मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> उत्तरप्रदेश >> उत्तराखंड पुलिस ने नदी में डूबते 111 कावड़ियों को बचाया

उत्तराखंड पुलिस ने नदी में डूबते 111 कावड़ियों को बचाया

हरिद्वार 10 अगस्त 2018 । कांवड़ लेकर कांवड़िए अपने-अपने गंतव्य स्थान पहुंच रहे हैं, जहां वो भगवान शिव का जलाभिषेक करेंगे. इस साल करीब तीन करोड़ कांवड़ यात्री हरिद्वार पहुंचे, जिन्हें उत्तराखण्ड पुलिस द्वारा व्यवस्थित ढंग से नियंत्रित किया गया. साथ ही नदी में डूबते हुए 111 कावड़ियों को जल पुलिस और एसडीआरएफ ने अपनी जान जोखिम में डालकर बचाया.

आजतक से खास बातचीत में उत्तराखंड पुलिस के ADG अशोक कुमार ने कहा कि हरिद्वार से लेकर उत्तरकाशी के गंगोत्री धाम तक इस बार जल पुलिस और एसडीआरएफ ने एक रिकॉर्ड कायम किया है. इस साल कांवड़ यात्रा के दौरान एक ही लक्ष्य रहा कि किसी की भी जान नहीं जानी चाहिए.

अशोक कुमार ने कहा कि अक्सर ऐसा होता है, जब पानी के तेज बहाव में बहकर कई कावड़िए अपनी जान से हाथ धो बैठते हैं. मगर इस बार हमने ये प्रण लिया था कि उत्तराखंड पुलिस सबकी यात्रा को न सिर्फ सफल बनाने में मदद करेगी, बल्कि उनकी सुरक्षा की पूरी व्यवस्था करेगी. कांवड़ियों की सुरक्षा में किसी भी तरह की कोताही नहीं बरती जाएगी.

अशोक कुमार ने बताया कि अगर गंगा जल के लिए आए किसी भी भक्त या यात्री की मौत डूबकर हो जाती है, तो बेहद दुख होता है. इस बार जल पुलिस ने दिन रात एक करके 111 लोगों की जान बचाने में कामयाबी पाई है.

कांवड़ यात्रा के दौरान मौसम को लेकर ADG ने कहा कि जबरदस्त बारिश की वजह से कुछ जगह ऐसी रही हैं, जहां पर पानी के बढ़ने से मुश्किल पैदा हुई. हालांकि वहां एसडीआरएफ दीवार बनकर खड़ी रही और विपरीत परिस्थितियों में अपनी जान की परवाह न करते हुए उन्होंने रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम दिया. एसडीआरएफ ने पहाड़ों पर जहां रास्ते बंद हो गए, वहां से सभी यात्रियों को सही सलामत निकालने की जिम्मेदारी बखूभी निभाई और लोगों को सुरक्षित निकाला.

रेस्क्यू टीम का लोगों को बचाने में लगने लगा है दिल

गौहरी माफी आपदा में रेस्क्यू टीम को लीड कर रहे सचिन रावत ने बताया कि जब हम एसडीआरएफ टीम में आए थे, तब से अब तक हमारे मन में जितना परिवर्तन आया है, उस पर खुद हमको भी यकीन नहीं हो रहा है. फंसे हुए लोगों को जब हम रेस्क्यू करते हैं और उसके बाद जब बचने वाले लोग सिर पर हाथ रखकर हमको दुआएं देते हैं, तो दिल, दिमाग और शरीर जोश से भर जाता है और फिर से लोगों को बचाने की एक शक्ति मिल जाती है. अब तो हालात ये हैं कि बस हमको ईश्वर ऐसे ही लोगों की सेवा करने दे. अब सिर्फ दिल लोगों को बचाने में ही लगता है.

कावड़ियों पर हेलिकॉप्टर से बरसाए फूल, एडीजी ने कहा- सरकार से आदेश मिले

उत्तर प्रदेश में कावड़ यात्रा के दौरान हेलिकॉप्टर से फूल बरसाने के मामले में मेरठ जोन के एडिशनल जनरल ऑफ पुलिस (एडीजी) प्रशांत कुमार ने गुरुवार को सफाई दी। उन्होंने कहा कि सरकार के कहने पर ही ऐसा किया, ताकि कावड़ियों की सुरक्षा व्यवस्था को सुनिश्चित किया जा सके। उन्होंने बताया कि हेलिकॉप्टर भी शासन की तरफ से उपलब्ध कराया गया है। प्रशांत कुमार ने कहा कि इसे धार्मिक दृष्टि से नहीं देखा जाना चाहिए। लोगों के स्वागत के लिए फूलों का इस्तेमाल किया जाता है। प्रशासन सभी धर्मों का सम्मान करता है। गुरुपर्व, ईद, बकरीद और जैन त्योहारों में भी ऐसा किया जाता है। पुलिस ने किए विशेष इंतजाम:कांवड़ यात्रा के दौरान जगह-जगह पुलिस की ड्यूटी लगाई गई है। यूपी पुलिस कांवड़ियों के स्वागत का भी विशेष इंतजाम कर रही है। अधिकारी हवाई मार्गों के जरिए खुद निरीक्षण कर रहे हैं। यूपी के कई जिलों में अधिकारी कांवड़ियों पर फूलों की बारिश कर रहे हैं। मुजफ्फरनगर में डीआईजी सहारनपुर रेज शरद सचान ने पुष्प वर्षा की थी। वहीं, बागपत समेत पश्चिमी यूपी के कई जिलों में पुष्प वर्षा की गई।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

मोदी सरकार के आर्थिक सुधार कार्यक्रमों के सुखद परिणाम अब नजर आने लगे हैं

नई दिल्ली 20 सितम्बर 2021 । वर्ष 2014 में केंद्र में मोदी सरकार के स्थापित …