मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> भारतीयों के लिए भूटान की सैर अब आसान क्यों नहीं रही

भारतीयों के लिए भूटान की सैर अब आसान क्यों नहीं रही

नई दिल्ली 10 फरवरी 2020 । भूटान अपनी प्राकृतिक ख़ूबसूरती, शांत वातावरण और सस्ता देश होने के कारण पर्यटकों की पसंदीदा जगह रहा है. यहां पर पूरी दुनिया से लाखों की संख्या में पर्यटक आते हैं जिनमें सबसे ज़्यादा पर्यटक भारत से होते हैं.

भारत और भूटान के बीच खुली सीमा है और अब तक दोनों देशों के बीच आने-जाने पर कोई प्रवेश शुल्क नहीं लिया जाता था लेकिन अब भूटान ने नियमों में बदलाव किया है. नए नियमों के मुताबिक़, जुलाई 2020 से भारतीय पर्यटकों को भूटान जाने के लिए हर रोज़ के हिसाब से 1200 रुपये प्रवेश शुल्क देना होगा. भारत के अलावा बांग्लादेश और मालदीव के पर्यटकों को भी यह शुल्क देना होगा. इसे सस्टेनेबल डेवलपमेंट फीस का नाम दिया गया है.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

छात्रों के आंदोलन को विपक्ष ने लपका, पटना समेत कई शहरों में सड़कों पर RJD वर्कर्स का हंगामा

नयी दिल्ली 28 जनवरी 2022 । आरआरबी-एनटीपीसी रेलवे भर्ती परीक्षा को लेकर बवाल के बाद …