मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> 75 करोड़ सूर्यनमस्कार का बनेगा वर्ल्ड रिकॉर्ड, शिवराज सिंह ने बाबा रामदेव संग किया शुभारंभ

75 करोड़ सूर्यनमस्कार का बनेगा वर्ल्ड रिकॉर्ड, शिवराज सिंह ने बाबा रामदेव संग किया शुभारंभ

नयी दिल्ली 10 दिसंबर 2021 । आजादी की 75वें वर्ष में अमृतमहोत्सव के अवसर पर मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान की सरकार 75 करोड़ सूर्य नमस्कार करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाएगी। इस विश्व कीर्तिमान का शुभारंभ योग गुरू बाबा रामदेव, सीएम शिवराज सिंह चौहान और आचार्य बालकृष्ण ने संयुक्त रूप से हरिद्वार स्थित पतंजलि योगपीठ के हजारों छात्र-छात्राओं के बीच किया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वामी रामदेव और आचार्य बालकृष्ण के साथ सूर्य नमस्कार करके इस अभियान के पंजीकरण का कार्य शुरू किया। शिवराज ने कहा कि मध्यप्रदेश में पहले से ही सूर्य नमस्कार को एक संपूर्ण यौगिक व्यायाम के रूप में विराट स्तर पर किया जाता रहा है। उन्होंने कहा कि ये अपने आप में एक ऐतिहासिक कीर्तिमान होगा, जिससे राष्ट्र का गौरव संपूर्ण विश्व में बढ़ेगा।

उल्लेखनीय है कि गीता परिवार से लेकर क्रीड़ा भारती, पतंजलि योगपीठ परिवार, हार्टफुलनेस संस्थान एवं नेशनल योगासन स्पोर्ट्स फेडरेशन पांच संस्थाओं के संयुक्त प्रयासों से अमृत महोत्सव को ऐतिहासिक यादगार एवं स्वर्णिम बनाने के लिए 75 करोड़ सूर्य नमस्कार का एक विराट संकल्प लिया गया है। इस कार्य में आयुष मंत्रालय और खेल मंत्रालय भी आगे आया है। शिक्षा मंत्रालय, संस्कृति और रक्षा मंत्रालय को भी इस कार्य में जोड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं। इस मौके पर स्वामी रामदेव ने कहा कि वैश्विक चुनौतियों का समाधान केवल योग और अध्यात्म के मार्ग और एकात्मकता के मार्ग से ही निकलेगा और ये जो महामारियां हैं, रोग हैं और दुख दर्द, झूठ, बेईमानी, विलासिता है इस संकार के अंदर उनका समाधान अष्टांग योग के मार्ग से निकलेगा।

वहीं, कार्यक्रम में मौजूद आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि योग भारतीय संस्कृति का मूल तत्व है और सूर्य नमस्कार के माध्यम से मातृभूमि का वंदन, स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर 75 करोड़ सूर्य नमस्कार के माध्यम से राष्ट्र में युवाशक्ति को योग एवं राष्ट्रप्रेम से जोड़ेगा।

इस तरह कर सकते हैं पंजीकरण
सूर्य नमस्कार में प्रतिभाग करने के लिए www.75suryanamaskar.com पर पंजीकरण किया जा सकता है और स्वामी विवेकानंद जयंती दिवस पर 12 जनवरी से रथ सप्तमी 7 फरवरी के बीच प्रतिभागी को 21 दिन तक 13 सूर्यनमस्कार करने होंगे। पंजीकरण व्यक्तिगत और संस्थागत दोनों प्रकार से हो सकते हैं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा, हिंदू पक्ष ने किया दावा-‘बाबा मिल गए’; कल कोर्ट में पेश होगी रिपोर्ट

नयी दिल्ली 16 मई 2022 । ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा हो गया है। तीसरे …