मुख्य पृष्ठ >> अंतर्राष्ट्रीय >> अंडर गारमेंट में चम्मच रखकर क्यों पहुंचती हैं एयरपोर्ट

अंडर गारमेंट में चम्मच रखकर क्यों पहुंचती हैं एयरपोर्ट

नई दिल्ली 19 फरवरी 2019 । मानव तस्करी दुनिया भर की सरकारों का ऐसा स्थायी सिरदर्द है जिससे निजात पाने के लिए वे आए दिन नए नए उपाय करती रहती हैं, लेकिन मानव तस्कर उनसे एक कदम आगे रहते हैं और सरकारों की तमाम योजनाएं दम तोड़ देती है। अब स्वीडन की सरकार ने ऐसा नायब उपाय खोजा है कि मानव तस्कर भी उससे पार नहीं पा सकते।

सरकार ने मानव तस्करों के चंगुल में फंसी लड़कियों को सलाह दी है कि उन्हें जब भी देश से बाहर ले जाने के लिए मानव तस्कर उन्हें एयरपोर्ट, बंदरगाह लाएं तो वे अपने अंडर गारमेंट में चम्मच छुपाकर लाए ताकि जब वे मेटल डिटेक्टर के सामने से गुजरें तो वह अलार्म देने लगे।

सरकारी सलाह के मुताबिक जैसे ही मेटल डिटेक्टर का अलार्म बोलेगा, सुरक्षाकर्मी उन्हें अलग से जांच के लिए उस कमरे में ले जाएंगे जहां चम्मच वाली लड़की और सुरक्षाकर्मियों के अलावा अन्य कोई नहीं होगा। जांच के दौरान लड़कियां सुरक्षाकर्मियों को बताएं कि वे मानव तस्करों के चंगुल में फंस गई हैं और उन्हें बेचने के लिए विदेश ले जाया जा रहा है। यह जानकर सुरक्षाकर्मी उन्हें मानव तस्करों से छुड़ा लेंगे।

स्वीडन सरकार का यह उपाय इतना कारगर साबित हुआ है कि वहां से मानव तस्करी के जरिए विदेश ले जाई जा रही सैंकड़ों महिलाओं को अब तक एयरपोर्ट से मुक्त कराया जा सका है। इसके अलावा स्वीडन के सुरक्षा बलों ने कई कुख्यात मानव तस्करों को सलाखों के पीछे भी पहुंचा दिया है। इतना ही नहीं स्वीडन सरकार ने अन्य देशों की सरकार को भी सलाह दी है कि वे मानव तस्करों के चंगुल से लड़कियों को छुड़ाने के लिए उन्हें भी स्वीडन की सफल रणनीति को अपनाने का सुझाव दें और मानव तस्करों से निजात पाएं। इसके अलावा अपने देश की मासूम लड़कियों को अपराध की दलदल में फंसने से बचाएं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

कोरोना की वजह से रिहा किए गए कैदियों को करना होगा-सरेंडरSC का आदेश

नई दिल्ली 2 मार्च 2021 । देश भर से 2674 विचाराधीन कैदियों को आत्मसमर्पण करने …