मुख्य पृष्ठ >> अंतर्राष्ट्रीय >> तुलसी गबार्ड का आलोचकों को करारा जवाब, कहा-अमेरिका की पहली हिंदू सांसद होने पर गर्व है

तुलसी गबार्ड का आलोचकों को करारा जवाब, कहा-अमेरिका की पहली हिंदू सांसद होने पर गर्व है

नई दिल्ली 29 जनवरी 2019 । अमेरिकी कांग्रेस की सदस्य तुलसी गबार्ड ने उन्हें हिंदू राष्ट्रवादी कहकर उनकी आलोचना करने वालों को करारा जवाब दिया है. पीटीआई के मुताबिक अपने एक लेख में उन्होंने कहा कि गैर-हिंदू नेताओं से कुछ भी न पूछना और अमेरिका के लिए उनकी प्रतिबद्धता पर सवाल उठाना दोहरे मापदंड को दिखाता है. तुलसी गबार्ड का कहना था कि ऐसा दोहरापन सिर्फ धर्मांधता से ही पैदा होता है.

37 साल की तुलसी गबार्ड अमेरिकी कांग्रेस में चुनी गईं पहली हिंदू महिला हैं. बीती 11 जनवरी को उन्होंने घोषणा की थी कि वे 2020 के राष्ट्रपति चुनावों के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी में दावेदारी पेश करेंगी. अपने लेख में उन्होंने लिखा है, ‘कांग्रेस में चुनी जाने वाली पहली हिंदू-अमेरिकी होने और अब राष्ट्रपति पद के लिए पहली हिंदू-अमेरिकी दावेदार होने का मुझे गर्व है.’

तुलसी गबार्ड के मुताबिक उन्हें हिंदू राष्ट्रवादी के तौर पर पेश किया जा रहा है. उन्होंने लिखा है, ‘भारत के लोकतांत्रिक रूप से चुने गए नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मेरी मुलाकात को इसके साक्ष्य के तौर पर दर्शाया गया और इसे एक तरह से असामान्य बताया गया. लेकिन राष्ट्रपति (बराक) ओबामा, मंत्री (हिलेरी) क्लिंटन, राष्ट्रपति (डोनाल्ड) ट्रंप और कांग्रेस के मेरे कई साथी उनसे मुलाकात कर चुके हैं.’ तुलसी गबार्ड का कहना है कि कुछ लोग उन्हें और उनके समर्थकों को लेकर संदेह, डर और धर्मांधता भड़का रहे हैं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Ram Mandir निर्माण के लिए Rajasthan के लोगों ने दिया सबसे ज्यादा चंदा

जयपुर: विश्व हिंदू परिषद (VHP) के केंद्रीय उपाध्यक्ष और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के …