मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> पाकिस्तान सरकार की उलटी गिनती शुरू, इमरान के चहेते मंत्री का इस्तीफा

पाकिस्तान सरकार की उलटी गिनती शुरू, इमरान के चहेते मंत्री का इस्तीफा

नई दिल्ली 19 अप्रैल 2019 । पैसे-पैसे को मोहताज पाकिस्तान को आईएमएफ से बेलआउट पैकेज लाने में नाकाम रहने की गाज असद उमर पर गिर गयी है। असद उमर को पाकिस्तान के वित्त मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ गया है। ऐसा समझा जा रहा है कि असद उमर के इस्तीफे के साथ इमरान सरकार की उलटी गिनती शुरू हो गयी है। असद उमर इमरान खान के सबसे चहेते भरोसेमंद मंत्री थे। अब लोग कयास लगा रहे हैं कि जल्द ही शाह महमूद का विकेट गिरेगा या किसी और का। पाकिस्तानी मीडिया में दबी जुबान में कहा जा रहा है कि आर्मी चीफ कमर बाजवा वित्तमंत्री असद उमर की कार्यशैली से खुश नहीं थे। आर्मी चीफ ने प्रधानमंत्री इमरान खान को मशविरा दिया था कि असद उमर को हटा दिया जाये, लेकिन इसी बीच आईएमएफ से 14वें बेलआउट पैकेज की वार्ता शुरू हो चुकी थी, और असद की बलि चढ़ने से बच गयी लेकिन आईएमएफ ने नकारात्मक संकेत मिलते ही उन्हें इस्तीफे का हुक्म दे दिया गया। हालांकि, असद ने कहा है कि इमरान खान उन्हें पॉवर एण्ड एनर्जी मिनिस्ट्री दे रहे थे लेकिन उन्होंने खुद वित्त मंत्री के पद से इस्तीफा देकर संसद में सरकार को मजबूत करने और नया पाकिस्तान का ऐजेंडा आगे बढ़ाने का फैसला किया है।

असद उमर ने पाकिस्तानी सरकार और सेना को भरोसा दिलाया था कि वो बेलआउट पैकेज देने के लिए आईएमएफ को राजी कर लेंगे। लेकिन आईएमएफ ने चीन से लिए गये कर्ज के दस्तावेज मांग लिये। आईएमएफ ने असद से यह भी स्पष्ट करने को कहा कि चीन समेत बाकी देशों से लिए गये कर्ज की वापसी की क्या योजना है। और यह कर्ज किस मद की रकम से वापस किया जायेगा। असद पर जिम्मेदारी थी कि वो पहले आईएमएफ से बेलआउट पैकेज मंजूर करवा लेंगे उसके बाद कुछ दस्तावेज दिये जायेंगे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

आईएमएफ के बेलआउट पैकेज के अधर में पड़ते ही चीन की पेशानी पर पसीना आया और उसने अपने डिप्टी मिनिस्टर को तुरंत पाकिस्तान रवाना किया और हालात का जायजा लिया। चीन ने पाकिस्तान में भारी निवेश के अलावा 6.5 बिलियन का कॉमर्शिलय लोन भी दिया है। चीन अपने निवेश का ब्याज और शर्तो के अनुसार पुराने कर्ज वापसी के लिए पाकिस्तान पर लगातार दवाब बना रहा है।

चीन को भी उम्मीद थी कि आईएमएफ ने बेलआउट पैकेज मिलने के बाद पाकिस्तान उसका कर्ज वापस कर देगा। इस बात की भनक अमेरिका को लग गयी थी। अमेरिका ने इसी शंका से आईएमएफ को अवगत करा दिया है। बस इसी आशंका के चलते जैसे ही आईएमएफ ने हाथ खींचा वैसे ही पाकिस्तान के वित्त मंत्री असर उमर को इस्तीफा देना पड़ गया।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

राहुल ने जारी किया श्वेतपत्र, बोले- तीसरी लहर की तैयारी करे सरकार

नई दिल्ली 22 जून 2021 । कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस …