मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> दिग्विजय के सामने प्रत्याशी बन MP की सियासत में वापसी कर सकती हैं उमा भारती

दिग्विजय के सामने प्रत्याशी बन MP की सियासत में वापसी कर सकती हैं उमा भारती

भोपाल 15 अप्रैल 2019 । मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस की तरफ से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार बनाए जाने के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) यहां सशक्त उम्मीदवार को मैदान में उताने की तैयारी में है। इस क्रम में बीजेपी अब पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती को इस सीट से मैदान में उतारने की तैयारी कर रही है। हालांकि उमा फिलहाल इस बारे में अभी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं, लेकिन माना जा रहा है कि पार्टी के तमाम फोरम पर उनके नाम को लेकर मंथन करने में जुटी हुई है।

भोपाल बीजेपी का गढ़ है और वर्ष 1989 के बाद से भारतीय जनता पार्टी यहां लगातार जीतती आई है। कांग्रेस ने इस बार एक बड़ा दांव खेलते हुए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया है। सिंह एक पखवाड़े से ज्यादा समय से भोपाल संसदीय क्षेत्र में सक्रिय हैं। दूसरी ओर, बीजेपी में उम्मीदवारी को लेकर अंर्तद्वंद्व जारी है। बीजेपी के तमाम नेता बाहरी व्यक्ति को चुनाव लड़ाने की संभावनाओं का खुलकर विरोध कर चुके हैं। पिछले दिनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के अनुषांगिक संगठनों की भोपाल में एक बैठक हुई थी। इस बैठक में भोपाल, विदिशा व इंदौर की सीटों को लेकर मंथन किया गया था।

संघ के प्रतिनिधियों ने भोपाल से दिग्विजय सिंह के खिलाफ पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उमा भारती को सबसे सशक्त उम्मीदवार माना था। चौहान किसी भी सूरत में लोकसभा चुनाव लड़ने को तैयार नहीं हैं। इन स्थितियों में संघ ने उमा भारती से चर्चा की है। उमा भारती हालांकि पहले ही ऐलान कर चुकी हैं कि वह इस बार चुनाव नहीं लड़ेंगी। बीजेपी के सूत्रों का कहना है कि उमा भारती ने भोपाल से चुनाव लड़ने से इनकार नहीं किया है, मगर हामी भी नहीं भरी है।

अपनी शर्तों पर चुनाव लड़ना चाहती हैं उमा भारती
जानकारों के अनुसार, उमा अपनी शर्तों पर चुनाव लड़ना चाहती हैं। बीते रोज उमा भारती झांसी में थीं। इस दौरान पत्रकारों ने उनसे जब भोपाल से चुनाव लड़ने के बारे में पूछा तो उन्होंने बस इतना कहा कि ‘यह सवाल सुना ही नहीं है। मैंने तय कर लिया है कि मुझे यह सवाल सुनाई ही नहीं देगा, जब सुनाई ही नहीं देगा तो बोलूंगी कहां से।’ उमा भारती के भोपाल से चुनाव लड़ने के सवाल पर दिए गए जवाब ने इतना तो साफ कर ही दिया है कि अभी तक बात पूरी तरह बनी नहीं है, साथ ही यह संदेश छिपा है कि आगामी चुनाव भोपाल से लड़ सकती हैं। यह बात अलग है कि उमा भारती ने पिछले दिनों चुनाव न लड़कर गंगा नदी के लिए काम करने का ऐलान किया था।

नाम घोषित करने में देरी भी रणनीति का हिस्सा!
राजनीतिक विश्लेषक शिव अनुराग पटेरिया का कहना है कि भोपाल में दिग्विजय सिंह के मुकाबले बीजेपी के पास जो सशक्त चेहरे हैं, उनमें से एक नाम उमा भारती है, वहीं उमा भारती मध्य प्रदेश की राजनीति में सम्मानजनक वापसी चाहती हैं। संघ और उमा भारती के बीच फलदायी बात होती है तो वे भोपाल से चुनाव लड़ भी सकती हैं, इस संभावना को नकारा नहीं जा सकता। बीजेपी द्वारा भोपाल सहित कई प्रमुख सीटों से उम्मीदवार घोषित करने में हो रही देरी के सवाल पर पटेरिया का कहना है कि यह बीजेपी की एक रणनीति भी हो सकता है।

भोपाल के मामले में संघ भी है सतर्क
राजनीतिक जानकारों के अनुसार, भोपाल के मामले में संघ और संगठन दोनों ही सतर्क है, इसलिए पार्टी संभलकर आगे बढ़ रही है। कांग्रेस ने भोपाल से दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार बनाकर बीजेपी को अपनी रणनीति पर पुनर्विचार के लिए मजबूर कर दिया है। बीजेपी जहां भोपाल को अपना गढ़ मानकर चल रही थी, वहीं उसे उम्मीदवार चयन में काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। पार्टी के अंदरखाने से भी यही बात सामने आ रही है कि भोपाल से किसी हिंदूवादी चेहरे को मैदान में उतारने का मन बनाया जा रहा है और उसमें उमा का नाम सबसे पहले है। उमा भारती वर्ष 1999 से 2004 तक भोपाल से सांसद रह चुकी हैं। ऐसे में यह कहा जा रहा है कि अगर बीजेपी उमा को एक बार फिर भोपाल से उम्मीदवार बनाती है तो इस बार यहां का चुनाव काफी दिलचस्प होता दिखेगा।

MP के सीएम कमलनाथ का तंज, मोदी ने जब पायजामा-पैंट पहनना सीखा नहीं था, तब नेहरू, इंदिरा ने…

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) पर जमकर तंज कसा. एमपी के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने पीएम मोदी (PM Modi) पर निशाना साधते हुए कहा कि जब उन्होंने (मोदी) पायजामा-पैंट पहनना सीखा नहीं था, तब पूर्व PM पंडित जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी ने इस देश की फौज, एयरफोर्स और नेवी बनाई थी. खंडवा जिले के हरसूद में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा, ‘मोदी जी आप देश की सुरक्षा की बात करते हैं. क्या 5 साल पहले (मोदी के प्रधानमंत्री बनने से पहले) देश सुरक्षित हाथों में नहीं था?’ उन्होंने आगे कहा, ‘मोदी जी जब आपने पायजामा और पैंट पहनना सीखा नहीं था, तब जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी ने इस देश की फौज बनाई थी, एयरफोर्स बनाई थी, नेवी बनाई थी और आप कहते हो देश सुरक्षित है आपके नीचे.’

कमलनाथ ने कहा, ‘सबसे ज्यादा आतंकी हमले किसकी सरकार में हुए? किसके कार्यकाल में हुए? किसकी सरकार थी दिल्ली में जब संसद पर आतंकी हमला हुआ? भाजपा की सरकार थी और आंकड़े बताते हैं कि सबसे ज्यादा आतंकी हमले जब भारतीय जनता पार्टी की सरकार रहती है तब होते हैं.’

उन्होंने कहा कि मोदी जी कहते थे कि करोड़ों युवाओं को रोजगार देंगे. कितने युवाओं को रोजगार मिला है? आज भी युवा रोजगार के लिए भटक रहा है. मोदीजी कहते थे अच्छे दिन आएंगे. किसके अच्छे दिन आए? मोदी जी कहते थे काला धन आएगा. क्या काला धन आया? कमलनाथ ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार द्वारा की गई नोटबंदी ने छोटे व्यापारियों की कमर तोड़ दी.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

राहुल ने जारी किया श्वेतपत्र, बोले- तीसरी लहर की तैयारी करे सरकार

नई दिल्ली 22 जून 2021 । कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस …