21 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए. इसके बाद शिप को सैन फ़्रांसिस्को के तट पर रोका गया और फिर पास के ओकलैंड बंदरगाह की तरफ़ भेज दिया गया.
अमरीका में राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और उपराष्ट्रपति माइक पेंस के कार्यक्रम में शामिल होने वाले एक शख़्स को कोरोना वायरस संक्रमण से पॉज़िटिव पाया गया है.
संक्रमण के ख़तरे की वजह से कनाडा में होने वाली महिलाओं की विश्व आइस हॉकी चैंपियनशिप रद्द कर दी गई है.
सऊदी अरब में मुसलमानों के पवित्र स्थल काबा को बंद कर दिया गया है.न्यूयॉर्क में आपातकाल
रविवार को दक्षिण कोरियाई अधिकारियों ने बताया कि एक दिन पहले संक्रमण के 367 नए मामले सामने आए. इसी के साथ दक्षिण कोरिया में अब कोरोना संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 7,134 हो गई है.

अमरीका में 400 से ज़्यादा मामले दर्ज किए गए हैं और मौतों का आंकड़ा 19 तक पहुंच गया है. न्यूयॉर्क में शुक्रवार को संक्रमण के मामलों की संख्या 44 से 76 हो गई, जिसके बाद गवर्नर ने आपातकाल की घोषणा कर दी.

दक्षिणी अमरीका में कोरोना वायरस से मौत का पहला मामला सामने आया है. अर्जेंटीना में 64 वर्ष के व्यक्ति की संक्रमण से मौत हो गई है. वहीं, ऑस्ट्रेलिया में करीब 80 वर्ष के एक बुजुर्ग की मौत हो गई है. ऑस्ट्रेलिया में यह संक्रमण से तीसरी मौत है.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

राहुल ने जारी किया श्वेतपत्र, बोले- तीसरी लहर की तैयारी करे सरकार

नई दिल्ली 22 जून 2021 । कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस …