मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> प्लास्टिक कचरे से निपटने की अनोखी पहल, कचरा देकर खाना परोसता है रेस्टोरेंट

प्लास्टिक कचरे से निपटने की अनोखी पहल, कचरा देकर खाना परोसता है रेस्टोरेंट

लंदन  6 जून 2018 ।बाहर खाना-पीना अमूमन महंगा ही माना जाता है। लेकिन लंदन का एक रेस्तरां लोगों को खाने-पीने की चीजें बिना पैसे के देता है। क्योंकि इस रेस्तरां में पैसे की बजाय ग्राहक को प्लास्टिक कचरा देकर भुगतान करना होता है। वो भी रिसाइकिल होने वाला कचरा। जीं हां लंदन के ‘द रबिश कैफे’ में पसंदीदा चाय, कॉफी या स्नैक्स का लुत्फ उठाने के लिए जेब में पैसे होना जरूरी नहीं। घर में मौजूद प्लास्टिक कचरे के सहारे भी वहां भर पेट खाना खाया जा सकता है, बशर्ते कचरा रिसाइकिल करने योग्य हो। ‘ई-कवर’ नाम की संस्था ने पृथ्वी पर प्लास्टिक कचरे के बढ़ते बोझ से निपटने को ‘द रबिश कैफे’ नाम का अस्थाई रेस्तरां खोलने की पहल की है।
महीने में 2 दिन चलने वाले इस रेस्तरां में ग्राहक पैसों की जगह प्लास्टिक कचरे से बिल का भुगतान करते हैं, जिसे रिसाइक्लिंग प्लांट भेज दिया जाता है। इतना ही नहीं, ‘द रबिश कैफे’ ‘जीरो-वेस्ट मेन्यू’ के सिद्धांत पर चलता है। इसमें सीमित मात्रा में तय पकवान बनाकर ‘पहले आओ, पहले पाओ’ की नीति के तहत ग्राहकों को परोसा जाता है, ताकि खाना बर्बाद न हो। इसके अलावा मलेशिया में इन दिनों प्लास्टिक कचरा जुटाने की होड़ मची हुई है। दरअसल, ‘हैलो गोल्ड’ नाम के एक स्टार्टअप ने रिजर्ववेंडिंग मशीन (आरवीएम) कंपनी ‘क्लीन’ के साथ मिलकर अनोखी ‘ई-गोल्ड’ योजना की शुरुआत की है।

इसके तहत प्लास्टिक की बोतलें और टिन के कैन जमा करने पर ग्राहकों के खाते में ‘ई-गोल्ड’ डाला जाता है। ‘ई-गोल्ड’ को उस दिन के सोने की कीमत के हिसाब से भुनाया जा सकता है। योजना का लाभ उठाने के लिए ‘हैलोगोल्ड एप’ डाउनलोड कर एक अकाउंट बनाना होता है। फिर देश भर में लगी 500 ‘क्लीन आरवीएम’ मशीनों में प्लास्टिक की बोतल डालने पर खाते में ‘ई-गोल्ड’ जुड़ता जाता है। ‘हैलो गोल्ड’ एक प्लास्टिक की बोतल या टिन के कैन के बदले 0.00059 ग्राम सोने के बराबर ‘ई-गोल्ड’ की पेशकश कर रहा है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

अभ्यास के दौरान गन का बैरल फटा, BSF जवान शहीद, 2 घायल

नई दिल्ली 4 मार्च 2021 । भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित जैसलमेर जिले में कल …