मुख्य पृष्ठ >> अंतर्राष्ट्रीय >> हमे भी अखंड भारत चाहिए… सोशल मीडिया पर रूस के नक्शे कदम पर चलने की मांग उठी

हमे भी अखंड भारत चाहिए… सोशल मीडिया पर रूस के नक्शे कदम पर चलने की मांग उठी

नयी दिल्ली 26 फरवरी 2022 । रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने दुनिया की परवाह किए बगैर यूक्रेन की धरती पर पूरी ताकत से हमला बोल दिया है। पश्चिमी देशों की ओर से प्रतिबंधों की झड़ी और निंदा के बावजूद रूस अपने कदम पर अडिग है। अब भारत में रूस के इस कदम को दोहराने की मांग उठ रही है। सोशल मीडिया पर लोग भारत सरकार को रूस के नक्शे कदम पर चलने की मांग कर रहे हैं। लोगों ने मांग की है कि जैसे रूस अखंड सोवियत रूस बनने जा रहा है वैसे ही हमे अखंड भारत चाहिए। लोगों का इससे मतलब अक्साई चीन और पीओके को लेकर है। रूसी सैनिकों और यूक्रेनियों के बीच आज तीसरे दिन भी युद्ध जारी है। आधिकारिक आंकड़े बताते हैं कि सैकड़ों की संख्या में लोग अपनी जान गंवा रहे हैं। रूसी राष्ट्रपति पुतिन पश्चिमी देशों के भारी दबाव के बावजूद टस से मस नहीं हुए हैं। कई देशों जिनमें जर्मनी, ब्रिटेन और अमेरिका रूस पर भारी प्रतिबंध लगा चुके हैं और कई बार धमकी भी दे चुके हैं लेकिन रूस अपने कदम पीछे हटने को तैयार नहीं है। अब जहां पुतिन यूक्रेन को फिर से पाने के लिए जोर लगा रहे हैं उसी तरह भारत में भी अब अखंड भारत की मांग उठने लगी है। सोशल मीडिया पर लाखों की संख्या में लोग कह रहे हैं कि हमे भी रूस की तरह अखंड भारत चाहिए। अखंड भारत से उनका मतलब अक्साई चीन और पीओके है। अक्साई चीन का मसला भारत और चीन के बीच विवादित है जबकि पीओके भारत और पाकिस्तान के बीच विवादित स्थान है। अखंड भारत से क्या मतलब
अखंड भारत से लोगों का मतलब उन क्षेत्रों से है, जो दावा तो अपना किया जाता है लेकिन उसमें पड़ोसी मुल्कों के साथ विवाद भी रहता है। भाजपा और आरएसएस के सदस्यों की ओर से इससे पहले भी ये मांग उठाई जाती रही है। अब जहां रूस ने यूक्रेन पर फिर से आधिपत्य पाने के लिए जोर लगा दिया है तो भारत में भी ट्विटर और फेसबुक पर अखंड भारत ट्रेंड हो रहा है। कई वैरिफाइड यूजर इस मांग को उठा रहे हैं कि सोवियत रूस की तरह हमे भी अखंड भारत चाहिए।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘राजपूत नहीं, गुर्जर शासक थे पृथ्वीराज चौहान’, गुर्जर महासभा की मांग- फिल्म में दिखाया जाए ‘सच’

नयी दिल्ली 21 मई 2022 । राजस्थान के एक गुर्जर संगठन ने दावा किया कि …