मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> क्या भोपाल की तर्ज पर उज्जैन में भी कांग्रेस कराएगी महापौर और विधायक पर “FIR” ?

क्या भोपाल की तर्ज पर उज्जैन में भी कांग्रेस कराएगी महापौर और विधायक पर “FIR” ?

उज्जैन 6 मार्च 2019 । भोपाल में विवेकानन्द उद्धान का एक दिन पहले लोकार्पण करने वाले पुर्व मंत्री नरेला से भाजपा विधायक विश्वास सारंग पर कांग्रेस के मंत्री पीसी शर्मा ने शासकीय कार्य मे बाधा और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की धारा 353 और 427 में प्रकरण दर्ज करा दिया है, उक्त पार्क का उद्घाटन कांग्रेस के मंत्री पीसी शर्मा द्वारा किया जाना था लेकिन उत्साह में आकर विश्वास सारंग ने प्रोटोकॉल को तौड़ते हुए एक दिन पूर्व ही उद्धान का उद्घाटन कर सभी को चोंका दिया जिससे नाराज कांग्रेस ने विधायक पर प्रकरण दर्ज करवा दिया है ।

कुछ ऐसा ही उज्जैन में महापौर मीना जोनवाल और विधायक मोहन यादव ने भी कर दिया है यहां प्रस्तावित नगरीय प्रशासन मंत्री कब दौरे से पुर्व ही महापौर और विधायक ने 3.67 करोड़ की लागत से बने चकोरपार्क का लोकार्पण सोमवार को कर दिया है, दोपहर को महापौर मीना जोनवाल और विधायक मोहन यादव दर्जनभर नेताओ के साथ यहां पहुंचे और पार्क का फीता काटकर उद्घाटन कर दिया इससे पूर्व महापौर और कांग्रेस नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र वशिष्ठ को बुलाकर शिलान्यास के सबंध में निगमायुक्त प्रतिभा पॉल ने शाम 4:45 बजे बैठक की और इसके 45 मिनिट बाद ही शाम 5:30 बजे महापौर मीना जोनवाल विधायक यादव को साथ लेकर ताबड़तोड़ पार्क का फीता काट आई जबकि पार्क में फिनिशिंग का काम अभी चल ही रह था और कुछ देर पहले ही नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह से लोकार्पण कराने की योजना बनी थी, महापौर विधायक द्वारा लोकार्पण किये जाने के 2 घण्टे बाद कांग्रेस पार्षद दल चकोरपार्क पहुंचा और महापौर का पुतला जलाकर विरोध प्रदर्शन किया, नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र वशिष्ठ ने कहा कि महापौर ने प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते हुए वाहवाही बंटोरने के लिए खुद ही पार्क का।लोकार्पण कर दिया है जबकि प्रदेश में अब कांग्रेस की सरकार है और क्षेत्रीय पार्षद भी कांग्रेस का है ।

क्या होगी FIR ?

महापौर और विधायक के इस कृत्य से पुरे प्रदेश में कांग्रेस की किरकिरी हो रही है, अगर सभी जगह इस तरह की ओछी राजनीति चलती रही तो कांग्रेस का सरकार और अधिकारियों से अंकुश समाप्त हो जाएगा, माना कि जिन कार्यो का लोकार्पण भाजपा नेता कर रहे है वह उनके कार्यकाल में स्वीकृत हुए है लेकिन प्रोटोकॉल कहता है कि अब मौजूदा सरकार द्वारा ही इन कार्यो का शिलान्यास किया जाना चाहिए, जब मोदी पीएम बने थे तो उन्होंने भी जम्मू कटरा रेल लाईन सहित तमाम उन कार्यो का।लोकार्पण किया था जो मनमोहन सिंह के समय स्वीकृत हुए थे लेकिन भाजपा नेता शायद अब भी प्रदेश में अपनी ही सरकार समझ रहे है या फिर शासकीय तंत्र को ये बताना चाह रहे है कि हम ही सब कुछ है, ऐसे में प्रदेश सरकार को भी सख्ती के साथ भाजपा नेताओं को इस बात का एहसास कराना चाहिए कि प्रदेश में अब सत्ता परिवर्तन हो चुका है, भोपाल में तो विधायक सारंग को इस बात का एहसास हो चुका है क्या उज्जैन में भी कांग्रेस नेता महापौर और विधायक पर शासकीय कार्य मे बाधा और संपत्ति नुकसान सहित प्रोटोकॉल तौड़ने का प्रकरण दर्ज करा पाएंगे बतादे की महापौर ने आधादर्जन कांग्रेस नेताओं पर घर में प्रदर्शन करने पर प्रकरण दर्ज करवाया था जिनमे राजेंद्र वशिष्ठ, चेतन यादव, नाना तिलकर, माया राजेश त्रिवेदी जैसे नेता शामिल थे ।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

मोदी सरकार के आर्थिक सुधार कार्यक्रमों के सुखद परिणाम अब नजर आने लगे हैं

नई दिल्ली 20 सितम्बर 2021 । वर्ष 2014 में केंद्र में मोदी सरकार के स्थापित …