मुख्य पृष्ठ >> अंतर्राष्ट्रीय >> ज़ायेद मैडल तो बहानेबाजी है, फ्यूल ख़त्म होने वाली ख़बर छिपानी है

ज़ायेद मैडल तो बहानेबाजी है, फ्यूल ख़त्म होने वाली ख़बर छिपानी है

नई दिल्ली 27 अगस्त 2019 । दस किलो टमाटर की एवज में एक पाकिस्तानी अधिकारी ने बताया कि फ्यूल ख़त्म होने और चीन द्वारा गदहों की माँग को छिपाने के लिए ये पूरी साज़िश रची गई। 5 किलो अतिरिक्त टमाटर देने पर उसने बताया कि यूएई द्वारा पीएम मोदी को मैडल दिए जाने के बाद पाकिस्तानी पीएम इमरान ख़ान भी चीन से मैडल की माँग कर रहे हैं और इसके लिए वह कितने भी गदहे देने को तैयार हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनियाभर में अवॉर्ड्स मिल रहे हैं। पाकिस्तान को अंतरिक्ष से भी लताड़ ही नसीब हो रहा है। मोदी कई देशों के महत्वपूर्ण दौरे पर हैं जबकि इमरान ख़ान ट्विटर पर आरएसएस को गाली देने में लगे हुए हैं। कभी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री आवास को शादी के मंडप में बदल दिया जाता है तो कभी पाकिस्तान का राजनयिक कुवैत के अधिकारी की घड़ी चोरी करते हुए पकड़ा जाता है। चोरी-चकारी में लगे पाकिस्तानियों की हालत यह है कि जब वो विदेश यात्रा पर भी जाते हैं तो उन्हें होटल के कर्मचारियों से मिल कर ही संतुष्ट होना पड़ता है।

पाकिस्तानी सीनेट के अध्यक्ष सादिक़ संजरानी एक संसदीय दल के साथ यूएई के दौरे पर जाने वाले थे। सभी पाकिस्तानी सांसदों ने कई दिनों से सिर्फ़ इसीलिए खाना नहीं खाया था ताकि वे यूएई पहुँच कर भर पेट खा सकें। कई सांसदों को तो यूएई के आलीशान होटलों के कमरों और उसमे परोसे जाने वाले व्यंजनों के सपने भी आ रहे थे। लेकिन हाय रे किस्मत! संजरानी ने अचानक से बम फोड़ दिया। उन्होंने यूएई का दौरा रद्द कर दिया और सभी सांसदों का सपना धरा का धरा रह गया। हालाँकि, दौरा रद्द होने की असली वजह उन्होंने छिपा ली। हुआ यूँ कि शनिवार (अगस्त 24, 2019) को यूएई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने देश के सबसे बड़े सिविलियन अवॉर्ड जायेद मैडल से सम्मानित किया। ख़ुद क्राउन प्रिंस ने मोदी के गले में ‘ऑर्डर ऑफ़ जायेद’ नामक स्वर्ण मैडल पहनाया। अबुधाबी में हुई इस हलचल से इस्लामाबाद में भूकंप आ गया, जहाँ पाकिस्तानी मंत्रीगण इस बात पर बहस कर रहे थे कि संसदीय दल को यूएई जाने के लिए ख़र्चे का बंदोबस्त कैसे किया जाएगा? अब यूएई से ही रुपए माँग कर यूएई जाना संभव तो है नहीं क्योंकि यूएई चीन नहीं है।

इसी बैठक के दौरान इस्लामाबाद में झटके महसूस किए गए। बस पाकिस्तान ने इसी भूकंप का बहाना बना कर अपनी समस्या भी सुलझा ली। बात ये थी कि पाकिस्तान का संसदीय दल भी तैयार था और उनके यूएई जाने के लिए एक चीनी विमान का बंदोबस्त भी कर लिया गया था लेकिन उस विमान में फ्यूल नहीं था। ऑपइंडिया सटायर विभाग के ख़ुफ़िया सूत्रों के अनुसार, जब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के सचिव के नौकर को फोन किया तो उसने फ्यूल देने के लिए एक बड़ी शर्त रख दी।

चीन की शर्त यह थी कि वह यूएई जाने और वहाँ से आने के लिए पाकिस्तानी सांसदों के विमान को फ्यूल तभी मुहैया कराएगा जब उसे तत्काल 10,000 गदहे मुहैया कराए जाएँगे। इमरान ख़ान ने बुझे मन से जनरल बाजवा को अपना दुखड़ा सुनाया। बाजवा ने साफ़-साफ़ कह दिया कि उनके पास थोड़ा-बहुत फ्यूल है तो लेकिन उसका उपयोग लश्कर और जमात के लोग करने वाले हैं। “नहीं, नहीं। घुसपैठ की कोशिशें और आतंकवादी प्रक्रियाओं में रुकावट नहीं आनी चाहिए।“- इमरान ख़ान ने ऐसा कह कर निकल लिया।

पाकिस्तान के कई अधिकारी और नेता मिल कर भी 100 से अधिक गदहे नहीं पकड़ पाए। अंत में पाकिस्तानी सीनेट के अध्यक्ष ने बुझे मन से अपना यूएई दौरा कैंसल करने की घोषणा की। अब मीडिया के सवालों का जवाब तो देना था। और आजकल इमरान ख़ान अपने घर के खाने में निकलने वाली खामी को भी कश्मीर से जोड़ते हैं। जब तक वह अपना घर-परिवार से लेकर पाकिस्तान के अन्य मुद्दों को कश्मीर से जोड़ कर उसके लिए पीएम मोदी और संघ को गालियाँ नहीं देते हैं, तब तक उन्हें खाना नहीं पचता है।

इसीलिए पाकिस्तानियों ने इस मुद्दे को भी मोदी से जोड़ा। पाकिस्तान ने यूएई से नाराज़गी जताई कि उसने पीएम मोदी को इतना बड़ा सम्मान क्यों दिया? बस इसी ख़बर का बहाना बना कर पाकिस्तानी सांसदों ने अपना यूएई दौरा रद्द कर दिया। इससे फ्यूल वाली बात भी छिप गई और गदहे वाली बात भी। दस किलो टमाटर की एवज में एक पाकिस्तानी अधिकारी ने बताया कि फ्यूल ख़त्म होने और चीन द्वारा गदहों की माँग को छिपाने के लिए ये पूरी साज़िश रची गई। 5 किलो अतिरिक्त टमाटर देने पर उसने बताया कि यूएई द्वारा पीएम मोदी को मैडल दिए जाने के बाद पाकिस्तानी पीएम इमरान ख़ान भी चीन से मैडल की माँग कर रहे हैं और इसके लिए वह कितने भी गदहे देने को तैयार हैं।

खैर, इमरान ने यूएई में कार्यरत सभी पाकिस्तानी राजनयिकों को बता दिया है कि इस बार चोरी ऐसी करनी है कि किसी को पता भी न चले। और हाँ, उन्हें आगाह कर दिया गया है कि पाकिस्तानी राजनयिक द्वारा कुवैती अधिकारी की घड़ी चोरी किए जाने का वीडियो वायरल हो चुका है, इसीलिए ये काम अब होशियारी से कैमरे से बचते हुए करना पड़ेगा। हो सकता है पाकिस्तान के प्रधानमंत्री अपनी चौथी शादी की भी घोषणा जल्द ही करें और इस बार उनकी पत्नी विदेशी होगी।

कहा जा रहा है कि पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए पीएम आवास को विवाह भवन बना देने वाले इमरान ख़ान किसी विदेशी लड़की से इसीलिए शादी करना चाहते हैं ताकि दहेज़ में कुछ रुपए और संपत्ति आए। इससे पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था में नई जान फूँकने में मदद मिलेगी। इमरान हर वो कोशिश करेंगे, जिससे पाकिस्तान में टमाटरों के दाम कम हों। वैसे, पाकिस्तान के सांसदों ने जब सुना कि यूएई दौरा रद्द हो गया है तो कइयों को हार्ट अटैक आते-आते बचा है। खैर, ऑपइंडिया के ख़ुफ़िया सूत्र ट्रक में टमाटर लेकर पाकिस्तानी अधिकारियों के संपर्क में हैं और जैसे ही कोई नई जानकारी मिलेगी, आप तक पहुँचाई जाएगी।

अमेरिका की पाकिस्तान को चेतावनी, इस वक्त भारत से न ले कोई पंगा

अमेरिका (America) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने एक बार फिर पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) को चेतावनी देते हुए सीमा (LoC) पर घुसपैठ रोकने की हिदायत दी है. ट्रंप ने पाकिस्तान से कहा है कि वह भारत से इस वक्त किसी तरह का पंगा न ले. इसी के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति ने पाकिस्तान से कहा है कि वह भारत पर हमला करने वाले सभी आतंकी समूहों पर रोक लगाए और उन्हें पूरी तरह से बंद करने में भारत की मदद करे.

ट्रंप सरकार की ओर से कहा गया है कि जी-7 समिट के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कश्मीर मुद्दे पर चर्चा कर सकते हैं. इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी कश्मीर पर अपनी सरकार के प्लान की भी चर्चा कर सकते हैं. पाकिस्तान लगातार कश्मीर मुद्दे को मानवाधिकारी उल्लंघन से जोड़ रहा है. पाकिस्तान इस मुद्दे पर दुनिया से मदद की गुहार लगा रहा है लेकिन कोई भी देश उसका साथ देने को तैयार नहीं है. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी-7 समिट में हिस्सा लेने के लिए फ्रांस पहुंच गए हैं. इसी बीच फ्रांस ने कहा है कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय मामला है और दोनों ही पक्षों को राजनीतिक वार्ता से मतभेदों को सुलझाना चाहिए और तनाव बढ़ाने वाला कोई भी कदम उठाने से बचना चाहिए. पाकिस्तान सरकार पर कश्मीर को बेचने का आरोप

पाकिस्तान सरकार पर अंतरराष्ट्रीय साजिश के तहत कश्मीर को बेचने का आरोप लगाया गया है और सरकार को गिराने के लिए जल्द ही इस्लामाबाद को घेरने की चेतावनी गई है. यह आरोप और किसी ने नहीं बल्कि पाकिस्तान के संयुक्त विपक्ष के मल्टी-पार्टी कॉन्फ्रेंस ने पाकिस्तान सरकार पर अंतरराष्ट्रीय साजिश के तहत कश्मीर को बेचने का आरोप लगाया है और सरकार को गिराने के लिए जल्द ही राष्ट्रीय राजधानी को घेरने की चेतावनी दी है.

भारत पर मंडराया खतरा, पाक ने कहा भारत को समझाने का मतलब नहीं, अब कुछ भी हो सकता है

जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 की समाप्ति के बाद पाकिस्तान को समझ नहीं आ रहा है कि क्या किया जाए। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री लगातार भारत सरकार को कोस रहे हैं। वे चाहते हैं कि दुनिया के दूसरे देशों से उन्हें इंटरनेशनली सपोर्ट मिले लेकिन ऐसा नहीं हो पा रहा है। लेकिन अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध की चेतावनी देकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को ब्लैकमेल करना चाहते हैं। इसी कड़ी में इमरान खान ने एक बड़ा बयान दिया है और कहा कि दो परमाणु सम्पन्न देश आमने सामने हैं और अब कुछ भी हो सकता है।

‘भारत से बात करने का अब कोई मतलब नहीं’

इमरान ने अंग्रेजी अखबार ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ को दिए एक इंटरव्यू में कहा है कि अब भारत से बात करने का कोई मतलब नहीं है क्योकिं भारत ने कई बार पाकिस्तान की शांति वार्ता को ठुकरा दिया है। उन्होंने कहा कि जब 2 परमाणु सम्पन्न देश आँखों में आँखे डाल कर खड़े हों तो कुछ भी हो सकता है । इमरान ने कहा, ‘यह दुनिया के लिए चिंता का विषय होना चाहिए।’

पाकिस्तान की सरकार कश्मीर के मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय समर्थन न मिलने से बौखलाई हुई है। इसलिए वहां के मंत्री ही युद्ध की धमकी दे रहे हैं और सेना भी कई फर्जी खबरें फैला रही है। लेकिन इनका भी पाकिस्तान को कोई फायदा नहीं मिला है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …