मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> अफगानिस्तान से अमेरिकन आर्मी को वापस बुलाना कोई गलत कदम नहीं, मैं माफी नहीं मागूंगा: जो बाइडन

अफगानिस्तान से अमेरिकन आर्मी को वापस बुलाना कोई गलत कदम नहीं, मैं माफी नहीं मागूंगा: जो बाइडन

नयी दिल्ली 20 जनवरी 2022 । 20 साल से अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना वहां के लोगों की तालिबानियों के जीवन की रक्षा कर रही थी और उन्हें तालिबानी जुल्मों से बचा रही थी। इसके बाद जब 2020 में अमेरिका में चुनाव हुए और अमेरिका के नये राष्ट्रपति जो बाइडन बनें। जो बाइडन ने जनता से वादा किया कि अब वह अफगानिस्तान से अपनी सेना को वापस अपने देश बुला लेंगे। बाइडन के इस कदम से अफगानिस्तान तहस-नहस हो गया। हजारों लोग मारे गये। एक तरफा संघर्ष में तालिबानी लड़ाकों ने पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया। अमेरिका के इस कदम के कारण जो बाइडन की काफी आलोचना की गयी थी। पूरी दुनिया इस बात को कह रही थी कि जो बाइडन को अचानक आर्मी नहीं हटानी चाहिए थी। अब बाइडन ने अपने इस कदम को लेकर चुप्पी तोड़ी है। अफगानिस्तान से सैनिकों को बाहर निकालने के अपने फैसले का बचाव करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा, ‘मैंने जो किया उसके लिए मुझे कोई खेद नहीं है’। हालांकि, उन्होंने कहा, ‘तालिबान की अक्षमता के परिणामस्वरूप’ उसके बाद जो हुआ उसके बारे में उन्हें बुरा लगा। उन्होंने कहा, “मैंने जो किया उसके लिए मैं कोई माफी नहीं मांगता। अगर हम रुके होते, तो हमें 20,000-50,000 सैनिकों के बीच वापस बुलाने के लिए कहा जाता। उन्होंने कहा, मुझे उन महिलाओं और पुरुषों के लिए बहुत चिंता है, जिन्हें हवाई अड्डे पर एक आतंकवादी हमले में लाइन पर उड़ा दिया गया था। पिछले साल अगस्त में काबुल हवाई अड्डे पर हुए दो विस्फोटों में कम से कम 103 लोग मारे गए थे और 143 से अधिक घायल हो गए थे। काबुल हवाईअड्डे पर हुए विस्फोटों में मारे गए लोगों में 12 नौसैनिकों और नौसेना के एक चिकित्सक समेत 13 अमेरिकी सैनिक थे और 18 अन्य सैनिक घायल हुए थे।

31 अगस्त, 2021 को, संयुक्त राज्य अमेरिका ने अफगानिस्तान से अपनी सेना की वापसी को पूरा किया, 20 साल के युद्ध को समाप्त कर दिया, जिसकी परिणति आतंकवादी तालिबान की सत्ता में वापसी के रूप में हुई। तब से, अफगानिस्तान बड़े पैमाने पर मानवीय संकट से जूझ रहा है। तालिबान के अधिग्रहण के बाद अंतरराष्ट्रीय फंड को फ्रीज करने के साथ, कई लोग भुखमरी का सामना कर रहे हैं। अफगान महिलाएं और लड़कियां भी अपने अधिकारों के लिए विरोध कर रही हैं, जिन्हें रूढ़िवादी शासन द्वारा कम कर दिया गया है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा, हिंदू पक्ष ने किया दावा-‘बाबा मिल गए’; कल कोर्ट में पेश होगी रिपोर्ट

नयी दिल्ली 16 मई 2022 । ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा हो गया है। तीसरे …