मुख्य पृष्ठ >> जब सीनियर जर्नलिस्ट आशुतोष ने कहा-आई विल ऑलवेज रेस्पेक्ट सावरकर

जब सीनियर जर्नलिस्ट आशुतोष ने कहा-आई विल ऑलवेज रेस्पेक्ट सावरकर

नई दिल्ली 20 सितम्बर 2019 । आप इस हेडलाइन को पढ़कर हैरत में आ गए होंगे कि जो आशुतोष संघ परिवार और बीजेपी के खिलाफ पत्रकारिता के लिए ही जाने जाते हैं। हमेशा राइट विंग के खिलाफ ही रहे, राजनीति भी उन्हीं के खिलाफ ही की, फिर भी संघ परिवार और बीजेपी के प्रणेता पुरुष वीर सावरकर की रेस्पेक्ट करने की बात कर रहे हैं। लेकिन ये वाकई में उन्हीं के शब्द हैं, जो उन्होंने टाइम्स नाउ चैनल के एक डिबेट शो में कहे।

दरअसल, जैसे ही शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने वीर सावरकर के लिए भारत रत्न की मांग की, तमाम तरह की प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गईं और टीवी चैनल्स ने प्राइम टाइम पर डिबेट शो प्लान करने शुरू कर दिए। आशुतोष ऐसे ही एक शो में टाइम्स नाउ पर आमंत्रित थे। इस शो को होस्ट कर रही थीं टाइम्स नाउ की एंकर पदमजा जोशी।

इस शो में गरमागरम बहस के दौरान पदमजा जोशी ने आशुतोष से पूछा, ‘और कोई नहीं, बल्कि खुद इंदिरा गांधी ने सावरकर को क्लासिकल रिवोल्यूशनरी कहा था’? इंदिरा का ये बयान तब आया था, जब उन्होंने सावरकर की याद में एक डाक टिकट भी जारी किया था। इस तथ्य पर आशुतोष भी बचाव की मुद्रा में आ गए और उनकी पहली ही लाइन थी कि ‘आई विल ऑलवेज रेस्पेस्ट सावरकर…’।

लेकिन वो तो आशुतोष हैं, इस बयान में भी कंडीशन एप्लाई कर दी और कहा, ‘मैं 1909 तक के सावरकर की इज्जत करूंगा। उन्होंने 1857 के स्वतंत्रता संग्राम पर शानदार किताब लिखी, हिंदू-मुस्लिम एकता की बातें की। मैं इस बात से भी डिस्टर्ब हूं कि उन्हें नर्क जैसे काले पानी की सजा मिली, लेकिन उन्होंने माफी का लेटर लिखा और अंग्रेजों से किसी भी पॉलिटिकल गतिविधि में हिस्सा न लेने का वायदा किया। रत्नागिरी में जब उन्हें भेज दिया गया तो उसके बाद उन्होंने कोई पॉलिटिकल आंदोलन किया भी नहीं।’

यूं आशुतोष ने इस डिबेट में खुद को बैलेंस तो कर लिया, लेकिन टाइम्स नाउ ने उनकी पहली लाइन को हेडलाइन बनाते हुए ट्विटर पर उनका पूरा बयान शेयर कर दिया, जो आप इस खबर के साथ देख सकते हैं। हालांकि ये भी शायद पहली बार है कि सावरकर का विरोधी कोई पत्रकार उनके थोड़े से भी योगदान को पूरे देश के सामने मान रहा है, भले ही उन पर आरोप लगाकर।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

जमीन विवाद में नया खुलासा, ट्रस्ट ने उसी दिन 8 करोड़ में की थी एक और डील

नई दिल्ली 17 जून 2021 । अयोध्या में श्री राम मंदिर ट्रस्ट के द्वारा खरीदी …